आईटीआई ट्रेड ज्ञान (आटोमोबाइल)

Wikibooks से
Jump to navigation Jump to search
  1. वह ताप जिस पर गर्म करने पर तेल लो पकड़ले और जल जाये है वह फ़्लैश पॉइंट' है।
  2. इंजन के निर्गम तंत्र (एग्जास्ट सिस्टम) में आवाज कम करने के लिए लगाए गए यंत्र को मफलर कहते हैं।
  3. डीजल तेल के जलने के समय सीटेन नंबर से प्रस्फोटन कम करने की क्षमता का पता चलता है।
  4. पेट्रोल इंजन सिलेंडर में कार्बन का जमाव संपीड़न अनुपात (कम्प्रेसन रेस्यो) में वृद्धि कर देगा।
  5. इंजन शाफ्ट पर प्राप्त शक्ति को 'ब्रेक शक्ति' कहते हैं।
  6. पेट्रोल इंजन का वायु ईंधन अनुपात कारबुरेटर द्वारा नियंत्रित किया जाता है।
  7. पेट्रोल इंजन निम्न गति पर चलाने अथवा आइड्लिंग के लिए इंजन को गाढ़ा मिश्रण की आवश्यकता होती है।
  8. चार स्ट्रोक सी.आई. इंजन की सैद्धान्तिक दक्षता सबसे अधिक होती है।
  9. ऑटोमोबाइल में प्रयोग करने के लिए साधारणत लेड एसिड प्रकार की बैटरी प्रयोग की जाती है।
  10. स्टोरेज बैटरी के पास पास लगे सेलो के स्थानों को जोड़ने की सीसे कि पट्टी सेल कनेक्टर कहलाती है।
  11. शाफ़्ट के दोनों सिरों पर रोलर बियरिंग प्रयोग करते हैं।
  12. डीजल इंजन के शाफ्ट का चक्कर टेकोमीटर से नापते हैं।
  13. बैटरी इग्निशन सिस्टम इंजन की स्पीड बढ़ाने पर स्पार्क की तीव्रता कम होती है।
  14. शक्ति मापने की ईकाई वाट है।
  15. फ्लाई व्हील, क्रैंक शाफ्ट पर यूनिफॉर्म टार्क नियमित करता है।
  16. अंतर्दहन इंजन का इंजन सिंगल एक्टिंग होता है।
  17. गजन पिन इंजन के स्माल इंड तथा पिस्टन मुख्य भाग को जोड़ता है।
  18. वायु तथा पेट्रोल का थ्योरेटिकिल उचित मिश्रण 15 : 1 होता है।
  19. सिलेंडर के अन्दर उत्पन्न शक्ति को सूचक शक्ति कहते हैं।
  20. ऑटोमोबाइल में 12 V वोल्टेज वाली बैटरी प्रयोग की जाती है।
  21. अगले हब के केंद्र अंदर से गाड़ी के पिछले हब के केंद्र की दूरी को व्हील बेस कहते हैं।
  22. बिग एंड वायरिंग में कांस्य धातु प्रयोग होती है।
  23. निकास शोर को कम करने के लिए प्रयुक्त युक्ति को मफलर कहते हैं।
  24. डीजल इंजन में लुब्रिकेंट घर्षण घिसाव कम करने के लिए प्रयोग होता है।
  25. स्पार्क इंजन इगनीशन क्वायल का कार्य स्पार्क प्लग को उच्च वोल्टता देना होता है।
  26. कनेक्टिंग रोड का छोटा सिरा पिस्टन से जुड़ा रहता है।
  27. डीजल इंजन की थर्मल दक्षता 34% होती है।
  28. पिस्टन के लिए पावर स्ट्रोक की पावर प्राप्त होती है।
  29. पट्रोल की इग्नीशन क्वालिटी ऑकटेन नम्बर से जानी जाती है।
  30. बिजली के बहते करंट की मात्रा नापने की इकाई एंपियर है।
  31. आइसो ओक्टेन का ओक्टेन नंबर 100 होता है।
  32. डीजल इंजन सिलेंडर में केवल वायु माध्यम संपीडित किया जाता है।
  33. इलेक्ट्रोलाइट का लेबिल प्लेट के शीर्ष से 10 मिमी ऊपर रहता है ।
  34. माइका एक पारदर्शी खनिज पदार्थ है जो तुरन्त पतरे-पतरे हो जाता है।
  35. जनरेटर और बैटरी के बीच चार्जिंग सर्किट में एमीटर जोड़ा जाता है।
  36. सामान्य मोटरगाड़ियों में प्रेस्ड स्टील डिस्क प्रकार के रिम प्रयोग होते है ।
  37. इंजन के बार बार अत्यधिक गर्म होने का करण फैन बेल्ट का स्लिप करना है.
  38. सुपर चार्जिंग की आवश्यकता तब पड़ती है जब अत्यधिक ऊंचाई पर जहां वायु का घनत्व कम होता है।
  39. ढलुवा सीसे का ढांचा प्लेट ग्रिड जिसमें स्टोरेज बैटरी का मसाला लगा रहता है।
  40. टायर व सड़क की सतह की घर्षण की स्थिति को ट्रैक्शन कहते हैं।
  41. जब पिस्टन इंजन के ऊपरी भाग में पहुँचता है तो इसे टी.डी.सी. कहते हैं
  42. सी.आई. इंजन बहुत पतले मिश्रण पर कार्य कर सकते हैं।
  43. डीजल ऑयल की इग्नीशन क्वालिटी सीटेन नम्बर से जानी जाती है।
  44. बैटरी को चार्ज करने के लिए डी.सी. की आवश्यकता पड़ती है।
  45. जनरेटर, मैकेनिकल एनर्जी को इलेक्ट्रिकल एनर्जी में बदलता है।
  46. किसी भी मापक यंत्र में बने पैमाने या चिन्हों को निश्चित करना या ठीक करना कैलीबेट कहलाता है।
  47. आई. सी. इंजन के टैपट तथा वाल्व के मध्य निकासी मापने के लिए फिलर गेज का प्रयोग करते है।
  48. सिलेंडर में पिस्टन के दाब के कारण होने वाली हानि या क्षय, ब्लोबार्ड कहलाता है।
  49. डीजल इंजन का पिस्टन लुब्रिकेटिंग ऑयल द्वारा ठंडा किया जाता है।
  50. डीजल इंजन का संपीड़न अनुपात 16 से 22 तक परिवर्तनशील होता है।
  51. बाह्य स्रोत इग्नीशन ऊर्जा के बिना ईंधन के आग पकड़ने की क्रिया ऑटो इगनिशन कहलाती है
  52. एक यंत्र जैसे कि कार्बूरेटर में लगा वाल्व ताकि आने वाली वायु की मात्रा पर रोक लगाई जा सके चौक कहलाता है।
  53. पिस्टन का रिंग सिलेंडर में लुब्रिकेशन तथा कंप्रेशन के लिए प्रयुक्त होता है।
  54. यदि पेट्रोल इंजन में डीजल प्रयोग किया जाए तो इंजन नहीं चलेगा।