Hasgulae 126 150

Wikibooks से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चुटकुला #126 आशु

मै

एक बार एक सरदार जी के पास फोन आया

सरदार जी ने पूछा कौन ? ऊधर से आवाज आई : मै बोल रहा हू

सरदार जी : हा हा हा हा हा ..... कमाल हो गया ऊधर से भी मै और इधर से भी मै....

चुटकुला #127 जयचरण खाण्डे

कंडेक्टर और ड्राईवर

टीचर रामू से पूछता है:-कंडेक्टर और ड्राईवर मे क्या अंतर है?

रामू कहता है:-यदि कंडेक्टर सो गया तो किसी का टिकट नही कटेगा और ड्राईवर सो गया तो सबका टिकट कट जायेगा|

चुटकुला #128 जयचरण खाण्डे

लड़कीयो का तिरछी निगाह

उन्होने तिरछी निगाहो से देखा मै मदहोश हो गया,

उनकी आँख ही तिरछी थी मै बेहोश हो गया!

चुटकुला #129 जयचरण खाण्डे

दोस्ती

आपकी दोस्ती हम निभायेंगे,

आप रूठना हम मनायेंगे,

मगर मान जाना वरना,

बोरी मे भरकर नाला मे फेक आयेंगे!

चुटकुला #130 जयचरण खाण्डे

खिलाड़ी

विदेशी खिलाड़ी (भारतीय खिलाड़ियो से):-तुम लोगो के देश मे घास अच्छी नही है!

भारतीय खिलाड़ी:-तुम लोग यहाँ खेलने आये हो या घास चरने?