शिक्षा मनोविज्ञान - ०१

विकिपुस्तक से
Jump to navigation Jump to search
<-- सामान्य ज्ञान भास्कर पर लौटें।


  • मनोविश्लेषणवादी संप्रदाय के प्रवर्तक कौन है?
विलियम जेम्स
विलियम वांट
रोबोट गेम
फ्रायड ✔
  • थार्नडाइक का गौण नियम कौन सा नहीं है?
बहु प्रतिक्रिया का नियम
मानसिक विन्यास का नियम
आंशिक क्रिया का नियम
प्रभाव का नियम ✔
  • शास्त्रीय अनुबंधन के अधिगम का नियम कौन सा नहीं है?
समय नियम
तीव्रता नियम
एकरूपता नियम
आत्मीकरण का नियम ✔
  • किस अधिगम के सिद्धान्त पर आधारित भय संबंधी मानसिक रोगों का उपचार हो सकता है
शास्त्रीय अनुबंधन का सिद्धांत ✔
पुनर्बलन का सिद्धांत
क्रिया प्रसूत का सिद्धांत
जेरोम ब्रूनर का सिद्धांत
  • निम्न में से अधिगम की अवस्था नहीं है ?
विधि निर्माण आधारित अधिगम
प्रतिमा आधारित अधिगम
चिह्न आधारित अधिगम
कर्म पर आधारित अधिगम ✔
  • संरचनात्मक अधिगम के लिए आवश्यक है?
शिक्षक उचित रूप से ज्ञान प्रदान करें
विद्यार्थियों के समूह बनाकर कार्य सौंपा जाए
विद्यार्थी पूर्व ज्ञान व नवीन ज्ञान की अंतक्रिया करें
उपरोक्त सभी ✔
  • किसको प्रशिक्षण द्वारा व्यवहार में संशोधन की प्रक्रिया मानना है?
शिक्षण
अभिप्रेरणा
अधिगम ✔
निर्देश
  • संरचनावादी संप्रदाय के प्रवर्तक कौन है ?
विलियम मेकडुगल
टोलमैन
मिक्स वर्दी में
विलियम वुण्ट ✔
  • निम्न में से कौन सा कथन अधिगम की प्रक्रिया को उचित ढंग से प्रस्तुत करता है?
सामाजिक व्यवहार में परिवर्तन
व्यवहार में परिवर्तन ✔
कक्षा कक्ष में अधिगम
संवेदना में परिवर्तन
  • छात्र समूह में चर्चा कर समस्या का हल निकाले शिक्षक सुविधा प्रदाता की भूमिका में हो यह उपागम है
सिस्टम उपागम
मल्टीमीडिया उपागम
निर्मित वाद उपागम ✔
मृदुउपागम
  • किसी के दूर से पुकार ने पर शीघ् उसके पास पहुंचते समय जो अधिगम होता है उसे कहा जाता है।
संकेत अधिगम
उत्तेजना अनुक्रिया अधिगम
क्षृखला अधिगम
मौखिक साहचर्य अधिगम ✔
  • व्यक्ति द्वारा जब किसी वस्तु को देखकर या स्पर्श कर ज्ञान प्राप्त किया जाता है तो वह सीखना कहलाता है
प्रत्यक्षात्मक सीखना ✔
ज्ञानात्मक सीखना
करके सीखना
कोई नहीं
  • एक विद्यार्थी कारण-परिणाम का सम्बंध समझ चुका है, में किस शैक्षिक उद्देश्य की प्राप्ति कर तक पहुंच चुका है।
अवबोध ✔
विश्लेषण
संश्लेषण
मूल्यांकन
  • अनुकरण को कहा जा सकता है-
शिक्षा का मध्य
शिक्षा का प्रारम्भ ✔
शिक्षा का भविष्य
शिक्षा का समापन
  • यदि ज्ञान को एक संरचनात्मक प्रतिमान में न प्रस्तुत किया जाए तो वह शीघ्र ही-
स्मृति में धारण हो जाएगा
विस्मृत हो जायेगा ✔
परिपक्व हो जाएगा
स्थायी हो जायेगा
  • अनुबंधन के गोचर की शुरुआत ……… के द्वारा की गई थी।
कोहलर
लेविन
थानडाइक
पावलव ✔
  • जेरोम ब्रूनर का अधिगम की कितनी अवस्थाएं बताएं हैं
1
2
3 ✔
4
  • अनुभवजन्य अधिगम सिद्धांत के प्रवर्तक हैं
गुथरी
लेविन
काल रोजर्स ✔
हल
  • अल्बर्ट बंडूरा के सामाजिक अधिगम सिद्धांत की कितनी अवस्थाएं हैं
2
4 ✔
6
5
  • रॉबर्ट देने के अनुसार अधिगम के कितने प्रकार है
5
6
7
8 ✔
  • कौन सा व्यक्तिगत विभिन्नता का कारण नहीं है?
वंशानुक्रम
वातावरण
परिपक्वता
निर्देशन ✔
  • अंतर्दृष्टि या सूझ द्वारा सीखना सिद्धांत किसने दीया?
कुर्त लेविन
गुथरी
बंडूरा
कोहलर ✔
  • निम्न में से संज्ञानात्मक विकास की कौन सी अवस्था का वर्णन ब्रूनर द्वारा नहीं किया गया है
क्रियात्मक प्रतिनिधान
प्रतिभा प्रतिनिधि
इंद्रिय गतिकाल ✔
प्रतीकात्मक प्रतिनिधान
  • छात्रों में सीखने की योग्यता निर्भर करती है?
सामाजिकता
संस्कृति
परिवार
व्यक्तिगत भिन्नता ✔
  • किशोरों में द्वन्द्व उभरने का प्रमुख कारण है -
पीढ़ियों का अन्तर
अवसरों की प्रतिकूलता ✔
निराशा तथा निस्सहायता
किशोरवस्था में स्वप्न दर्शन
  • पाठ्यचर्चा है --
शिक्षण पद्धति एवं पढ़ाई जाने वाली विषय – वस्तु
विधालय का सम्पूर्ण कार्यक्रम ✔
मूल्यांकन प्रक्रिया
कक्षा में प्रयुक्त पाठ्य-सामग्री
  • डिस्लेक्सिया संबंधित है -
मानसिक विकार
गणितीय विकार
पठन विकार✔
व्यवहार संबंधी विकार
  • टर्मन के अनुसार बुद्धि-लब्धि होती हैं -
120 – 140
110 – 135
90 – 110✔
80 – 90
  • जब बच्चें को कोई नियम या सिद्धांत सिखाना हो तो अध्यापक प्रयोग करेगा -
आगमन विधि✔
निगमन विधि
विश्लेषण विधि
कहानी कथन विधि
  • श्यामपट्ट पर लिखते समय सबसे महत्वपूर्ण हैं -
अच्छा लेख ✔
लिखने में स्पष्टता
बड़े अक्षर
छोटे अक्षर
  • भूल भुलैया परीक्षण के लिए उपयुक्त आयु है -
10 से 16 वर्ष
6 से 14 वर्ष
1 से 3 वर्ष
5 से 10 वर्ष ✔
  • समायोजन की प्रकिया है -
स्थिर
गतिशील ✔
स्थानापन्न
अवरोधी
  • शिक्षा मनोविज्ञान अध्ययन करता है -
प्रेरणा व पुनर्बलन के प्रभाव का अध्ययन
वंशानुक्रम व वातावरण का अध्ययन ✔
ध्यान वंश रूचि का अध्ययन
वैयक्तिक भेदों का अध्ययन
  • छोटी कक्षाओं में शिक्षक की सबसे महत्त्वपूर्ण विशेषता है -
पढ़ाने की उत्सुकता
धैर्य व दृढ़ता ✔
शिक्षा विधियों का ज्ञान
मानक भाषा का ज्ञान
  • “बालक में सामाजिक भावना का विकास जन्मजात होता है।” आप इस कथन से -
पूर्णत:सहमत है
सम्भवत: सहमत है
असहमत है ✔
कुछ सीमा तक सहमत है
  • छात्रों में परस्पर सहयोग की भावना विकसित करने के लिए आप-
इसके लाभ बनायेंगे
अन्य शिक्षकों के साथ मिलकर काम करेंगे ✔
सहयोग भावना की कहानी सुनाएंगे
सहयोग न करने वाले को दण्डित करेंगे
  • बच्चों की वृद्धि के अनुरूप, उनकी रुचियाँ -
बहुमुखी हो जाती है ✔
सुदृढ व सीमित हो जाती है
अनियमित दिशा मे चली जाती है
पहले जैसी रहती है
  • शिक्षा का सबसे बड़ा उदेश्य हैं -
छात्र धन कमा सके
ज्ञानार्जन कर सके ✔
बेहतर जीवन जिए
सम्मान पा सके
  • एक बालक को संतुलन, सुधरेपन और स्वच्छता का अनुपालन करता है, तो यह सूचक है -
रूचि का
अभिवृति का
प्रशंसा का✔
मूल्य का
  • स्वभाव और प्रकृति से छोटे बच्चे होते हैं -
डरपोक तथा संकोची
निर्भीक तथा स्वंतत्र
शांत तथा सक्रिय
सक्रिय तथा जिज्ञासु ✔
  • छात्र उस शिक्षक को पसंद करते हैं जो -
समस्याएं सुनता है ✔
नाराज नही होता है
समय का पाबंद है
सुन्दर है
  • प्रौढ़ शिक्षा के लिए आयु वर्ग है -
6 -16 वर्ष
12 -18 वर्ष
18- 50 वर्ष
15 – 35 वर्ष ✔
  • समाज की उन्नति का मूल है -
बाल – बालिका शिक्षा एकसमान हो✔
बालिका शिक्षा को कम महत्व मिलें
बालिका शिक्षा अलग विधालय में हो
केवल महिला अध्यापक हो
  • छोटे बच्चे की ज्ञानेंद्रियों को क्रियाशील व सक्षम बनाने हेतु
उनके समक्ष सामग्री रखकर निरिक्षण करवाएंगे
वस्तु उठाने – रखने का काम सौंपेंगे
उनको क्रियाशील रखेंगे ✔
कक्षा-कक्षमें शांत बैठने के लिए कहेंगे
  • कक्षा में श्रेष्ठ अनुशासन की कसौटी है -
शान्ति में आवेष्टित कक्षा
कक्षा में शान्तिपूर्ण शिक्षण प्रकिया ✔
कक्षा में अपेक्षित सहभागिता
शिक्षक – छात्रों का आक्रमक व्यवहार
  • अनौपचारिक शिक्षा की व्यवस्था की गई है -
6 – 11 आयु वर्ग
9 – 14 आयु वर्ग
15 – 35 आयु वर्ग
कोई आयु सीमा नही है ✔
  • छात्रों मे सामाजिक चेतना विकसित की जा सकती है -
अध्यापक के भाषण से
उनके साथ विचार विमर्श करने से
पसंदीदा पुस्तक पढ़ाने से
समाचार – पत्रिका पढ़ाने से✔
  • लम्बे और कठिन शब्दों का उच्चारण करवाने के लिए आप -
ऐसे शब्द बार – बार बुलवाएंगे
शब्दों को खण्डों में बाँटकर बुलवाएंगे
मिलते-जुलते उच्चारण वाले शब्द पहले बुलवाएंगे
A व B दोनों✔
  • राष्ट्रीय साक्षरता मिशन की देन है --
कोठारी कमेटी
राधाकृष्णन आयोग
राष्ट्रीय शिक्षा नीति ✔
मुदालियार आयोग
  • कोई छात्र आपके प्रश्नों के उत्तर नही देता तो आप -
स्वयं बता देंगे
सहायक पुस्तक से मदद लेने को कहेंगे
अन्य बच्चो से मदद लेने को कहेंगे ✔
उत्तर न देने का कारण जानेंगे
  • माध्यमिक छात्रों के लिए स्वकेन्द्र परीक्षा प्रणाली उपयुक्त है क्योंकि -
विधालय से दूर नही जाना पड़ता ✔
नकल में सुविधा होती है
अपने केन्द्र पर अनुशासित रहते है
दूसरे परीक्षा केन्द्र परी छात्र निराश हो जाते है
  • कक्षा में अध्यापक को अधिकाधिक प्रश्न पूछने चाहिये क्योंकि -
प्रधानाचार्य प्रसन्न होते हैं
कक्षा-कक्ष में अनुशासन रहता है
छात्रों को अभिव्यक्ति का अवसर मिलता है ✔
शिक्षक को अभिव्यक्ति का अवसर मिलता है
  • जो प्रेरक वातावरण के संपर्क में आने से विकसित होते हैं, वे है -
जन्मजात प्रेरक
प्राकृतिक प्रेरक
अर्जित प्रेरक
उपरोक्त सभी ✔
  • व्याख्यान देते समय कोई उदण्ड छात्र बाधा उत्पन्न करता है तो आप -
उसे दण्ड देंगे
कक्षा से बाहर निकाल देंगे
चुप रहने के लिए कहेंगे
धैर्यपूर्ण उसकी बात सुनेंगे ✔
  • बच्चों में व्यक्तिगत शैक्षिक विभिन्नता का प्रमुख कारण है -
वंशानुक्रम
वातावरण
बुद्धि का अन्तर
वंशानुक्रम तथा वातावरण ✔
  • अध्यापक कक्षा में प्रवेश करते ही छोटे – छोटे प्रश्न पूछता है, वह बच्चों का कौनसा परीक्षण कर रहे है -
मौखिक ✔
लिखित
प्रायोगिक
क्रियात्मक
  • अध्यापक छात्रों के व्यक्तिगत विभेद किस प्रकार सर्वोत्तम ढंग से जान सकता है -
निबंध लिखवाकर
वाद – विवाद प्रतियोगिता से
परीक्षा परिणाम से
मनोवैज्ञानिक परीक्षण से✔
  • किस विधि में अध्ययनकर्ता, बच्चों या माता-पिता या अध्यापक से मिलकर विविध प्रश्न पुछता है -
साक्षात्कार विधि ✔
वैयक्तिक विधि
निरीक्षण विधि
प्रयोगात्मक विधि
  • कम्प्यूटर शिक्षा की सिफारिश किस आयोग ने की -
नई शिक्षा नीति ✔
कोठारी कमेटी
बेसिक शिक्षा समिति
यशपाल समिति
  • आपका स्थानांतरण ऐसे क्षेत्र में होता है जहां की भाषा आप समझ नही सकते, तो आप -
स्थानांतरण का प्रयास करेंगे
जो होगा देखा जाएगा
भाषा सीखने का प्रयास करेंगे✔
अधिकाधिक मौन रहेंगे
  • शिक्षण कार्य में दैनिक जीवन की घटनाओं कराया समावेश करने से -
छात्र प्रसन्न रहते है
अध्यापक को ज्यादा परिश्रम नही करना पड़ता
शिक्षण रूचिकर, सरल तथा उपयोगी बनता है ✔
कक्षा में शान्ति बनी रहती है
  • आजकल छोटे बच्चों पर पुस्तकों का बोझ अधिक होता है इसके हानिकारक होने के संबंध में आपकी राय है -
छात्र प्रत्येक का अध्ययन नही कर सकते
अधिक भार से मानसिक विकास अवरुद्ध होता है ✔
अध्ययन के प्रति अरुचि उत्पन होती है
कंधे की हड्डी पर कुप्रभाव पड़ता है
  • छात्रों में श्रम के महत्व के विकास हेतु -
शिक्षक को स्वयं श्रम करना चाहिए
भाषण देना चाहिए
छात्रों को अवसर देना चाहिए ✔
श्रमजीवी लोगोके उदाहरण देने चाहिए
  • परीक्षा समीप आने पर पाठ्यक्रम पूरा न होने की दशा मे अध्यापक को चाहिए कि -
छात्रों को स्वयं पाठ्यक्रम पूरा करने को कहेंगे
कुछ चुनिंदा प्रश्न करवा देंगे
घर बुलाकर पाठ्यक्रम पूरा करेंगे
अतिरिक्त समय देकर पाठ्यक्रम पूरा करेंगे ✔
  • निम्न में से कौन-सी छात्रों को प्रेरित करने वाली विधि है?
प्रशंसा✔
दण्ड
डाँटना
ज्यादा अंक देना
  • ‘शिक्षा’ शब्द समानार्थी है-
निर्देश का
विद्यालयीकरण का
प्रशिक्षण का
उपरोक्त सभी✔
  • स्वतंत्र भारत के प्रथम शिक्षा मंत्री कौन थे?
जवाहरलाल नेहरू
हुमायूँ कबीर
मौलाना अबुल कलाम आज़ाद ✔
सरोजिनी नायडू
  • कक्षा में छात्रों की संख्या कम क्यों होनी चाहिए?
छात्र पर शिक्षक के व्यक्तिगत ध्यानाकर्षण हेतु। ✔
भीड़ कम करने हेतु
अधिक फीस प्राप्त करने हेतु।
इनमें से सभी।
  • प्रतिभाशाली बालक की क्या विशेषता होती है?
अध्ययन में अरुचि
सेवाभाव
मानसिक प्रक्रिया की तीव्रता ✔
पर्यटन में रूचि
  • भारत के संविधान में किस धारा के अंतगर्त प्राथमिक शिक्षा को नि:शुल्क एवं अनिवार्य बनाने का प्रावधान है?
धारा 33
धारा 24
धारा 45 ✔
धारा 13
  • निम्नलिखित में से कौन-सा प्रत्यय पर्यावरण से प्रभावित होता है?
बुद्धि
शारीरिक वृद्धि
स्वभाव ✔
उपरोक्त सभी
  • निम्नलिखित में से किस कारण से बालक में कुण्ठा जन्म लेती है?
व्यक्तिगत अक्षमता के फलस्वरूप✔
प्रोत्साहन के अभाव के परिणामस्वरूप
अभिप्रेरकों के संघर्ष के फलस्वरूप
इनमें से कोई नहीं
  • निम्न में से कौन-सा एक राष्ट्रीय एकता में बाधक तत्त्व नहीं है?
भाषावाद
प्रकृतिवाद ✔
जातिवाद
सम्प्रदायवाद
  • किस परीक्षण में विश्वसनीयता अधिक होती है?
निबन्धात्मक
संक्षिप्त प्रश्न परीक्षण
वस्तुनिष्ठ परीक्षण ✔
इनमें से कोई नहीं
  • ‘परिवार’ शिक्षा का किस प्रकार का साधन है?
औपचारिक साधन
अनौपचारिक साधन ✔
औपचारिकेत्तर साधन
इनमें से कोई नहीं
  • विद्यालय का कार्य होता है-
संस्कृति का संरक्षण
संस्कृति का परिष्करण
संस्कृति के नये प्रतिरुपों का निर्माण
इनमें से सभी✔
  • किसी वर्ग का मान जिसकी आवृति सबसे अधिक होती है, उसे क्या कहते हैं?
मध्यमान ✔
बहुलांक
माध्य
मध्यांक
  • निरौपचारिक शिक्षा का साधन नहीं है-
सिनेमाघर
कक्षा शिक्षण ✔
टी.वी
परिवार
  • निम्नलिखित में से कौन-सी विधि प्रक्षेपण विधि के अंतर्गत आती है?
मूल्यांकन विधि
कथाबोध विधि
साक्षात्कार विधि
उपरोक्त सभी✔
  • नारी शिक्षा के क्षेत्र में क्या समस्या है?
सहशिक्षा की समस्या
स्त्री शिक्षा में अपव्यय
शिक्षिकाओं की समस्या
उपरोक्त सभी✔
  • सर्वप्रथम खुला विश्वविद्यालय की स्थापना कब की गई थी?
1972 – भारत में
1969 – अमेरिका में
1970 – इंग्लैण्ड में ✔
1969 – रूस में
  • “ऑपरेशन ब्लैक बोर्ड’ में किस स्तर की शिक्षा के साधन उपलब्ध कराने की बात कही गयी है?
प्राथमिक शिक्षा ✔
माध्यमिक शिक्षा
उच्च शिक्षा
उपरोक्त सभी
  • शैक्षिक अवसरों की समानता के लिए किस आयोग ने संस्तुति की थी?
माध्यामिक शिक्षा आयोग, 1952
भारतीय शिक्षा आयोग, 1964✔
यशपाल समिति 1992
नई शिक्षा नीति 1986
  • बालक को सामाजिक व्यवहार की शिक्षा दी जा सकती है-
पाठ्यक्रम द्वारा
विद्यालय में सामाजिक और सांस्कृतिक गतिविधियों द्वारा✔
अनुशासन प्रक्रिया द्वारा
कक्षा शिक्षण द्वारा
  • राष्ट्रीय शिक्षा नीति, 1986 में शिक्षा का निम्नलिखित में से कौन-सा स्वरूप वर्णित है?
10+2
10+2+3 ✔
10+3+2
10+1+4
  • विद्यालय के संचालन के लिए आवश्यक है-
विद्यालय संगठन
विद्यालय प्रबन्धन
विद्यालय प्रशासन
उपरोक्त सभी✔
  • भारत में राष्ट्रीय शिक्षा पाठ्यक्रम में समाहित किया गया है …
स्वतंत्रता आंदोलन का इतिहास
सांविधानिक दायित्व
पर्यावरण संरक्षण
उपरोक्त सभी ✔
  • 3-5 आयु वर्ग के बच्चों को शिक्षा प्रदान की जाती हैं …
औपचारिक
निरौपचारिक ✔
अनौपचारिक
तीनों
  • विधालय नियम संहिता का प्राथमिक उदेश्य हैं …
छात्रों को विधालय संबंधित जानकारी देना
नवीन विधालय में समायोजन की क्षमता विकसित करना
अपराधी बालकों को उचित दण्ड प्रदान करना✔
छात्रों को स्कूली परम्पराका ज्ञान देना
  • भाषा को उपयुक्त तरीके से परिभाषित किया जा सकता है …
जैविक विकास का परिणाम है
उत्तम समस्या समाधान की दिशा में एक कदम है
अनुभवों को प्रकट करने का माध्यम है ✔
आत्म उन्नति का माध्यम है
  • कक्षा नियंत्रण की सबसे महत्त्वपूर्ण विधि हैं …
प्रजातंत्रिक उपागम✔
प्रभुत्वादी उपागम
छात्रों के दुर्व्यवहार को कम करने के उपाय
निष्पक्ष रूप से विधालय नियमों के अनुपालन की बाध्यता
  • ‘सामान्य शिक्षा’ के पाठ्यक्रम के संदर्भ में निम्नलिखित तर्क दिया जाता है …
छात्रों को आवश्यक ज्ञान उचित रूप से दिया जाए
छात्र को उसके चयनित कार्य के लिए तैयार किया जाए
नागरिकता और सामाजिक कुशलता प्रशिक्षण दिया जाए
भारतीय सांस्कृतिक धरोहर की ओर उन्मुख किया जाए✔
  • एक अध्यापक का सबसे महत्वपूर्ण कार्य है
शिक्षण करना ✔
बच्चों का सामाजिक विकास करना
बच्चों को अनुशासित करना
छात्र संख्या में वृद्धि करना
  • स्कूल से भागने वाले बालकों को आप
समझ – बुझा कर स्कूल में रहने के लिए प्रेरित करेंगे
मिड डे मील खिला कर रोकेंगे
कारण जानकर उन्हें दूर करने का प्रयास करेंगे✔
कोई ध्यान नहीं देंगे
  • कक्षा में छात्रों के बैठने का प्रयाप्त साधन नही है, ऐसी स्थिति में आप
छुट्टी के लिए कहेंगे
समायोजन काल प्रयास करेंगे ✔
संस्था प्रबंधन की आलोचना करेंगे
प्रधानाचार्य को प्रबंध करने को कहेंगी
  • आपकी राय में जीवन का प्रमुख सिद्धांत होना चाहिए
प्रतिष्ठित पद व शक्ति
कठिन श्रम व धनवान बनना ✔
गरीबों की मदद
प्रत्येक वस्तु की प्रशंसा
  • विधालय में कक्षा प्रबंध ठीक नही होना धोतक है
समुदाय में फैली अव्यवस्था का
छात्रों के कुंठित होने का
शिक्षक की अकुशलता का ✔
छात्रों की मानसिक योग्यता
  • शिक्षकों को अच्छे कार्य करने के लिए सबसे अच्छे प्रोत्साहक उपाय निम्न में से क्या है
धन व प्रशंसा पत्र देना ✔
ऊँचा वेतनमान
प्रशंसकों द्वारा प्रशंसा
ऊँचा वृत्तिक स्तर
  • शिक्षा का स्तर गिरने का प्रमुख कारण है
गैर जिम्मेदार शिक्षक ✔
अभिभावकों का असहयोग
छात्रों की अधिकता
भौतिक सुविधाओं की कमी
  • शिक्षण व्यवसाय में जाने का प्रमुख उद्देश्य
ज्ञानार्जन करना
जीविकोपार्जन करना
भावी पीढ़ी का निर्माण करना ✔
सामाजिक प्रतिष्ठा प्राप्त करना
  • शिक्षक को अपनी विषय – वस्तु में निरन्तर नये ज्ञान का समावेश करना चाहिए क्योंकि
छात्रों को नवीनतम ज्ञान दें सके ✔
छात्र कक्षा में शान्त रह सके
छात्र शिक्षक की योग्यता का लोहा माने
अध्यापक की योग्यता का ज्ञान बढ़े
  • अध्यापक छात्रों में सामाजिक व नैतिक मूल्य सम्प्रेषण कर सकता है
मूल्यों पर भाषण देकर
दृश्य-श्रव्य कार्यक्रम दिखा कर
पाठ्य सहगामी क्रियाओं की अधिकता से ✔
धार्मिक बातें बताकर
  • शिक्षा एक त्रिकोणीय प्रकिया है, जो है
छात्र, शिक्षक, सामाजिक परिवेश ✔
छात्र, शिक्षक, पाठशाला
छात्र, शिक्षक, ज्ञानार्जन
छात्र, शिक्षक, ज्ञान
  • मातृभाषा शिक्षण प्राथमिक स्तर पर पढ़ाना बेहतर क्यों हैं
बच्चों का आत्मविश्वास विकसित होता है
अधिगम सरल हो जाता है
बौद्धिक विकास में सहायक है ✔
बच्चों को स्वाभाविक वातावरण में सीखने में सहायता मिलती है


  • शिक्षा मनोविज्ञान व्यक्ति के जन्म से लेकर वृदावस्था तक सिखने के अनुभवों का वर्णन तथा व्याख्या है” ? यह कथन किस मनोवैज्ञानिक का है ?
किल्फोर्ड का
स्किनर का
ब्राउन का
क्रो एंड क्रो का
--> क्रो एंड क्रो का
  • शिक्षा के द्वारा मानव व्यवहार में परिवर्तन किया जाता है तथा मानव व्यवहार का अध्ययन ही मनोविज्ञान कहलाता है ।”यह कथन किस मनोवैज्ञानिक का है?
क्रो एंड क्रो का
ब्राउन का
किल्फोर्ड का
स्किनर का
--> ब्राउन का
  • मनोविज्ञान के सम्बन्ध में मैक्डूगल की परिभाषा है ?
मनोविज्ञान आचरण तथा व्यवहार का यथार्थ विज्ञान है
किसी व्यक्ति के जन्म से लेकर वृद्धावस्था तक के अधिगम अनुभवों का वर्णन तथा धारणा ही मनोविज्ञान है
मनोविज्ञान शिक्षा का आधारभूत विज्ञान है
मुझे बच्चा दो और बताओ कि उसे क्या बनाऊं इंजीनियर , डॉक्टर या अन्य
--> मनोविज्ञान आचरण तथा व्यवहार का यथार्थ विज्ञान है
  • गेस्टाल्टवाद का जन्मदाता किसे कहा जाता है ?
मैक्स वर्दाईमर को
कोहलर को
कोफ्फा को
ब्राउन को
--> मैक्स वर्दाईमर को
  • पावलाव के सिद्धांत को कंप्यूटर स्टीमुलेशन द्वारा कौनसी मशीन बताती है?
होफमेन मशीन
कोफ्फा मशीन
स्टीमुलेशन मशीन
उपरोक्त में से कोई नहीं
--> होफमेन मशीन
  • मानव व्यवहार एवं अनुभव से सम्बंधित निष्कर्षों का शिक्षा के क्षेत्र में प्रयोग शिक्षा मनोविज्ञान कहलाता है ।” यह कथन किस मनोवैज्ञानिक का है ?
ब्राउन का
क्रो एंड क्रो का
स्किनर का
किल्फोर्ड का
--> स्किनर का
  • शिक्षा मनोविज्ञान शैक्षिक विकास का क्रमिक अध्ययन है ” यह कथन किस मनोवैज्ञानिक का है ?
जे.एम. स्टीफन
ट्रो
जेम्स ड्रेवर
लिंग्रेन
--> जे.एम. स्टीफन
  • शिक्षा मनोविज्ञान शैक्षिक परिस्थितियों के मनोविज्ञान पक्षों का अध्ययन है ” यह कथन किस मनोवैज्ञानिक का है ?
जेम्स ड्रेवर
ट्रो
लिंग्रेन
जे.एम. स्टीफन
--> ट्रो
  • शिक्षा की प्रकियापूर्णतया मनोविज्ञान की कृपा पर निर्भर है ।” यह कथन किस मनोवैज्ञानिक का है ?
एस.एस. चौहान
जे.एम. स्टीफन
लिंग्रेन
बी. एन. झा
--> बी. एन. झा
  • शिक्षा मनोविज्ञान शैक्षिक परिवेश में व्यक्ति के विकास का व्यवस्थित अध्ययन है ।” यह कथन किस मनोवैज्ञानिक का है ?
बी. एन. झा
लिंग्रेन
जे.एम. स्टीफन
एस.एस. चौहान
--> एस.एस. चौहान
  • शिक्षा मनोविज्ञान की औपचारिक आधारशिला कब रखी गयी ?
1890 में
1892 में
1889 में
1879 में
--> 1889 में
  • किसके प्रयासों से शिक्षा मनोविज्ञान की औपचारिक आधारशिला सन् 1889 में रखी गयी ?
स्टेनले हॉल के प्रयासों से
जॉन डीवी के प्रयासों से
क्रो एंड क्रो के प्रयासों से
उपरोक्त में से कोई नहीं
--> स्टेनले हॉल के प्रयासों से
  • शिक्षा मनुष्य की क्षमताओं का स्वाभाविक ,प्रगतिशील तथा विरोधहीन विकास है ? यह परिभाषा किस मनोवैज्ञानिक की है ?
जॉन डीवी की
पेस्टॉलोजी की
क्रो एंड क्रो की
उपरोक्त में से कोई नहीं
--> पेस्टॉलोजी की
  • शिक्षा मनुष्य की क्षमताओं का विकास है , जिनकी सहायता से वह अपने वातावरण पर नियंत्रण करता हुआ अपनी संभावित उन्नति को प्राप्त करता है ” यह परिभाषा किस शिक्षा शास्त्री की है ?
पेस्टॉलोजी की
जॉन डीवी की
जॉन डीवी की
क्रो एंड क्रो की
--> जॉन डीवी की
  • शिक्षा मनोविज्ञान का उद्देश्य शैक्षिक परिस्थति के मूल्य एवं कुशलता में योगदान देना है ” यह परिभाषा किस शिक्षा शास्त्री की है ?
पेस्टॉलोजी की
जॉन डीवी की
क्रो एंड क्रो की
स्किनर की
--> स्किनर की
  • शिक्षा मनोविज्ञान वह विज्ञान है ,जिसमे छात्र , शिक्षण तथा अध्यापन का क्रमबद्ध अध्ययन किया जाता है ” यह परिभाषा किस शिक्षा शास्त्री की है ?
जॉन एफ.ट्रेवर्स
जॉन डीवी की
क्रो एंड क्रो की
पेस्टॉलोजी की
--> जॉन एफ.ट्रेवर्स
  • व्यवहारवाद के प्रतिपादक है ?
जॉन लोक
वाटसन
कोहलर
कोफ्फा
--> वाटसन
  • साहचर्यवाद के प्रतिपादक है ?
कोहलर
कोफ्फा
जॉन लोक
वाटसन
--> जॉन लोक
  • प्रेरक सम्प्रदाय के प्रतिपादक है ?
सिगमंड फ्रायड
वर्दाईमर
कुर्ट लेविन
मेक्डूगल
--> मेक्डूगल
  • मनोविश्लेषणात्मक सम्प्रदाय के प्रतिपादक है ?
सिगमंड फ्रायड
मेक्डूगल
वर्दाईमर
कुर्ट लेविन
--> सिगमंड फ्रायड
  • शिक्षा मनोविज्ञान के अध्ययन क्षेत्र है ?
बालक के वंशानुक्रम एवं वातावरण का अध्ययन
बालक की विकास अवस्थाओं का अध्ययन
अधिगम क्रियांओं का अध्ययन
उपरोक्त सभी
--> उपरोक्त सभी
  • कौनसी शिक्षा मनोविज्ञान की उपयोगिता नहीं है ?
शिक्षा मनोविज्ञान अध्यापक को विद्यार्थियों की विशेषताओं एवं उनके विकास का ज्ञान प्रदान करता है
शिक्षा मनोविज्ञान अध्यापक को विद्यार्थियों की वैयक्तिक विभिन्नताओं को समझाने में सहायता प्रदान करता है
शिक्षा मनोविज्ञान अध्यापक को उचित अध्यापन-विधि के चयन में सहायता नहीं करता है
शिक्षा मनोविज्ञान अध्यापक को विद्यार्थियों के मूल्याङ्कन करने में सहायता प्रदान करता है
--> शिक्षा मनोविज्ञान अध्यापक को उचित अध्यापन-विधि के चयन में सहायता नहीं करता है
  • अधिगम को अप्रभावित करने वाले कारक है ?
बुद्धि
परिपक्वता
भूख
उत्सुकता
--> भूख
  • 21वीं शताब्दी में मनोविज्ञान का मुख्य आधार तय हुआ ?
व्यवहार
आत्मा
मन
कोई नहीं
--> व्यवहार
  • वाटसन मनोविज्ञान की किस अवधारणा को मानने वाले थे ?
चेतनावाद को
गेस्टाल्टवाद को
व्यवहारवाद को
उपरोक्त सभी को
--> व्यवहारवाद को
  • किसी भी बच्चे को उचित वातावरण एवं व्यवहार देकर उसे इच्छित दिशा में मोड़ा जा सकता है ” यह परिभाषा किस मनोवैज्ञानिक की परिभाषा से मिलती जुलती है ?
वुडवर्थ की
कोहलर की
स्किनर की
वाटसन की
--> वाटसन की
  • 1912 में किस सम्प्रदाय का प्रतिपादन हुआ ?
गेस्टाल्ट सम्प्रदाय का
प्रेरक सम्प्रदाय का
मनो-विशलेषणात्मक सम्प्रदाय का
सचार्यवाद सम्प्रदाय का
--> गेस्टाल्ट सम्प्रदाय का
  • वुडवर्थ के अनुसार अन्तःदृष्टि किस प्रकार की दृष्टि होती है ?
पश्चात् दृष्टी
पूर्व दृष्टि
पूर्व दृष्टि एवं पश्चात् दृष्टी दोनों
उपरोक्त सभी
--> पूर्व दृष्टि
  • चिम्पेजियों पर प्रयोग किसके द्वारा किया गया ?
कोफ्फा के द्वारा
वर्दाइमर के द्वारा
कोहलर के द्वारा
उपरोक्त सभी के द्वारा
--> कोहलर के द्वारा
  • कोहलर द्वारा चिम्पेजियों पर किया गया प्रयोग किससे सम्बंधित था ?
सूझ से
अन्तःदृष्टी से
अन्तःदृष्टी तथा सूझ दोनों से
उपरोक्त सभी
--> अन्तःदृष्टी तथा सूझ दोनों से
  • कार्ल रोजर्स द्वारा सिद्धांत प्रतिपादित किया गया ?
पर्यावरणीय सिद्धांत
अन्तःदृष्टी का सिद्धांत
सूझ का सिद्धांत
उपरोक्त सभी
--> पर्यावरणीय सिद्धांत
  • आलपोर्ट किस व्यवस्था के प्रबल समर्थक थे ?
पर्यावरणीय व्यवस्था
सहचार्यवाद व्यवस्था
उपरोक्त में से कोई नहीं
आत्म बिन्दुरेखीय व्यवस्था
--> आत्म बिन्दुरेखीय व्यवस्था
  • आलपोर्ट ने सर्वप्रथम किन गुणों से सम्बंधित विशलेषण किया ?
अन्तःदृष्टि से सम्बंधित गुणों का
व्यावहारिक गुणों का
व्यक्तित्व सम्बन्धी गुणों का
उपरोक्त सभी का
--> व्यावहारिक गुणों का
  • जेम्स ड्रेवर ने मनोविज्ञान को किस प्रकार का विज्ञान माना है ?
अशुद्ध विज्ञान
आंशिक विज्ञान
शुद्ध विज्ञान
उपरोक्त सभी
--> उपरोक्त सभी
  • बालक के विकास का अध्ययन हमें यह जानने योग्य बनाता है कि क्या पढ़ायें और कैसे पढाये” यह कथन किस मनोवैज्ञानिक का है ?
क्रो एंड क्रो का
ब्राउन का
किल्फोर्ड का
स्किनर का
--> किल्फोर्ड का
  • मनोविज्ञान के सम्बन्ध में क्रो एंड क्रो की परिभाषा है ?
मुझे बच्चा दो और बताओ कि उसे क्या बनाऊं इंजीनियर , डॉक्टर या अन्य
किसी व्यक्ति के जन्म से लेकर वृद्धावस्था तक के अधिगम अनुभवों का वर्णन तथा धारणा ही मनोविज्ञान है
मनोविज्ञान आचरण तथा व्यवहार का यथार्थ विज्ञान है
मनोविज्ञान शिक्षा का आधारभूत विज्ञान है
--> किसी व्यक्ति के जन्म से लेकर वृद्धावस्था तक के अधिगम अनुभवों का वर्णन तथा धारणा ही मनोविज्ञान है
  • मनोविज्ञान के सम्बन्ध में स्किनर की परिभाषा है ?
किसी व्यक्ति के जन्म से लेकर वृद्धावस्था तक के अधिगम अनुभवों का वर्णन तथा धारणा ही मनोविज्ञान है
मुझे बच्चा दो और बताओ कि उसे क्या बनाऊं इंजीनियर , डॉक्टर या अन्य
मनोविज्ञान शिक्षा का आधारभूत विज्ञान है
मनोविज्ञान आचरण तथा व्यवहार का यथार्थ विज्ञान है
--> मनोविज्ञान शिक्षा का आधारभूत विज्ञान है
  • मनोविज्ञान के सम्बन्ध में क्रो एंड क्रो की परिभाषा है ?
मनोविज्ञान शिक्षा का आधारभूत विज्ञान है
मुझे बच्चा दो और बताओ कि उसे क्या बनाऊं इंजीनियर , डॉक्टर या अन्य
मनोविज्ञान आचरण तथा व्यवहार का यथार्थ विज्ञान है
किसी व्यक्ति के जन्म से लेकर वृद्धावस्था तक के अधिगम अनुभवों का वर्णन तथा धारणा ही मनोविज्ञान है
--> किसी व्यक्ति के जन्म से लेकर वृद्धावस्था तक के अधिगम अनुभवों का वर्णन तथा धारणा ही मनोविज्ञान है
  • मनोविज्ञान के सम्बन्ध में स्किनर की परिभाषा है ?
मनोविज्ञान शिक्षा का आधारभूत विज्ञान है
किसी व्यक्ति के जन्म से लेकर वृद्धावस्था तक के अधिगम अनुभवों का वर्णन तथा धारणा ही मनोविज्ञान है
मनोविज्ञान आचरण तथा व्यवहार का यथार्थ विज्ञान है
मुझे बच्चा दो और बताओ कि उसे क्या बनाऊ इंजीनियर , डॉक्टर या अन्य
--> मनोविज्ञान शिक्षा का आधारभूत विज्ञान है
  • स्किनर किस देश के वैज्ञानिक थे ?
जापान के
अमेरिका के
इंग्लैंड के
इटली के
--> अमेरिका के
  • किसने सबसे पहले प्रश्नावली का निर्माण किया ?
प्लेटो ने
लोविट ने
वुडवर्थ ने
ब्रूनर ने
--> वुडवर्थ ने
  • खेलों के माध्यम से बालक में कौनसा गुण विकसित होता है?
सामाजिकता का
नैतिकता का
व्यवसायिकता का
भौतिकता का
--> सामाजिकता का
  • बाल केन्द्रित शिक्षा किसकी देन है ?
शिक्षा शास्त्रियों की
मनोवैज्ञानिक निष्कर्षों की
शिक्षा मनोविज्ञान की
उपरोक्त सभी की
--> शिक्षा मनोविज्ञान की
  • “संज्ञानवादी पद्धति” के जनक है?
वाटसन
जिन प्याजे व ब्रूनर
कोहलर व कोफ्फा
उपरोक्त में से कोई नहीं
--> जिन प्याजे व ब्रूनर
  • थार्नडाईक ने शिक्षा मनोविज्ञान का कैसा रुप प्रदान किया ?
निश्चित एवं स्पष्ट
अनियमित
आंशिक स्पष्ट
उपरोक्त सभी
--> निश्चित एवं स्पष्ट
  • शिक्षा मनोविज्ञान के सन्दर्भ में सर्वाधिक उपयुक्त कथन है?
शिक्षा मनोविज्ञान , दर्शनशास्त्र की एक शाखा है
शिक्षा मनोविज्ञान , मनोविज्ञान की शिक्षा के क्षेत्र में एक शाखा है
शिक्षा मनोविज्ञान , मनोवैज्ञानिक अध्ययन एवं शिक्षण है
शिक्षा मनोविज्ञान , मन का शिक्षित विज्ञान है
--> शिक्षा मनोविज्ञान , मनोविज्ञान की शिक्षा के क्षेत्र में एक शाखा है
  • बालकेंद्रित शिक्षा के लिए किस मनोवैज्ञानिक ने शिक्षा शास्त्रियों का ध्यान केन्द्रित किया ?
कोहलर ने
फ्रायड ने
रूसो ने
स्किनर ने
--> रूसो ने
  • सिग्मंड फ्रायड की अवधारणा है?
इड
ईगो
सुपर ईगो
उपरोक्त सभी
--> उपरोक्त सभी
  • मनोभौतिकी विधि में किनके मध्य के संबंधो का अध्ययन किया जाता है ?
उद्दीपन-अनुक्रिया
अनुक्रिया-उद्दीपन
क्रिया-प्रतिक्रिया
उपरोक्त सभी
--> क्रिया-प्रतिक्रिया
  • आत्म निरीक्षण विधि द्वारा किनकी क्रियाओं का अध्ययन किया जाता है ?
कक्षा- कक्ष में छात्रों की व्यक्तिगत विभिन्नताओं का
स्वयं की
असाधारण बच्चों की
उपरोक्त सभी का
--> स्वयं की
  • बाल केन्द्रित शिक्षा” किसकी देन है ?
शिक्षा के राष्ट्रीयकरण की
सर्व शिक्षा अभियान की
शिक्षा मनोविज्ञान की
उपरोक्त सभी की
--> शिक्षा मनोविज्ञान की
  • शिक्षा के संकुचित अर्थ में शिक्षा प्रदान की जाती है ?
निश्चित स्थान पर
प्रत्येक समय व स्थान पर
जीवनपर्यंत
उपरोक्त सभी
--> निश्चित स्थान पर
  • बालकों की रूचि , शारीरिक-मानसिक योग्यता तथा विभिन्ताओं का ध्यान किस प्रकार के शिक्षण में रखा जाता है ?
बहुकक्षीय शिक्षण में
मनोवैज्ञानिक शिक्षण में
सामूहिक शिक्षण में
उपरोक्त सभी में
--> मनोवैज्ञानिक शिक्षण में
  • लम्बात्मक विधि का का अध्ययन किसने किया था ?
कार्ल सी. गैरिसन ने
जॉन ड्यूवी ने
जॉन लोंक ने
उपरोक्त में से किसी ने नहीं
--> कार्ल सी. गैरिसन ने
  • मनोविज्ञान को मन का विज्ञान किसने कहा था ?
जॉन इयूवी ने
डगलस ने
अरस्तु ने
स्किनर ने
--> अरस्तु ने
  • शिक्षा का केंद्र है ?
शिक्षक
विषय-वस्तु
बच्चे
उपरोक्त सभी
--> बच्चे
  • खेल को ऐच्छिक तथा आत्मप्रेरित क्रिया किस मनोवैज्ञानिक ने बताया ?
फ्रायड ने
स्टर्न ने
जेम्स ड्रेवर ने
अरस्तु ने
--> स्टर्न ने
  • समाजमिति विधि के प्रणेता है?
हरबर्ट
जीन पियाजे
जे एल मोरेनो
थोर्नडाईक
--> जे एल मोरेनो
  • बालकों में खेलों से विकसित होने वाली शक्तियां है ?
शारीरिक
मानसिक
सामाजिक
उपरोक्त सभी
--> उपरोक्त सभी
  • मारिया मोंटेसरी पद्धति में शिक्षा किस माध्यम से दी जाती है ?
गीतों द्वारा
खेलों दवारा
उपहारों द्वारा
उपरोक्त सभी माध्यमों द्वारा
--> उपरोक्त सभी माध्यमों द्वारा
  • विलियम वुट तथा टिचनर किस विचारधारा के प्रवर्तक थे ?
गेस्टाल्ट विचारधारा के
व्यवहारवादी विचारधारा के
सरंचनावादी विचारधारा के
उपरोक्त सभी के
--> सरंचनावादी विचारधारा के
  • समस्यात्मक बालकों की प्रवृति होती है ?
समाज विरोधी प्रवृति
झगड़ालू प्रवृति
अपराधी प्रवृति
उपरोक्त सभी
--> उपरोक्त सभी
  • सबसे पहले मनौवैज्ञानिक प्रयोगशाला किस देश में स्थापितहुई ?
जापान
अमेरिका
जर्मनी
ब्रिटेन
--> जर्मनी
  • व्यवहारवाद की मुख्य विशेषता है?
मापन
निरीक्षण
उपरोक्त दोनों
उपरोक्त में से कोई नहीं
--> मापन
  • फ्रायड ने मन की तुलना किससे की ?
समुद्र में तैरते हुए जहाज से
समुद्र में तैरते हुए मगरमंछ से
समुद्र में तैरते हुए हिमखंड से
उपरोक्त सभी से
--> समुद्र में तैरते हुए हिमखंड से
  • शिक्षकों की तैयारी की आधारशिला होनी चाहिए?
शिक्षा मनोविज्ञान
पाठ्य पुस्तकें
पाठ्यक्रम
पाठ्यचर्या
--> शिक्षा मनोविज्ञान
  • समाजमिति विधि में अध्ययन किया जाता है?
एक समूह की बनावट का अध्ययन
समाज के आमिर वर्गों का अध्ययन
सामजिक नियमों का अध्ययन
उपरोक्त में से कोई नहीं
--> एक समूह की बनावट का अध्ययन
  • किसका सबसे व्यापक क्षेत्र है ?
शिक्षा मनोविज्ञान का
मनोविज्ञान का
शिक्षा पाठ्यचर्या का
उपरोक्त सभी का
--> मनोविज्ञान का
  • चेतन, अर्द्ध चेतन तथा अचेतन किसके अंग है ?
चेतना के
मस्तिष्क के
शरीर के
बुद्धि के
--> चेतना के
  • अन्तःदर्शन विधि दूसरी विधियों से अपेक्षाकृत है?
पुरानी विधि
नवीन विधि
मध्यम विधि
नवीनतम विधि
--> पुरानी विधि
  • विलियम वुट ने मनोविज्ञान को बताया है ?
मन का विज्ञान
आत्मा का विज्ञान
चेतना का विज्ञान
व्यवहार का विज्ञान
--> चेतना का विज्ञान
  • मिल्सबरी ने मनोविज्ञान को बताया है ?
चेतना का विज्ञान
मन का विज्ञान
आत्मा का विज्ञान
मानव व्यवहार का विज्ञान
--> मानव व्यवहार का विज्ञान
  • विलियम वुट किस प्रकार के मनोविज्ञान के जनक माने जाते है ?
प्रयोगात्मक मनोविज्ञान के
विकासात्मक मनोविज्ञान के
तुलनात्मक मनोविज्ञान के
उपरोक्त सभी के
--> प्रयोगात्मक मनोविज्ञान के
  • पॉवलाव ने मनोविज्ञान के किस सिद्धांत का प्रतिपादन किया ?
प्रयोगात्मक अनुकूलन सिद्धांत के
चिरसम्मत अनुकूलन सिद्धांत के
अन्तरदृष्टि सिद्धांत के
सूझ का सिद्धांत के
--> चिरसम्मत अनुकूलन सिद्धांत के
  • व्यक्ति की संवेदना और अभिवृति जानने की सबसे उपयुक्त विधि है ?
निरीक्षण विधि
प्रश्नावली विधि
साक्षात्कार विधि
उपरोक्त सभी
--> साक्षात्कार विधि
  • प्रथम मनोवैज्ञानिक प्रयोगशाला जर्मनी में कब स्थापित हुई ?
1878 में
1879 में
1880 में
1892 में
--> 1879 में
  • शिक्षा मनोविज्ञान वर्तमान में अपने किस स्वरूप में है ?
बाल्यावस्था में
जवानी में
शैशवावस्था में
किशोरावस्था में
--> शैशवावस्था में
  • मनोविज्ञान अध्ययन की जेनेटिक विधि को अन्य किस नाम से पुकारा जाता है ?
आनुवंशिक विधि
विकासात्मक विधि
अन्तःदर्शन विधि
उपरोक्त सभी
--> विकासात्मक विधि
  • मनोविज्ञान की बहिर्दर्शन विधि के जनक है ?
टाईडमैन
वुडवर्थ
जे.बी. वाटसन
फ्रायड
--> जे.बी. वाटसन
  • किस मनोवैज्ञानिक ने कहा की चेतन मन के साथ अचेतन मन पर भी ध्यान देना चाहिए ?
जे.बी. वाटसन ने
वुडवर्थ ने
टाईडमैन ने
सिगमंड फ्रायड ने
--> सिगमंड फ्रायड ने
  • बाल केन्द्रित शिक्षा की अवधारण मनोविज्ञान के किस सम्प्रदाय ने दी ?
गेसटोल्टवाद ने
सरंचनावाद ने
मनोविश्लेषणवाद ने
व्यवहारवाद ने
--> मनोविश्लेषणवाद ने
  • गेसटॉल्ट सम्प्रदाय का जन्म किस देश में हुआ ?
इटली में
जर्मनी में
अमेरिका में
जमैका में
--> जर्मनी में
  • समग्रवाद में मुख्य रुप से ध्यान दिया जाता है ?
अंश पूर्ण से की ओर
एक तरफ के अंश की ओर
पूर्ण से अंश की ओर
बीच की ओर
--> पूर्ण से अंश की ओर
  • कौनसा सम्प्रदाय “मनोविज्ञान को चेतना का विज्ञान” मानता है ?
प्रकार्यवाद
सरंचनावाद
समग्रवाद
व्यवहारवाद
--> सरंचनावाद
  • जे.बी. वाटसन ने मनोविज्ञान के किस सम्प्रदाय को “मनरहित मनोविज्ञान” की संज्ञा दी ?
सरंचनावाद को
प्रकार्यवाद को
व्यवहारवाद को
समग्रवाद को
--> व्यवहारवाद को
  • प्रबलन का सिद्धांत किसने प्रतिपादित किया ?
जॉन लोक ने
विलियम जेम्स ने
सिगमंड फ्रायड ने
स्किनर ने
--> स्किनर ने
  • स्थानीय इतिहास के लिए सबसे अधिक उपयोगी शिक्षण विधि है ?
क्षेत्रीय भ्रमण विधि
पर्यटन विधि
प्रयोगशाला विधि
उपरोक्त सभी
--> क्षेत्रीय भ्रमण विधि
  • सामाजिक अध्ययन का सबसे अधिक महत्व किसमें होता है ?
सामाजिक गतिविधियों में
सामाजिक मूल्यों के विकास में
सामाजिक नियमों में
सामाजिक सुधारों में
--> सामाजिक मूल्यों के विकास में
  • प्रजातान्त्रिक मूल्यों एवं सिद्धांतों का अनुसरण कुंडी विधि करती है ?
समाजमिति विधि
वाद-विवाद विधि
सामाजिक अध्ययन विधि
उपरोक्त सभी विधियां
--> वाद-विवाद विधि
  • सामाजिक अध्ययन पढाने की प्राथमिक कक्षाओं में सर्वाधिक उपयुक्त विधि है ?
कहानी विधि
वाद-विवाद विधि
समाजमिति विधि
उपरोक्त सभी विधियां
--> कहानी विधि
  • अधिगम के लिए प्रथम शर्त क्या है ?
सीखने वाले की अभिप्रेरणा
सीखने वाले का मानसिक स्तर
सीखने वाले की बुद्धि
सीखने वाले की अभिवृति
--> सीखने वाले की अभिप्रेरणा
  • अधिगम के लिए वितीय शर्त क्या है ?
सीखने वाले का मानसिक स्तर
सीखने वाले की बहु-अनुक्रियाएँ
सीखने वाले की बुद्धि
सीखने वाले की अभिवृति
--> सीखने वाले की बहु-अनुक्रियाएँ
  • अधिगम के लिए तृतीय शर्त क्या है ?
सीखने वाले का मानसिक स्तर
सीखने वाले की बुद्धिलब्धि
सीखने वाले को पुनर्बलन
सीखने वाले का मन
--> सीखने वाले को पुनर्बलन
  • अधिगम के लिए चतुर्थ शर्त क्या है ?
सीखने वाले का अभ्यास
सीखने वाले का घर का माहौल
सीखने वाले की बुद्धिलब्धि
सीखने वाले का मन
--> सीखने वाले का अभ्यास
  • अधिगम अपेक्षाकृत व्यवहार में स्थायी परिवर्तन है जो अभ्यास अथवा अनुभव के परिणास्वरूप होता है ” यह परिभाषा किस वैज्ञानिक ने दी ?
गेट्स ने
मार्गन ने
वुडवर्थ ने
गिल्फोर्ड ने
--> मार्गन ने
  • अनुभव एवं प्रशिक्षण द्वारा व्यवहार में संशोधन ही अधिगम है ” यह परिभाषा किस वैज्ञानिक ने दी है ?
मार्गन ने
वुडवर्थ ने
गेट्स ने
गिल्फोर्ड ने
--> गेट्स ने
  • अधिगम व्यक्ति में एक प-परिवर्तन है जो उसके वातावरण के परिवर्तनों के अनुसरण में होता है ” ? यह परिभाषा किस वैज्ञानिक ने दी है ?
क्रो एंड क्रो ने
गिल्फोर्ड ने
मार्गन ने
पील
--> पील
  • अधिगम, आदतों, ज्ञान और अभिवृतियों का अर्जन है ” यह परिभाषा किस वैज्ञानिक ने दी है ?
मार्गन ने
क्रो एंड क्रो ने
वुडवर्थ ने
गिल्फोर्ड ने
--> क्रो एंड क्रो ने
  • व्यवहार के कारण व्यवहार परिवर्तन अधिगम है ” यह परिभाषा किस वैज्ञानिक ने दी है ?
क्रो एंड क्रो ने
मार्गन ने
गिल्फोर्ड ने
वुडवर्थ ने
--> गिल्फोर्ड ने
  • पूर्व निर्मित व्यवहार में अनुभव द्वारा परिवर्तन ही अधिगम है ? यह परिभाषा किस वैज्ञानिक ने दी है ?
कालविन
क्रो एंड क्रो ने
गिल्फोर्ड ने
मार्गन ने
--> कालविन


  • बुद्धि है?-- सामर्थ्य का एक समुच्चय
  • वाइगोत्सकी के अनुसार बच्चे सीखते हैं?-- वयस्कों और सम वयस्को के साथ परस्पर क्रिया से
  • गिलफोर्ड द्वारा प्रतिपादित बौद्धिकता संरचना के मॉडल में कितने तत्वों को सम्मिलित किया गया है?-- 180
  • अल्बर्ट बंडूरा संबंधित है?-- शाब्दिक अधिगम से
  • बुद्धि लब्धि मापन के जन्मदाता है?-- टर्मन
  • NCTE का पूर्ण रूप क्या है?-- National Council of Teacher Education
  • मानव विकास को सर्वाधिक रूप से कौन प्रभावित करता है?-- वंशानुक्रम व वातावरण
  • विकास को एक सतत प्रक्रिया माना है?-- बंडूरा एवं स्किनर ने
  • किस अवस्था को जीवन का अनोखा काल माना जाता है?-- बाल्यावस्था को
  • किसने शैशवअवस्था को सीखने का आदर्श काल माना है?-- वैलेंटाइन ने
  • “किशोरावस्था बड़े संघर्ष ,तनाव ,तूफान और विरोध की अवस्था है” यह कथन कहा है? -- स्टैनले हॉल ने
  • मानव शिशु की भाषा द्वारा संवाद प्रेषण किस आयु से प्रारंभ होता है?-- 3 वर्ष की आयु से
  • बच्चों में बौद्धिक विकास की 4 अवस्थाओं की पहचान किसके द्वारा की गई?-- पियाजे द्वारा
  • दूसरे वर्ष के अंत तक शिशु का कितना हो जाता है?-- 100 शब्द
  • शर्म तथा गर्व जैसी भावना का विकास किस अवस्था में होता है?-- बाल्यावस्था में
  • किस अवस्था में बच्चे अपने समवयस्क समूह के सक्रिय सदस्य हो जाते हैं?-- किशोरावस्था में
  • परिपक्वता का संबंध किससे है?-- विकास से
  • बाल मनोविज्ञान के आधार पर सर्वोत्तम कथन है?-- प्रत्येक बच्चा विशिष्ट होता है
  • नैदानिक परीक्षा का मुख्य उद्देश्य है?-- अकादमिक कठिनाइयों के कारणों का पता लगाना
  • वाइगोत्सकी के अनुसार विकास होता है?-- सामाजिक अंतर क्रियाओं के कारण
  • आधुनिक मनोविज्ञान का अर्थ है?-- व्यवहार का अध्ययन
  • “विकास प्राणी में प्रगतिशील परिवर्तन है जो निश्चित लक्ष्यों की और निरंतर निर्देशित होता जाता है” यह कथन है?-- ड्रेवर का
  • शैशव अवस्था में बालक में क्या पाया जाता है?-- अनुकरण व सहयोग
  • नवीन शिक्षण प्रणाली किस पर आधारित है?-- क्रिया पर
  • बुद्धि की श्रेष्ठता का कारण प्रजाति है यह किसका कथन है?-- क्लीन वर्ग का
  • बुड्वेर्थ चिंतन की कितने तत्व बताएं हैं?-- 5
  • प्रेरणा के कितने प्रकार होते हैं?-- दो 1. सकारात्मक 2. नकारात्मक
  • अधिगम अंतरण का थॉर्डाइक सिद्धांत कहा जाता है?-- अनुरूप तत्व का सिद्धांत
  • शिक्षा के क्षेत्र में सर्वाधिक महत्वपूर्ण तत्व अभिरुचि है यह किसका विचार है?-- टीपी मैनन
  • शिक्षा का खेल विधि से क्या तात्पर्य है?-- खेल क्रियाओं द्वारा शिक्षा देना
  • ऑपरेशन ब्लैक बोर्ड किससे संबंधित है?-- प्राथमिक विद्यालयों में न्यूनतम सुविधाओं से
  • कक्षा शिक्षण के समय शिक्षक द्वारा अपनी आवाज में उतार-चढ़ाव किस कौशल के अंतर्गत आता है?-- उद्दीपन परिवर्तन
  • अंतर्दृष्टि का सिद्धांत के जन्मदाता कौन हैं?-- कोहलर
  • यदि पहले उदाहरण फिर सिद्धांत बताते हैं यह किस शिक्षण पद्धति की ओर इंगित करता है?-- आगमन विधि
  • मूल्यांकन में ब्लू प्रिंट का संबंध किससे है?-- प्रश्न पत्र निर्माण से
  • अनुभव एवं प्रशिक्षण के कारण व्यवहार में होने वाले परिवर्तन को क्या कहते हैं?-- अधिगम
  • खेल से किस प्रकार का अनुशासन उत्पन्न होता है?-- आत्म अनुशासन
  • मनोविज्ञान की अंग्रेजी पर्याय साइकोलॉजी शब्द की व्युत्पत्ति हुई है?-- ग्रीक भाषा से
  • मनोविश्लेषण वाद के प्रवर्तक कौन थे?-- फ्राएड
  • समूह खंड बुद्धि का सिद्धांत के प्रतिपादक हैं?-- थर्स्टन
  • स्याही धब्बा शिक्षण विधि के प्रतिपादक कौन हैं?-- हर्मन रोर्शा
  • क्रिया प्रसूत अनुबंधन का सिद्धांत दिया है?-- स्किनर ने
  • भाषा शिक्षण की प्रथम कक्षा किसे माना जाता है?-- पूर्व प्राथमिक कक्षा को
  • किस स्तर के बच्चे अपने समकक्ष वर्ग के सक्रिय सदस्य बनते हैं?-- किशोरावस्था में
  • चिंतन अनिवार्य रूप से है एक--- संज्ञानात्मक गतिविधि
  • शिक्षा में फ्रावेल का महत्वपूर्ण योगदान था?-- किंडर गार्टन का विकास
  • शिक्षा का उद्देश्य होना चाहिए-- व्यावहारिक जीवन के लिए विद्यार्थियों को तैयार करना
  • बालक का विकास परिणाम है?-- वंशानुक्रम तथा वातावरण की अंतर क्रिया का
  • आपकी कक्षा में एक छात्र देर से आता है तो आप क्या करेंगे?-- कारण जानने की चेष्टा करेंगे
  • व्यक्तिगत शिक्षार्थी एक दूसरे से विकास की दर में कैसे होते हैं?-- भिन्न
  • कौन सा सीखना स्थाई होता है?-- समझकर सीखना
  • क्रियात्मक अनुसंधान का उद्देश्य है?-- विद्यालय तथा कक्षा की शैक्षिक कार्य प्रणाली में सुधार लाना
  • कोहलवर्ग का विकास सिद्धांत किससे संबंधित है? -- नैतिक विकास से
  • जिन इच्छाओं की की पूर्ति नहीं होती है उनका भंडारण गृह है?-- इदम्
  • किस अवस्था को गोल्डन एज के नाम से भी जाना जाता है?-- किशोरावस्था
  • बच्चों की पढ़ाई आरम्भ करने की आदर्श आयु है?-- 6 वर्ष
  • 6 से 14 वर्ष में बालक बालिकाओं को शिक्षा का अधिकार संविधान के किस संशोधन में जोड़ा गया?-- 86 वे
  • 85 IQ (बुद्धि लब्धि) वाले बालक की श्रेणी में आते हैं?-- मंदबुद्धि
  • अंतर्मुखी और बहिर्मुखी एवं उभयमुखी का वर्गीकरण किसके द्वारा किया गया?-- युंग द्वारा
  • विकृत लिखावट से संबंधित लिखने की योग्यता में कमी किस का एक लक्षण है-- डिसग्राफिया का

  • पढाने की सबसे अच्‍छी कौन सी विधि है। --> प्रोजक्‍ट विधि
  • परियोजना विधि के जनक कौन है। --> अमेरिका के प्रसिद्ध शिक्षा शास्‍त्री जॉन डेवी के योग्‍य शिष्‍य ‘’ किल पैट्रिक ’’ है।
  • सूक्ष्‍म शिक्षण ( माइक्रोटीचिंग ) के जनक कौन है। --> रोर्बट बुश ।
  • माण्‍टेशरी शिक्षा प्रणाली के जनक कौन है। --> डॉ मारिया माण्‍टेशवरी (इटली) (यह विधि इन्द्रियों (ज्ञानेन्द्रियों) के प्रशिक्षण पर बल देती है।)
  • खेल पद्धत्ति के जनक कौन है --> हेनरी क्राल्‍डवेल कुक ।
  • डाल्‍टन पद्धत्ति के जनक कौन है। --> कुमारी हैलन पार्क हर्स्‍ट ।
  • पर्याटन विधि के जनक कौन है। --> पेस्‍टोलॉजी ।
  • खोज अनुसन्‍धान हूरिस्टिक विधि के जनक कौन है। --> आर्मस्‍ट्रांग
  • खोज विधि का सम्‍बन्‍ध किस से है। --> भूतकाल से
  • अन्‍वेशण विधि के जनक कौन है। --> आर्मस्‍ट्रांग
  • अन्‍वेशण विधि का सम्‍बन्‍ध किस से है। --> वर्तमान काल से
  • इकाई उपागम के जनक कौन है। --> मौरिशन
  • जन्‍म के समय बालक मे कितनी हडि्डयां होती है। --> 270
  • शरीर मे सबसे लम्‍बी हड्डी का नाम क्‍या है। --> फीमर जो जॉग मे होती है।
  • शरीर मे सबसे छोटी हड्डी का नाम क्‍या है। --> स्‍टेपीज जो कान मे होती है
  • शरीर मे सबसे मजबूत हड्डी का नाम क्‍या है। --> मण्‍डीवल जो जबडे मे होती है।
  • जन्‍म के समय नवजात शिशु की त्‍वचा का रंग कैसा होता है। --> हल्‍का गुलाबी
नोट – 15 दिन के बाद त्‍वचा स्‍थाई रंग को प्राप्‍त कर लेती है।
  • नवजात शिशु कितने घण्‍टे सोता है। --> 18 से 20 घण्‍टे किन्‍तु वह हर 2 घंण्‍टे मे जागकर अपनी मासपेसियो को घुमाता है।
  • बालक का विकास 6 बर्ष तक लगभग कितने प्रतिशत हो जाता है। --> 90 प्रतिशत
  • बालक का विकास 10 वर्ष तक लगभग कितने प्रतिशत हो जाता है। --> 95 प्रतिशत
  • बाल्‍य अवस्‍था में बालक की हड्डियॉ कितनी होती है। --> बाल्‍य अवस्‍था में बालक की हड्डियों की संख्‍या 270 से 350 तक हो जाती है।
  • नि:शुल्‍क एवं बाल शिक्षा का अधिकार एवं अधिनियम 2009 का विस्‍तार किस राज्‍य मे नही हुआ । --> जम्‍बू कश्‍मीर
  • शिक्षा का अधिकार 2009 के तहत निजी विद्यालय को कितने प्रतिशत सीट आरक्षित करना अनिवार्य होगा । --> 25 प्रतिशत
  • 12 वर्ष तक के बालक के मतिष्‍क का भार कितना होता है । --> लगभग 1260 ग्राम जबकि एक स्‍वाथ्‍य मनुष्‍य के मतिष्‍क का भार 1400 ग्राम होता है।
  • मनुष्‍य के शरीर में कितनी हड्डियॉ होती है। --> 206 हड्डियॉ होती है। जबकि बालक के जन्‍म के समय बालक में 270 हड्डियॉ होती है एवं बाल्‍य अवस्‍था में बालक ही हड्डियॉ 350 होती है।
  • किशोर अवस्‍था की मुख्‍य विशेषता निम्‍न में से है। --> आत्‍म गौरव
  • विकास व्‍यक्ति में नवीन विशेषताऍ और योग्‍याताऍ प्रस्‍फुटित करता है यह कथन किसका है। --> हरलॉक
  • जिस प्रक्रिया से व्‍यक्ति मानव के लिए परस्‍पर निर्भर होकर व्‍यवहार करना सीखता है, वह प्रकिया है। --> समाजीकरण
  • किशोरावस्‍था एक नया जन्‍म है, इसमें उच्‍चतर और श्रेष्‍ठतर मानव विशेषताओं का जन्‍म होता है, कथन किसका है- --> स्‍टेनली हॉल
  • किशोरों की जटिल अवस्‍था के कारण किशोरों के अ‍ध्‍ययन का विषय होना चाहिए- --> शरीर तथा मन संबंधी
  • ‘किशोरावस्‍था आदर्शों की अवस्‍था है, सिद्धांतों के निर्माण की अवस्‍था है, साथ ही जीवन का समान्‍य समायोजन है’ यह परिभाषा देने वाले है- --> जीन पियाजे
  • एक शिक्षक शिक्षार्थी के मानसिक विकास का ज्ञान प्राप्‍त करके जिसकी योजना नही बन सकता, वह है- --> शारीरिक विकास
  • मनुष्‍य के शरीर में हड्डियों की संख्‍या कम से कम होती है- --> प्रौढ़ावस्‍था में
  • किसको प्रशिक्षण द्वारा व्‍यवहार में संसोधन की प्रक्रिया माना गया है। --> अधिगम
  • किशोरावस्‍था की प्रमुख समस्या है- --> समायोजन की
  • संवेदना ज्ञान की पहली सीढ़ी है, यह – --> मानसिक विकास है।
  • ‘किशोरावस्‍था बड़े संघर्ष, तूफान और विरोध की अवस्‍था है’ यह कथन है- --> स्‍टेनली हॉल का
  • जीन पियाजे के अनुसार संज्ञानात्‍मक विकास की अवस्‍थाऍ है- --> 4
  • कौन से आयु समूह के लिए एरिक्‍सन ने विकास की आठ अवस्‍थाऍ प्रस्‍तावित की- --> जन्‍म से मृ‍त्‍यु तक
  • एरिक्‍सन के अनुसार कौन सी अवस्‍था में बालक अधिक पहल करता है, लेकिन बहुत सशक्‍त भी हो सकता है, जो दोष भावनाओं की ओर ले जाता है- --> 3 से 6 वर्ष तक पहल बनाम दोष अवस्‍था
  • कौन सी संज्ञानात्‍मक प्रक्रिया है- --> चिंतन
  • मानसिक विकास को प्रभावित करने वाला कारक नही है- --> धार्मिक वातावरण
  • बालक के भाषा विकास में मुख्‍य योगदान देने वाली संस्‍था है- --> परिवार
  • नैतिक तर्क का अवस्‍था सिद्धांत किसने स्‍प्‍ष्ट किया – --> कोहलबर्ग
  • कोहलबर्ग के सिद्धांत के अनुसार कौनसी अवस्‍था पर एक व्‍यक्ति का निर्णय दूसरों के अनुमोदन, पारिवारिक आकांक्षाओं, परम्‍परिक मूल्‍यों एवं समाज के नियमों पर‍ आ‍धारित है- --> पारम्‍परिक
  • वंशानुक्रम से संबंधित प्रयोग चूहों पर किसने किया – --> मेण्‍डल ने
  • कौनसा ऊर्जावान मित्रवत् बालक का लक्षण नही है। --> आसानी से चिढ़ने वाला
  • किशोरावस्‍था प्रारंभ होती है। --> 12 वर्ष की आयु से
  • एक बच्‍चा सदैव दूसरों के प्रति सहानुभूति दिखाता है। यह आदत कहलाती है। --> भावना संबंधी आदत
  • पूर्णत: प्रकार्यशील व्‍यक्ति का सम्‍प्रत्‍यय किसने दिया – --> कार्ल रोजर्स
  • चिन्‍तन तथा तर्क का उद्देश्‍य क्‍या है। --> समस्‍या का समाधान करना ।
  • कौन सा सिद्धान्‍त छात्रों के व्‍यवहार को वांछित स्‍वरूप तथा दिशा प्रदान करने में शिक्षकों की सहायता करता है। --> प्रयास एवं त्रुटि का सिद्धान्‍त ।
  • अधिगम के किस सिद्धान्‍त के आधार पर बालक में भय ,प्रेम एवं घृणा के भाव आसनी से उत्‍पन्‍न किए जा सकते है। --> शास्‍त्रीय अनुबन्‍ध सिद्धान्‍त ।
  • सीखने की असफलताओं का कारण, समझने की असफलताऍ है। यह कथन किसका है। --> मर्सेल का ।
  • शिक्षण अधिगम के अन्‍तर्गत शिक्षक का प्रमुख कार्य है। --> बालक को सीखने के लिए अभिप्रेरित करना ।
  • अन्‍तदृष्टि अर्थात् सूझ – बूझ के द्वारा सीखने का सिद्धान्‍त गैस्‍टाल्‍टवादी मनोवैज्ञानिकों की देन है। यह सिद्धान्‍त किसके लिए सर्वाधिक उपयोगी है। --> तीव्रबुद्धि बालकों के लिए ।
  • अधिगम का कौन सा सिद्धान्‍त पाठ्यक्रम के विभिन्‍न अंगो के एकीकरण पर जोर देता है। --> गैस्‍टाल्‍ट सिद्धान्‍त ।
  • बच्‍चे में सीखने की प्रक्रिया कहॉ से शुरू होती है। --> परिवार से ।
  • किसी बालक में तर्क तथा समस्‍या समाधान की शक्ति का विकास कब होता है। --> बारहवें वर्ष में ।
  • किसी बालक की समस्‍याओं के विषय में पता लगाने के लिए कौन सी उपयोगी मनोवैज्ञानिक विधि है। --> परीक्षण विधि ।
  • अनुकरण द्वारा अधिगम का नियम किसके द्वारा प्रतिपादित किया गया । --> हेगाटी ।
  • सीखना विकास की प्रक्रिया है। यह कथन किसका है। --> वुडवर्थ ।
  • अन्‍तर्दृष्टि द्वारा अधिगम का प्रतिपादन किया गया। --> गैस्‍टाल्‍ट मनोवैज्ञानिकों द्वारा ।
  • भूल प्रयास द्वारा अधिगम के सिद्धान्‍त का प्रतिपादन निम्‍न मे से किसने किया था । --> थॉर्नडाइक ने ।
  • तार्किक चिन्‍तन किस का एक आवश्‍यक अंग है। --> समस्‍या–समाधान का ।
  • समस्‍या समाधान की अन्‍तर्दृष्टि विधि के सम्‍बन्‍ध में किसके द्वारा बनमानुषों पर किए गए प्रयोग उल्‍लेखनीय है। --> कोहलर के ।
  • सीखने के उद्दीपक अनुक्रिया सिद्धान्‍त के मुख्‍य प्रतिपादक कौन है। --> थॉर्नडाइक ।
  • शिक्षा का अधिकार अधिनियम 2009 मे एक अध्‍यापक के लिए न्‍यूनतम कार्य घंटे प्रति सप्‍ताह निर्धारित किए गए है। --> पैतालीस घंटे ।
  • रक्षा तंत्र बहुत सहायता करता है। --> दबाव से निपटने में ।
  • जिन इच्‍छाओं की पूर्ति नही होती उनका भण्‍डार गृह कौन सा है। --> इदम ।
  • मन्‍द अधिगमकर्ता जिनकी शैक्षिक उपलब्धि सामान्‍य योग्‍यता से कम रह जाती है, वे बालक कहे जाते है। --> पिछडे बालक ।
  • शारीरिक रूप से अक्षम बच्‍चों को सामान्‍यत: होता है। --> डिस्‍ग्राफिया ।
  • एक शिक्षक विषय वस्‍तु के साथ अपने बालक के सन्‍दर्भ में ………करता है। --> अन्‍त:क्रिया (interaction)।
  • आधुनिक विचारधारा के अनुसार सीखने की सर्वश्रेष्‍ठ विधि है। --> मिश्रित विधि ।
  • सीखने की प्रभावशाली विधि है। --> व्‍याख्‍यान एवं वाद विवाद विधि ।
  • बाल केन्द्रित शिक्षा का प्रमुख आधार है --> बालक का केन्द्र मानना
  • बाल केन्द्रित शिक्षा में किसकी भूमिका गौण होती है --> शिक्षक की
  • बाल केन्द्रित शिक्षा का उद्देश्य होता है --> बालक की रूचियों का ध्यान , अन्तर्निहित प्रतिभाओं का विकास , गतिविधियों का विकास
  • बाल केन्द्रित शिक्षा में शिक्षा प्रदान की जाती है --> कविताओं एवं कहानियों के रूप में
  • बाल केन्द्रित शिक्षा में प्रमुख स्थान दिया जाता है --> गतिविधियों एवं प्रयोगों को
  • बाल केन्द्रित शिक्षा में प्रमुख भूमिका होती है --> बालक की
  • प्रगतिशील शिक्षा का आधार होता है --> वैज्ञानिकता व तकनीकी
  • बाल्यावस्था के दो भाग कौन-कौन से हैं --> पूर्व बाल्यावस्था तथा उत्तर बाल्यावस्था
  • सात वर्ष की आयु में पहुंचते-पहुंचते एक सामान्य बालक का शब्द भण्डार हो जाता है , लगभग --> 6000 शब्द
  • संकल्प शक्ति के कितने अंग हैं --> तीन
  • व्यक्तिगत भेद को ज्ञात करने की विधियां हैं --> बुद्धि परीक्षण , व्यक्ति इतिहास विधि , रूचि परीक्षण
  • बालक के समाजीकरण का प्राथमिक घटक है --> क्रीड़ा स्थल
  • बालक के चारित्रिक विकास के स्तर हैं --> मूल प्रवृत्यात्मक , पुरस्कार व दण्ड , सामाजिकता
  • " बालक की शक्ति का वह अंश जो किसी काम में नहीं आता है , वह खेलों के माध्यम से बाहर निकाल दिया जाता है। " यह तथ्य कौन-सा सिद्धान्त कहता है --> अतिरिक्त शक्ति का सिद्धान्त
  • भाषा विकास के विभिन्न अंग कौन से हैं --> अक्षर ज्ञान , सुनकर भाषा समझना , ध्वनि पैदा करके भाषा बोलना Bal Vikas Shiksha Shastra Notes
  • स्टर्न के अनुसार खेल क्या है --> खेल एक ऐच्छिक , आत्म-नियन्त्रित क्रिया है।
  • संवेगात्मक स्थिरता का लक्षण है --> भीरू
  • अभिप्रेरणा का महत्व है --> रूचि के विकास में , चरित्र निर्माण में , ध्यान केन्द्रित करने में
  • उत्तर बाल्यकाल का समय कब होता है --> 6 से 12 वर्ष तक
  • भाषा विकास के क्रम में अन्ति क्रम (सोपान) है --> भाषा विकास की पूर्णावस्था
  • शिक्षा का कार्य है --> अर्जित रूचियों को स्वाभाविक बनाना।
  • बालक के सामाजिक विकास में सबसे महत्वपूर्ण कारक कौन-सा है --> वातावरण
  • बालक का शारीरिक, मानसिक, सामाजिक और संवेगात्मक विकास किस अवस्था में पूर्णता को प्राप्त होता है --> किशोरावस्था
  • चरित्र को निश्चित करने वाला महत्वपूर्ण कारक है --> मनोरंजन सम्बन्धी कारक
  • जिस आयु मेंबालक की मानसिक योग्यता का लगभग पूर्ण विकास हो जाता है , वह है --> 14 वर्ष
  • शिक्षा की दृष्टि से बाल की महत्वपूर्ण आवश्यकता क्या है --> बालकों के साथ मनोवैज्ञानिक व्यवहार की आवश्यकता
  • संवेगात्मक विकास में किस अवस्था में तीव्र परिवर्तन होता है --> किशोरावस्था
  • मानव शरीर का आकार किस ग्रन्थि की सक्रियता से बढ़ता है --> पिनीयल ग्रन्थि से
  • " दो बालकों में समान मानसिक योग्यताएं नहीं होती।" यह कथन है --> हरलॉक का
  • " संवेदना ज्ञान की पहली सीढ़ी " यह है --> मानसिक विकास
  • बालक की वृद्धि रूक जाती है --> शारीरिक परिपक्वता प्राप्त करने के बाद
  • तर्क , जिज्ञासा तथा निरीक्षण शक्ति का विकास होता है --> 11 वर्ष की आयु में
  • “Introduction of Psychology" नामक पुस्तक लिखी है --> हिलगार्ड तथा एटकिसन ने
  • ‘ ईमोशन ’ शब्द का अर्थ है --> उत्तेजित करना , उथल-पुथल पैदा करना , हलचल मचाना।
  • ‘ संवेग अभिप्रेरकों का भावनात्मक पक्ष है। ’ यह कथन है --> मैक्डूगल का
  • व्यक्ति के स्वाभाविक विकास को कहते हैं --> अभिवृद्धि
  • ‘ संवेग प्रकृति का हृदय है। ’ यह कथन है --> मैक्डूगल का
  • ‘Physical and Character’ पुस्तक के लेखक हैं --> थार्नडाइक
  • संवेगहीन व्यक्ति को माना जाता है --> पशु
  • सांवेगिक स्थिरता में किस वस्तु के प्रति निर्वेद अधिगम को बढ़ाते हैं --> साहस , जिज्ञासा, भौतिक वस्तु
  • कोई व्यक्ति डॉक्टर बनने की योग्यता रखता है तो कोई व्यक्ति शिक्षक बनने की योग्यता। यह किस कारण से होती है --> अभिरूचि के कारण
  • बाल्यावस्था में शिक्षा का स्वरूप होना चाहिए --> सामूहिक खेलों एवं रचनात्मक कार्यों के माध्यम से शिक्षा दी जानी चाहिए।
  • " सत्य अथवा तथ्यों के दृष्टिकोण से उत्तम प्रतिक्रिया का बल ही बुद्धि है। " बुद्धि की यह परिभाषा है --> थार्नडाइक की
  • एडोलसेन्स शब्द लैटिन भाषा के एडोलेसियर क्रिया से बना है , जिसका तात्पर्य है --> परिपक्वता का बढ़ना
  • किशोरावस्था का समय है --> 12 से 18 तक
  • मानव की वृद्धि एवं विकास की प्रक्रिया निम्न में से किस सिद्धान्त पर आधारित है --> विकास की दिशाका सिद्धान्त , परस्पर सम्बन्ध का सिद्धान्त , व्यक्तिगत भिन्नताओं का सिद्धान्त
  • पर्यावरण का निर्माण हुआ है --> परि + आवरण
  • बोरिंग के अनुसार जीन्स के अतिरिक्त व्यक्ति को प्रभावित करने वाली वस्तु है --> वातावरण
  • बुडवर्थ के अनुसार वातावरण का सम्बन्ध है --> बाह्य तत्वों से
  • बालकों को वंशानुक्रम से प्राप्त होती है --> वांछनीय एवं अवांछनीय आदतें
  • किशोर की शिक्षा में किस बात पर विशेष ध्यानाकर्षण की आवश्यकता होती है --> यौन शिक्षा पर , पूर्ण व्यावसायिक शिक्षा पर , पर्याप्त मानसिक विकास पर
  • किशोरावस्था की विशेषताओं को सर्वोत्तम रूप में व्यक्त करने वाला एक शब्द है --> परिवर्तन
  • किशोरावस्था के विकास को परिभाषित करने के लिए बिग एंड हण्ट ने किस शब्द को महत्वपूर्ण माना है --> परिवर्तन
  • किशोरावस्था में बालकों में सामाजिकता के विकास के सन्दर्भ में कौन-सा कथन असत्य है --> वे परिवार के कठोर नियन्त्रण में रहना पसन्द करते हैं।
  • निम्न में कौनसा कारक किशोरावस्था में बालक के विकास को प्रभावित करता है --> खान-पान , वंशानुक्रम , नियमित दिनचर्या
  • किशोरावस्था प्राप्त हो जाने पर , निम्न में से कौन-सा गुण बालक में नहीं आता है --> अधिक समायोजन का
  • ‘ दिवास्वप्न ’ किस संगठन तन्त्र में विकसित रूप प्राप्त करता है --> पलायन
  • " बालक की शक्ति का वह अंश जो किसी काम में नहीं आता है , वह खेलों के माध्यम से बाहर निकाल दिया जाता है। " यह तथ्य कौन-सा सिद्धान्त कहलाता है --> अतिरिक्त शक्तिका सिद्धान्त
  • बालक के समाजीकरण में भूमिका होती है --> परिवार की , विद्यालय की , परिवेश की
  • जिस बुद्धि का कार्य सूक्ष्य तथा अमूर्त प्रश्नों का चिन्तन तथा मनन द्वारा हल करना है , वह है --> अमूर्त बुद्धि
  • निरंकुश राजतन्त्र में समाजीकरण की प्रक्रिया होगी --> मन्द
  • किशोरावस्था में रुचियां होती है --> सामाजिक रूचियां , व्यावसायिक रूचियां , व्यक्तिगत रूचियां
  • जिस विधि के द्वारा बालक को आत्म-निर्देशन के माध्य से बुरी आदतों को छुड़वाने का प्रयास किया जाता है , वह विधि है --> आत्मनिर्देश विधि
  • संवेगात्मक एवं सामाजिक विकास के साथ-साथ चलने की प्रक्रिया को किस विद्वान ने स्वीकार किया है --> क्रो एण्ड क्रो
  • खेल के मैदान को किस विद्वान ने चरित्र निर्माण का स्थल माना है --> स्किनर तथा हैरीमैन ने
  • चरित्र को निश्चित करने वाला महत्वपूर्ण कारक है --> मनोरंजन संबंधी कारक
  • किस स्थिति में समाजीकरण की प्रक्रिया तीव्र होगी --> धर्मनिरपेक्षता
  • समाजीकरण की प्रक्रिया को प्रभावित करते है --> शिक्षा , समाज का स्वरूप , आर्थिक स्थिति
  • सामान्य बुद्धि बालक प्राय: किस अवस्था में बोलना सीख जाते हैं --> 11 माह
  • पोषाहार योजना सम्बन्धित है --> मिड डे मील योजना से
  • मिड डे मील योजना का प्रमुख लक्ष्य है --> बालक को पोषण प्रदान करना।
  • सामान्य ऊर्जा में पोषण का अर्थ माना जाता है --> सन्तुलित भोजन से
  • मिड डे मील योजना का प्रमुख संबंध है --> केन्द्र से
  • पोषण के प्रमुख पक्ष हैं --> सन्तुलित भोजन , नियमित भोजन
  • पोषण का विकृत रूप कहलाता है --> कुपोषण
  • एक शिक्षक को पूर्ण ज्ञान होना चाहिए --> पोषण का , पोषण के उपायों का , पोषक तत्वों का
  • व्यापक अर्थ में पोषण का सम्बन्ध होता है --> सन्तुलित भोजन से , स्वास्थ्यप्रद वातावरण एवं प्रकृति से
  • पोषण का अभाव अप्रत्यक्ष रूप से प्रभावित करता है --> सामाजिक विकास को
  • पोषण के अभाव में बालक का व्यवहार हो जाता है --> चिड़चिड़ा , अमर्यादित
  • पोषण का सम्बन्ध होता है --> शारीरिक एवं मानसिक विकास
  • सन्तुलित भोजन का स्वरूप निर्धारित होता है --> आयु वर्ग के अनुसार
  • अनुपयुक्त भोजन उत्पन्न करता है --> कुपोषण
  • पोषण में वृद्धि के उपाय होते है --> भोजन से सम्बन्धित, पर्यावरण से सम्बन्धित
  • पोषण के उपायों में प्रभावशीलता के लिए आवश्यक है --> शिक्षक सहयोग , अभिभावक सहयोग , विद्यार्थी सहयोग
  • निम्नलिखित में कौन-सी विशेषता पोषण से सम्बन्धित है --> सन्तुलित भोजन
  • सन्तुलित भोजन के लिए आवश्यक है --> शुद्धता एवं नियमितता
  • सन्तुलित भोजन के साथ पोषण के लिए आवश्यक है --> स्वास्थ्यप्रद वातावरण, उचित व्यायाम, खेलकूद
  • प्रोटीन सामान्य रूप से होती है --> दो प्रकार की
  • मांस से प्राप्त प्रोटीन को कहते है --> जन्तु जन्य प्रोटीन
  • क्वाशियरकर नामक रोग उत्पन्न होता है --> प्रोटीन की कमी से
  • गन्ने के रस , अंगूर तथा खजूर से प्रमुख रूप से प्राप्त होती है --> कार्बोज
  • कौन-सा स्रोत वनस्पतिजन्य प्रोटीन का है --> जौ
  • कार्बोज की अधिकता से कौन सा रोग उत्पन्न होता है --> मोटापा, बदहजमी
  • वसा के प्रमुख स्रोत हैं --> वनस्पति तेल व सूखे मेवे
  • शरीर को अधिक शक्ति प्रदान करता है --> वसा
  • घेंघा नामक रोग उत्पन्न होता है --> आयोडिन अथवा खनिज लवण की कमी से
  • विटामिन का आविष्कार हुआ था --> उन्नीसवीं शताब्दी के आरम्भ में
  • खनिज लवणों की कमी से रक्त को नहीं मिल पाता है --> हीमोग्लोबिन
  • विटामिन ए की कमी से बालकों में कौंन-सा रोग होता है --> रतौंधी
  • पेलाग्रा रोग किस विटामिन की कमी से होता है --> बी
  • बी काम्पलेक्स कहा जाता है --> B1, B2, B2 को
  • विटामिन बी की कमी से होता है --> बेरी-बेरी रोग
  • विटामिन ‘ सी ’ की कमी से कौन-सा रोग होता है --> स्कर्वी
  • विटामिन सी का प्रमुख स्त्रोत है --> आंवला
  • विटामिन डी की कमी से उत्पन्न होता है --> सूखा रोग
  • सूखा रोग पाया जाता है --> बालिकाओं में
  • स्त्रियों में मृदुलास्थि रोग किस विटामिन की कमी से होता है --> विटामिन डी
  • विटामिन ई की कमी से स्त्रियों में सम्भावना होती है --> बांझपन , गर्भपात
  • विटामिन ई की कमी से उत्पन्न होने वाला रोग है --> नपुंसकता
  • विटामिन ‘ के ’ की सर्वाधिक उपयोगिता होती है --> गर्भिणी स्त्री के लिए , स्तनपान कराने वाली महिलाओं के लिए
  • रक्त का थक्का न जमने का रोग किस विटामिन के अभाव से उत्पन्न होता है --> विटामिन ‘ के ‘
  • जल हमारे शरीर में कितने प्रतिशत है --> 70 प्रतिशत
  • विटामिन K का प्रमुख स्त्रोत है --> केला , गोभी , अण्डा
  • दूषित जल के पीने से उत्पन्न रोग है --> पीलिया , डायरिया
  • कार्य करने के लिए किस पदार्थ की आवश्यकता होती है --> कार्बोज की , कार्बोहाइड्रेट की
  • अभिभावकों को पोषण का ज्ञान कराने का सर्वोत्तम अवसर होता है --> शिक्षक–अभिभावक गोष्ठी
  • पोषण की क्रिया को बाल विकास से सम्बद्ध करने के लिए आवश्यक है --> निरन्तरता
  • शारीरिक विकास के लिए निरन्तरता के रूप में उपलब्ध होना चाहिए --> सन्तुलित भोजन , उचित व्यायाम
  • अध्यापक को पोषक के ज्ञान की आवश्यकता होती है --> बाल विकास के लिए , छात्रों के रोगों की जानकारी के लिए , अभिभावकों को पोषण का ज्ञान प्रदान कराने के लिए।
  • अनिरन्तरता का विकास प्रक्रिया में प्रमुख कारक है --> साधनों की अनिरन्तरता
  • साधनों की निरन्तरता में बालक विकास की गति को बनाती है --> तीव्र
  • साधनों की अनिरन्तरता बाल विकास को बनाती है --> मंद
  • एक बालक में विद्यालय के प्रथम दिन अध्यापक एवं विद्यालय के प्रति अरूचि उत्पन्न हो जाती है तो उसका प्रारम्भिक अनुभव माना जायेगा --> दोषपूर्ण
  • एक बालक को सन्तुलित भोजन की उपलब्धता सप्ताह में दो दिन होती है। इस अवस्था में उस बालक का विकास होगा --> अनियमित
  • सर्वोत्तम विकास के लिए प्रारम्भिक अनुभवों का स्वरूप होना चाहिए --> सुखद
  • एक बालक प्रथम अवसर पर एक विवाह समारोह में जाता है वहां उसको अनेक प्रकार की विसंगतियां दृष्टिगोचर होती हैं तो माना जायेगा कि बालक का सामाजिक विकास होगा --> मंद गति से
  • शिक्षण कार्य में बालक के प्रारम्भिक अनुभव को उत्तम बनाने का कार्य करने के लिए शिक्षक को प्रयोग करना चाहिए --> शिक्षण सूत्रों का
  • परवर्ती अनुभव का प्रयोग किया जा सकता है --> विकासकी परिस्थिति निर्माण में , विकास मार्ग को प्रशस्त करने में
  • बाल केन्द्रित शिक्षा में प्राथमिक स्तर पर सामान्यत: किस विधि का प्रयोग उचित माना जायेगा --> खेल विधि
  • परवर्ती अनुभवों का सम्बन्ध होता है --> परिणाम से
  • शिक्षा में कम्प्यूटर का प्रयोग माना जाता है --> प्रगतिशील शिक्षा
  • बालकों का वैज्ञानिक दृष्टिकोण विकसित करना उद्देश्य है --> बाल केन्द्रित शिक्षा एवं प्रगतिशील शिक्षा का
  • शिक्षण प्रक्रिया में शिक्षण यन्त्रों का प्रयोग किसकी देन माना जाता है --> प्रगतिशील शिक्षा की
  • समाज में अन्धविश्वास एवं रूढि़वादिता की समाप्ति के लिए आवश्यक है --> प्रगतिशील शिक्षा
  • शिक्षा में प्राथमिक स्तर पर खेलों का प्रयोग माना जाता है --> बाल केन्द्रित शिक्षा
  • शिक्षण अधिगम प्रक्रिया को प्रभावी बनाना उद्देश्य है --> बाल केन्द्रित शिक्षा एवं प्रगतिशील शिक्षा का
  • शिक्षण अधिगम सामग्री में प्रोजेक्टर , दूरदर्शन एवं वीडियो टेप का प्रयोग करना प्रमुख रूप से सम्बन्धित है --> प्रगतिशील शिक्षा का
  • बाल केन्द्रित शिक्षा में एवं प्रगतिशील शिक्षा में पाया जाता है --> घनिष्ठ सम्बन्ध
  • पाठ्यक्रम विविधता देन है --> बाल केन्द्रित शिक्षा एवं प्रगतिशील शिक्षा की
  • छात्रों के सर्वांगीण विकास का उद्देश्य निहित है --> बाल केन्द्रित शिक्षा एवं प्रगतिशील शिक्षा में
  • एक विद्यालय में जाति के आधार पर बालकों को उनकी रूचि एवं योग्यता के आधार पर शिक्षा प्रदान की जाती है। इस शिक्षा को माना जायेगा --> बाल केन्द्रित शिक्षा
  • विशेष बालकों के लिए उनकी शैक्षिक आवश्यकताओं की पूर्ति की जाती हैं --> बाल केन्द्रित शिक्षा में
  • बालकों को विद्यालय में किसी जाति या धर्म का भेदभाव किए बिना बालकों को उनकी रूचि एवं योग्यता के अनुसार शिक्षा प्रदान की जाती हैं। उनकी इस शिक्षा को माना जायेगा --> आदर्शवादी शिक्षा
  • बाल केन्द्रित शिक्षा एवं प्रगतिशील शिक्षा है --> एक-दूसरे की पूरक
  • एक बालक की लम्बाई 3 फुट थी , दो वर्ष बाद उसकी लम्बाई 4 फुट हो गयी। बालक की लम्बाई में होने वाले परिवर्तन को माना जायेगा --> वृद्धि एवं विकास
  • स्किनर के अनुसार वृद्धि एवं विकास का उदेश्य है --> प्रभावशाली व्यक्तित्व
  • परिवर्तन की अवधारणा सम्बन्धित है --> वृद्धि एवं विकास से
  • बाल केन्द्रित शिक्षा एवं प्रगतिशील शिक्षा के विकास में महत्वपूर्ण योगदान है --> मनोविज्ञान , विज्ञान , व तकनीकी का
  • वृद्धि एवं विकास का ज्ञान एक शिक्षक के लिए क्यों आवश्यक हैं --> सर्वांगीण विकास के लिए
  • क्रोगमैन के अनुसार वृद्धि का आशय है --> जैविकीय संयमों के अनुसार वृद्धि
  • सोरेन्सन के अनुसार वृद्धि सूचक है --> धनात्मकता का
  • गैसेल के अनुसार संकुचित दृष्टिकोण है --> वृद्धि का
  • गैसेल के अनुसार व्यापक दृष्टिकोण है --> विकास का
  • निम्नलिखित में कौन-सा तथ्य गैसेल के विकास के अवलोकन रूपों से सम्बन्धित है --> शरीर रचनात्मक , शरीर क्रिया विज्ञानात्मक , व्यवहारात्मक
  • सोरेन्सन के अनुसार वृद्धि मानी जाती है --> परिवर्तन का आधार
  • " विकास के अनुरूप व्यक्ति में नवीन योग्यताएं एवं विशेषताएं प्रकट होती है " यह कथन है --> श्रीमती हरलॉक का
  • सोरेन्स के अनुसार विकास है --> परिपक्वता एवं कार्य सुधार की प्रक्रिया
  • अभिवृद्धि में होने वाले परिवर्तन होते है --> शारीरिक
  • अभिवृद्धि में होने वाले परिवर्तन होते है --> मात्रात्मक
  • अभिवृद्धि में होने वाले परिवर्तन होते है --> रचनात्मक
  • अभिवृद्धि वृद्धि की प्रक्रिया चलती है --> गर्भावस्था से लेकर प्रौढ़ावस्था तक
  • अभिवृद्धि का क्रममानव को ले जाता है --> वृद्धावस्था की ओर
  • अभिवृद्धि कहलाती है --> कोशिकीय वृद्धि
  • अभिवृद्धि एक धारणा है --> संकीर्ण
  • अभिवृद्धि एक है --> साधारण प्रक्रिया
  • अभिवृद्धि की प्रक्रिया सम्भव है --> मापन
  • विकास की प्रक्रिया चलती है --> गर्भावस्था से बाल्यावस्था तक
  • अभिवृद्धि का सम्बन्ध है --> शारीरिक परिवर्तन से
  • विकास की प्रक्रिया में होने वाले परिवर्तन माने जाते है --> शारीरिक, मानसिक , सामाजिक
  • वृद्धिएवं विकास के सन्दर्भ में सत्य है --> अभिवृद्धि बाद में होती है व विकास पहले होता है।
  • विकास की प्रक्रिया के परिणाम हो सकते हैं --> रचनात्मक एवं विध्वंसात्मक
  • विकास का प्रमुख सम्बन्ध है --> परिपक्वता से
  • विकास के क्षेत्र को माना जाता है --> व्यापक प्रक्रिया से
  • विकास की प्रक्रिया में होने वाले परिवर्तन माने जाते है --> गुणात्मक
  • विकास की प्रक्रिया को कठिनाई के आधार पर स्वीकार किया जाता है --> जटिल प्रक्रिया के रूप में
  • विकास की प्रक्रिया में समावेश होता है --> वृद्धि एवं परिपक्वता का
  • क्रो एण्ड क्रो के अनुसार संवेग है --> मापात्मक अनुभव
  • ‘ संवेग पुनर्जागरण की प्रक्रिया है। " यह कथन है --> क्रो एण्ड क्रो का
  • ‘ संवेग शरीर की जटिल दशा है। ’ यह कथन है --> जेम्स ड्रेकर का
  • विकास की प्रक्रिया का सम्भव है --> भविष्यवाणी करना
  • संवेगों में मानव को अनुभूतियां होती है --> सुखद व दु:खद
  • संवेगों की उत्पत्ति होती है --> परिस्थिति एवं मूलप्रवृत्ति के आधार पर
  • मैक्डूगल के अनुसार संवेग होते हैं --> चौदह
  • भारतीय विद्वानों के अनुसार संवेगों के प्रकार है --> दो
  • सम्मान , भक्ति और श्रद्धा सम्बन्धित है --> रागात्मक संवेग से
  • गर्व , अभिमान एवं अधिकार सम्बन्धित है --> द्वेषात्मक संवेग से
  • भारतीय विद्वानों के अनुसार संवेग है --> रागात्मक संवेग
  • क्रोध का सम्बन्ध किस मूल प्रवृत्ति से होता है --> युयुत्सा
  • निवृत्ति मूल प्रवृत्ति के आधार पर कौन-सा संवेग उत्पन्न होता है --> घृणा
  • कामुकता की स्थिति के लिए कौन-सी प्रवृत्तिउत्तरदायी है --> काम प्रवृत्ति
  • सन्तान की कामना नाम मूल प्रवृत्ति कौन-सा संवेग उत्पन्न करती है --> वात्सल्य
  • दीनता मानव में किस संवेग को उत्पन्न करती है --> आत्महीनता
  • आत्म अभिमान संवेग किस मूल प्रवृत्ति के कारण उत्पन्न होता है --> आत्म गौरव
  • भोजन की तलाश किस संवेग से सम्बन्धित है --> भूख से
  • रचना धर्मिता मूल प्रवृत्ति से कौन-सा संवेग विकसित होता है --> कृतिभाव
  • संग्रहणमूल प्रवृत्ति का सम्बन्ध है --> अधिकार से
  • थकान के कारण बालक के व्यवहार में कौन-सा संवेग उदय हो सकता है --> क्रोध
  • संवेगात्मक अस्थिरता पायी जाती है --> कमजोर बालकों में , बीमार बालकों में
  • मैक्डूगल के अनुसार हास्य है --> संवेग एवं मूल प्रवृत्ति
  • संवेगात्मक स्थिरता किन बालकों में देखी जातीहै --> प्रतिभाशाली बालकों में
  • किस परिवार में बालक में संवेगात्मक स्थिरता उत्पन्न होगी --> सुरक्षित परिवार में , प्रतिभाशाली परिवार में , सुखद परिवार में
  • किस सामाजिक स्थिति के बालकों में संवेगात्मक अस्थिरता पायी जाती है --> निम्न आर्थिक स्थिति में , गरीब एवं दलित परिवारों में
  • एक बालक को अपने किये जाने वाले कार्यों पर समाज में प्रशंसा एवं पुरस्कार प्राप्त नहीं होता है , तो उसका व्यवहार होगा --> संवेगात्मक अस्थिरता से परिपूर्ण
  • माता-पिता का किस प्रकार का व्यवहार बालकों के लिए संवेगात्मक स्थिरता प्रदान करता है --> सकारात्मक
  • बालकों में संवेगात्मक स्थिरता उत्पन्न करने के लिए शिक्षक को करना चाहिए --> सकारात्मक व्यवहार एवं आत्मीय व्यवहार
  • विद्यालय में संवेगात्मक स्थिरता प्रदान करने के लिए किस प्रकार की गतिविधियां आयोजित करनी चाहिए --> पिकनिक , खेल , पर्यटन Bal
  • संवेगात्मक अस्थिरता प्रत्यक्ष एवं अप्रत्यक्ष रूप से प्रभावित करती है --> शारीरिक विकास को , मानसिक विकास को , सामाजिक विकास को
  • आश्चर्य संवेग का उदय एक बालक में किस मूल प्रवृत्ति के कारण होता है --> जिज्ञासा
  • संवेगात्मक स्थिरता उत्पन्न करने के लिए विद्यालय में छात्रोंको प्रदान करना चाहिए --> पुरस्कार , प्रेरणा , प्रशंसा
  • " समाजीकरण एवं व्यक्तिकरण एक ही प्रक्रिया के पहलू है। " यह कथन है --> मैकाइवर का
  • " विद्यालय समाज का लघु रूप है। " यह कथन है --> ड्यूवी का
  • बालक के समाजीकरण की सबसे महत्वपूर्ण संस्था है --> परिवार
  • बालक के समाजीकरण के लिए प्राथमिक व्यक्ति कहा गया है --> माता को
  • बालक के समाजीकरण चक्र का अन्तिम पड़ाव बिन्दु अपने में समाहित करता है --> पास-पड़ोस को
  • " वह प्रक्रिया जिससे बालक अपने समाज में स्वीकृत तरीकों को सीखता है तथा अपने व्यक्तित्व का अंग बनाता है। " उसे कहते हैं --> सामाजिक परिवर्तन
  • " समाजीकरण एक प्रकार का सीखना है , जो सीखने वाले को सामाजिक कार्य करने के योग्य बनाता है। " यह कथन है --> जॉनसन का
  • समाजीकरणका आशय रॉस के अनुसार बालकों में कार्य करने की इच्छा विकसित करना है --> समूह में अथवा एक साथ कार्य करने में
  • समाजीकरण के माध्यम से व्यक्ति समाज का कैसा सदस्य बनता है --> मान्य , कुशल , सहयोगी
  • एक बालक की समाजीकरण की प्रक्रिया किस परिस्थिति में उचित होगी --> पोषण
  • समाजीकरण को सामाजिक अनुकूलन की प्रक्रिया किस विद्वान ने स्वीकार की है --> रॉस ने
  • बुद्धि-लब्धि के लिए विशिष्ट श्रेय किस मनोवैज्ञानिक को जाता है --> स्टर्न
  • शिक्षा मनोविज्ञान की उत्पति मानी जाती है --> वर्ष 1900
  • ‘ मनोविज्ञान ’ शब्द के समांनान्तर अंग्रेजी भाषा के शब्द ‘ साइकोलॉजी ’ की व्युत्पत्ति किस भाषा से हुई है --> ग्रीक भाषा से
  • शिक्षा का शाब्दिक अर्थ है --> पालन–पोषण करना , सामने लाना और नेत्रित्व देना
  • “ मनोविज्ञान वातावरण के सम्पर्क में आने वाले व्यक्तियों के क्रियाकलापों का विज्ञान है " यह कथन है --> वुडवर्थ का
  • “ मनोविज्ञान शिक्षा का आधारभूत विज्ञान है " यह कथन है --> स्किनर का
  • शिक्षा मनोविज्ञान का सम्बन्ध है --> शिक्षा से , दर्शन से और मनोविज्ञान से
  • शिक्षा मनोविज्ञान की विषय-सामग्री कस सम्बन्ध है --> सीखना
  • शिक्षा मनोविज्ञान में जिन बालकों के व्यवहार का अध्ययन किया जाता है , वह है --> मंध बुद्धि , पिछड़े हुए और समस्यात्मक
  • “ शिक्षा मनोविज्ञान , अधियापको की तैयारी की आधारशिला है" यह कथन है --> स्किनर का
  • आंकड़ों का व्यवस्थापन करने हेतु संकलित आंकड़ों के संबन्ध में निम्नलिखित कार्य करना होता है --> वर्गीकरण , सारणीयन , आलेखी निरूपण
  • मनोविज्ञान शिक्षा के क्षेत्र में सहायता देता है तथा बताता है --> शिक्षा के उदेश्य सम्भावित हैं अथवा नहीं
  • सिखने की प्रक्रिया के अन्तर्गत शिक्षा मनोविज्ञान अध्ययन करता है --> प्रेरणा व् पुर्नबलन के प्रभाव का अध्ययन
  • “ मनोविज्ञान मन का विज्ञान है" यह कथन है --> अरस्तू का
  • शिक्षा मनोविज्ञान का अध्ययन अध्यापक को इसलिए करना चाहिए , ताकि --> इसकी सहायता से अपने शिक्षण को अधिक प्रभावशाली बना सके
  • “ मनोविज्ञान व्यवहार का शुद्ध विज्ञान है " इस परिभाषा के प्रतिपादक हैं --> ई० वाटसन
  • अचेतन मन का अध्ययन किया जाता है --> मनोविश्लेषण विधियों द्वारा
  • मनोविश्लेषणात्मक प्रणाली के जन्मदाता हैं --> सिंगमण्ड फ्राइड
  • वर्तमान समय में मनोविज्ञान है --> व्यवहार का विज्ञान
  • शिक्षा मनोविज्ञान का विषय क्षेत्र नहीं है --> शैक्षिक मूल्यांकन
  • ‘साइकी ’ का अर्थ है --> मानवीय आत्मा या मन
  • मनोविज्ञान को व्यवहार का विज्ञान कहा --> वाटसन ने
  • “ मनोविज्ञान मन का वैज्ञानिक अध्ययन है , जिसके अन्तर्गत न केवल बौद्धिक , अपितु संवेगात्मक अनुभूतियों , उत्प्रेरक शक्तियों तथा कार्य या व्यवहार भी सम्मिलित है " यह कथन है --> सी० डब्ल्यू० वैलेंटाइन का
  • मनोविज्ञान --> आत्मा का विज्ञान है , मन का विज्ञान है , चेतना का विज्ञान है
  • मानव मन को प्रभावित करने वाला करक है --> व्यक्ति की रुचियाँ , अभिक्षमताए अभियोग्यताए व् वातावरण है
  • ‘ शिक्षा किसी निश्चित स्थान पर प्राप्त की जाती है ‘ यह कथन शिक्षा के किस अर्थ में प्रयुक्त होता है --> शिक्षा का संकुचित अर्थ
  • मनोविज्ञान को शुद्ध विज्ञान मन है --> जेम्स ड्रेवर ने
  • शिक्षा मनोविज्ञान --> मनोविज्ञान का एक अंग है
  • शिक्षा मनोविज्ञान की पकृति से सम्बन्ध में कहा जा सकता है --> यह सर्वव्यापी है तो सार्वभौमिक भी
  • मनोविज्ञान के अंतर्गत --> मानव का अध्ययन किया जाता है
  • मनोविज्ञान शिक्षा के क्षेत्र में सहायता देता है तथा स्पष्ट करता है --> शिक्षा के उदेश्य की सम्भावना
  • शिक्षक को शिक्षा मनोविज्ञान के अध्य्यन की प्रत्यक्ष आवश्यकता नहीं है --> शारीरिक सुडौलता
  • मनोइयाँ का सम्बन्ध प्राणिमात्र के व्यवहार के अध्ययन से है , जबकि शिक्षा मनोविज्ञान का क्षेत्र --> मानवीय व्यवहार के अध्य्यन से है , शैक्षिक संस्थितियों में मानव व्यवहार से है
  • शिक्षण प्रक्रिया के अंग है --> शिक्षण के उदेश्य , शिक्षण को सार्थक बनाने वाले ज्ञानानुभव , शिक्षण का मूल्यांकन
  • शिक्षा मनोविज्ञान के अध्य्यन के उदेश्य है --> विद्यार्थियों द्वारा किसी बात के सीखे जाने को प्रभावित करना
  • शिक्षा मनोविज्ञान का मूल उद्श्य है --> विद्यार्थियों योग्यताओं एवं क्षमताओं को ध्यान में रखते हुए उनके द्वारा किसी बात को सीखे जाने से संबन्धित बात को प्रभावित करता है
  • शिक्षा का सम्बन्ध है --> शिक्षा के उदेश्य से और कक्षा पर्यावरण व वातावरण से
  • शिक्षा मनोविज्ञान का क्षेत्र है --> व्यापक
  • शिक्षा मनोविज्ञान के सामान्य उदेश्य है --> बालक के व्यक्तित्व का विकास , शिक्षण कार्य में सहायता और शिक्षण विधियों में सुधार
  • “ अवस्ता विशेष के अनुभवों के आधार पर ही हमें किसी को बालक , युवा एवं वृद्ध कहना चाहिए " यह कथन है --> फ्रोबेल का
  • शिक्षा मनोविज्ञान का प्रमुख उदेश्य है --> बाल केन्द्रित शिक्षा का विकास
  • शिक्षा मनोविज्ञान आवश्यक है --> शिक्षा एवं अभिभावकों के लिए
  • शिक्षा मनोविज्ञान का मुख्य सम्बन्ध सिखने से है l यह कथन है --> सॉरे एवं टेलफ़ोर्ड का
  • अमेरिका में प्रकाशित ‘Principal of Psychology’ के लेखक हैं --> विलियम जेम्स
  • शिक्षा मनोविज्ञान का वर्तमान स्वरुप है --> व्यापक
  • मनोविज्ञान की आधारशिला किस पुस्तक में राखी गई- मनोविज्ञान के सिद्धान्त
  • गौरिसन के अनुसार शिक्षा मनोविज्ञान का उदेश्य है --> व्यवहार का ज्ञान
  • कुप्पूस्वामी के अनुसार शिक्षा मनोविज्ञान के सिद्धांन्तों का सर्वोत्तम प्रयोग होता है --> उत्तम शिक्षा एवं उत्तम अधिगम में
  • शिक्षा मनोविज्ञान का प्रमुख उदेश्य कोलेसनिक के अनुसार है --> शिक्षा की समस्याओं का समाधान करना
  • स्किनर के अनुसार शिक्षा मनोविज्ञान के सामान्य उदेश्य हैं --> बाल विकास
  • स्किनर के अनुसार शिक्षा मनोविज्ञान के विशिष्ट उदेश्य हैं --> बालकों के वांछनीय
  • व्यवहार के अनुरूप शिक्षा के स्तर एवं उदेश्यों को निचित करने में सहायता करना
  • शिक्षा मनोविज्ञान के क्षेत्र में वह सभी ज्ञान और विधियां सम्मिलित हैं जो सिखने की प्रक्रिया से अधिक अच्छी प्रकार समझने में सहायक हैं l यह कथन है --> ली का
  • गेट्स के अनुसार शिक्षा मनोविज्ञान की सिमा है --> अस्थिर एवं परिवर्तनशील
  • कैली के अनुसार शिक्षा मनोविज्ञान के उदेश्य हैं --> नौ
  • “ अवस्था विशेष के आधार पर ही हमें किसी को बालक युवा या वृद्ध कहना चाहिए " यह कथन है --> फ़्रॉबेल का
  • हरबर्ट के अनुसार शिक्षा सिद्धान्तों का आधार होना चाहिए --> मनोविज्ञानिक
  • माण्टेसरी के अनुसार एक अध्यापक द्वारा उस स्थिति में ही शिक्षण कार्य प्रभावी ढंग से किया जा सकता है , जब उसे ज्ञान होगा --> मनोविज्ञान के प्रयोगात्मक स्वरुप का
  • वर्तमान समय में शिक्षा मनोविज्ञान की आवश्यकता समझी जाती है --> सर्वांगीण विकास में
  • शिक्षा मनोविज्ञान का प्रमुख लाभ है --> शिक्षक शिक्षार्थी मधुर संम्बन्ध
  • कक्षा में छात्रों को उनकी विभिन्नताओं के आधार पर पहचानने के लिए शिक्षक को ज्ञान होना चाहिए --> शिक्षा मनोविज्ञान का
  • वर्तमान समय में शिक्षा मनोविज्ञान की आवश्यकता है --> बाल केन्द्रित शिक्षा
  • समय सरणी में गणित , विज्ञान या कठिन विषय के कालांश पहले क्यों रखे जाते हैं --> मनोविज्ञान के आधार पर
  • सफल एवं प्रभावशाली शिक्षा अधिगम प्रक्रिया के लिए आवश्यक है --> शिक्षण अधिगम सामग्री का प्रयोग एवं शिक्षा मनोविज्ञान के सिद्धान्तों का प्रयोग
  • निर्देशन एवं परामर्श में किस विषय का अधिक उपयोग किया जाता है --> शिक्षा मनोविज्ञान का
  • बुद्धि परीक्षण विषय है --> शिक्षा मनोविज्ञान का
  • शिक्षक मनोविज्ञान के ज्ञान द्वारा बालकों की --> बुद्धि तथा रुचियों की जानकारी करके शिक्षा देता है , प्रकृति को जान कर शिक्षा देता है और आर्थिक स्तिथि तथा पारिवारिक स्थिति की जानकारी लेकर शिक्षा देता है
  • मनोविज्ञान का शिक्षा के क्षेत्र में योगदान है --> अब शिक्षा बाल केन्द्रित हो गई है , शिक्षक बालकों से निकट का संम्पर्क स्थापित करने का प्रयास करता है और शिक्षक को छात्रों की आवश्यकता का ज्ञान हो सकता है l
  • छात्रों की योग्यता एवं रूचि के आधार पर पठ्यक्रम निर्माण में योगदान होता है --> शिक्षा मनोविज्ञान का
  • शिक्षा मनोविज्ञान एक विज्ञान है --> शैक्षिक सिद्धान्तों का
  • " व्यवहार के सामाजिक नियमो से विचलित होने वाले बालक को अपराधी कहते है। " उक्त कथन है --> एडलर का
  • मनोनाटकीय विधि के प्रवर्तक कौन हैं --> ट्रो
  • " वह हर बच्चा जो अपनी आयु स्तर के बच्चो में किसी योग्यता में अधिक हो और जो हमारे समाज के लिए कुछ महत्वपूर्ण नई देन दे , प्रतिभाशाली बालक है। " उक्त कथन है --> कॉलेसनिक का
  • निरीक्षण और मापन पर विशेष बल देने वाला सम्प्रदाय है --> व्यवहारवाद
  • शिक्षा में संवेगों का क्या महत्व है --> बालक के सम्पूर्ण व्यक्तित्व पर प्रभाव पड़ता है।
  • " मूल प्रवृत्तियां चरित्र निर्माण करने के लिए कच्ची सामग्री है। शिक्षक को अपने सब कार्यों में उनके प्रति ध्यान देना आवश्यक है। " यह कथन है --> रॉस का
  • मूल प्रवृति क्रिया करने का बिना सीखा स्वरूप है। जैसे-मूल प्रवृत्ति है --> काम
  • " आदत एक सामान्य प्रवृति है। इस प्रवृत्ति का शिक्षा में सफलतापूर्वक उपयोग किया जा सकता है। " यह कथन है --> रॉस का
  • मैकडूगल ने अनुकरण के कई प्रकार बताए हैं। निम्न में से कौन-सा उनमें से नहीं है --> अचेतन अनुकरण
  • बालक चेतन रूप से सीखने का प्रयास करता है --> अनुकरण द्वारा
  • समंजन दूषित होता है --> कुण्ठा से एवं संघर्ष से
  • अधिगम में उन्नति पूर्ण सम्भव है --> सिद्धान्त रूप में
  • ‘An Introduction to Social Psychology’ नामक पुस्तक में ‘ मूल प्रवृत्तियो के सिद्धान्त ’ का प्रतिपादन सन् 1908 में किसने किया था --> मैक्डूगल ने
  • चिन्तन शक्ति का प्रयोग देने का अवसर देते है --> तर्क , वाद-विवाद , समस्या-समाधान
  • बालक का समाजीकरण निम्नलिखित तकलीक से निर्धारित होता है --> समाजमिति तकनीक
  • मूल प्रवृत्तियों में जिसका वर्गीकरण मौलिक और सर्वमान्य है , वह है --> मैक्डूगल
  • समायोजन की विधियां है --> उदात्तीकराण् , प्रक्षेपण , प्रतिगमन
  • समायोजन दूषित होता है --> कुण्ठा से व संघर्ष से
  • एक समायोजित व्यक्ति की विशेषता नहीं है --> वैयक्तिक उद्देश्यों का प्रदर्शन
  • बुद्धि का सबसे पुराना सिद्धान्‍त कौन सा है। --> बुद्धि का सबसे पुराना सिद्धान्‍त एक कारक सिद्धान्‍त है।
  • बुद्धि का द्विकारक सिद्धान्‍त किसने दिया। --> स्‍पीयर मैन ने दिया।
  • स्‍पीयर मैन कहॉं के निवासी थे। --> स्‍पीयर मैन फ्रांस के निवासी थे।
  • स्‍पीयर मैन पहले किस विषय के प्रोफेसर थे। --> स्‍पीयर मैन पहले संख्‍यकी विषय के प्रोफेसर थे बाद में मनोविज्ञान के प्रोफेसर बने।
  • स्‍पीयर मैन ने बुद्धि का सम्‍बन्‍ध किस से बताया है। --> स्‍पीयर मैन ने बुद्धि का सम्‍बन्‍ध चिन्‍तन से बताया है।
  • पियाजे के अनुसार निम्‍नलिखित में से कौन सी अवस्‍था है जिसमें बच्‍चा अमूर्त संकल्‍पनाओं के विषय में तार्किक चिंतन करना आरंभ करता है। --> औपचारिक संक्रियात्‍मक अवस्‍था
  • बच्‍चों में बौद्धिक विकास की चार विशिष्‍ट अवस्‍थाओं की पहचान की गई। --> पियाजे द्वारा
  • ‘’विकास कभी न समाप्‍त होने वाली प्रक्रिया है’’ यह विचार किससे संबंधित है। --> निरन्‍तरता का सिद्धांत
  • वह अवस्‍था जब बच्‍चा तार्किक रूप से वस्‍तुओं व घटनाओं के विषय में चिंतन प्रारंभ करता है। --> मूर्त संक्रियात्‍मक अवस्‍था
  • किस अवस्‍था मे बच्‍चे अपने समवयस्‍क समूह के सक्रिय सदस्‍य हो जाते है। --> किशोरावस्‍था
  • बच्‍चे के संज्ञानात्‍मक विकास को सबसे अच्‍छे तरीके से कहॉ परिभाषित किया जा सकता है। --> विद्यालय एवं कक्षा में
  • पियाजे के अनुसार बौद्धिक विकास का निर्धारक तत्‍व नही है। --> सामाजिक संचरण
  • बालकों की सोच अमूर्तता की अपेक्षा मूर्त अनुभवों एवं प्रत्‍ययों से होती है। यह अवस्‍था है। --> 7 से 12 वर्ष तक
  • संवेदी पेशीय अवस्‍था होती है। --> 0 - 2 वर्ष तक
  • एक 13 वर्षीय बालक बात-बात में अपने बड़ों से झगड़ा करने लगता है और हमेशा स्‍वयं को सही साबित करने की कोशिश करता है वह विकास की कौन सी अवस्‍था है। --> किशोरावस्‍था
  • ‘खिलौनों की आयु कहा जाता है।‘ --> पूर्व बाल्‍यावस्‍था को
  • उत्‍तर बाल्‍यावस्‍था में बालक भौतिक वस्‍तुओं के किस आवश्‍यक तत्‍व में परिवर्तन समझने लगता है। --> द्रव्‍यमान, संख्‍या और क्षेत्र
  • दूसरे वर्ष के अंत तक शिशु का शब्‍द भंडार हो जाता है। --> 100 शब्‍द
  • शर्म तथा गर्व जैसी भावना का विकास किस अवस्‍था में होता है। --> बाल्‍यावस्‍था
  • मैक्‍डूगल के अनुसार मूल प्रवृति ‘जिज्ञासा’ का संबंध कौन संवेग से है। --> आश्चर्य
  • शैशवावस्‍था की मुख्‍य विशेषता नही है। --> चिन्‍तन प्रक्रिया
  • किसी विद्यार्थी कह सबसे महत्‍वपूर्ण विशेषता है। --> आज्ञाकारिता
  • मानवीय मूल्‍यों, जो प्रकृति में सार्वत्रिक हैं, के विकास का अर्थ है- --> अभिव्‍यक्ति
  • किस स्‍तर के बच्‍चे अपने समकक्षी वर्ग के सक्रिय सदस्‍य बन जाते है। --> किशोरावस्‍था
  • विकास शुरू होता है। --> प्रसवपूर्ण अवस्‍था से
  • बहुविध बुद्धि सिद्धांत के अनुसार सभी प्रकार के पशुओं, खनिजों और पेड़-पौधों को पहचाने और वर्गीकृत करने की योग्‍यता ……………… कहलाती है। --> संज्ञानात्‍मक गतिविधि
  • पियाजे के अधिगम के संज्ञानात्‍मक सिद्धांत के अनुसार, वह प्रक्रिया जिसके द्वारा संज्ञानात्‍मक संरचना को संशोधित किया जाता है …………….. कहलाती है। --> समावेशन
  • कोहलबर्ग के अनुसार सही और गलत प्रश्‍नों के बारे में निर्णय लेने में शामिल चिंतन प्रक्रिया को कहा जाता है। --> नैतिक तर्कणा
  • एक व्‍यक्ति अपने समकक्ष व्‍यक्तियों के समूह के प्रति आक्रामक व्‍यवहार करता है और विद्यालय के मानदंडों को नही मानता। इस विद्यार्थी को ………में सहायता की आवश्‍यकता है। --> भावात्‍मक क्षेत्र
  • शिक्षक को यह सलाह दी जाती है कि वे उपने शिक्षार्थियों को सामूहिक गतिविधियों में शामिल करें, क्‍योंकि सीखने को सुगम बनाने के अतिरिक्‍त, ये……………….. में भी सहायता करती है। --> समाजीकरण
  • ब्रूनर किस समप्रदाय के समर्थक थे। --> संज्ञानवादी
  • कौन सा सिद्धान्‍त जीव विधि के हर क्ष्‍ोत्र पर बल देता है। --> क्षेत्रीय सिद्धान्‍त
  • गेस्‍टाल्‍ट का अर्थ क्‍या है। --> सम्‍पूर्ण या समग्र
  • प्रतिस्‍थापन का सिद्धान्‍त किस वैज्ञानिक ने दिया। --> गुथरी ने
  • स्‍वसिद्धान्‍त किसने दिया । --> कार्ल रोजर ने
  • आवश्‍यकता का पद सोपान सिद्धान्‍त किसने दिया। --> आब्राहिम मौसले ने
  • अधिगम का अर्थ क्‍या है । --> सीखन
  • अधिगम से क्‍या तात्‍पर्य है। --> मानव व्‍यवहार में होने वाला स्‍थाई परिवर्तन अधिगम कहलाता है।
  • अधिगम पूर्ण कब होगा। --> मानव व्‍यवहार में स्‍थाई परिवर्तन हो जाये।
  • संज्ञान किसे कहते है। --> किसी ज्ञान को ग्रहण करना ही संज्ञान कहलाता है।
  • व्‍यवहारवादी मनोविज्ञान के जनक कौन है। --> वाटसन ।
  • मनोविज्ञान के जनक कौन है। --> सिंगमड फ्रायड
  • मनोविशलेषणात्‍मक मनोविज्ञान के जनक कौन है। --> सिंगमड फ्रायड
  • अंधो की लिपि के जनक कौन है --> लुई ब्रेल
  • L. K. G व U. K. G पद्धति के जनक कौन है। --> फ्रोबेल
  • नर्सरी पद्धति के जनक कौन है। --> मारिया मान्‍टेसरी
  • भूल एवं प्रयत्‍न सिद्धान्‍त किसने दिया। --> थॉर्नडाइक ने
  • अनुकूलित अनुक्रिया या क्‍लासिकी अुनबन्‍ध सिद्धान्‍त किसने दिया । --> पैवलॉव ने
  • क्रिया प्रसूत अनुबन्‍ध सिद्धान्‍त किसने दिया । --> स्किनर ने
  • जीनप्‍याजे किस विचारधारा के समर्थक थे। --> संज्ञानात्‍मक
  • जीनप्‍याजे किस देश के निवासी थे। --> स्विट्जरलैण्‍ड के
  • जीनप्‍याजे ने अपने प्रयोग किस-किस पर किये। --> जीनप्‍याजे ने अपने प्रयोग अपनी दो पुत्री व एक पुत्र पर किये ।
  • वह कौन मनोवैज्ञानिक है जो पहले जीवविज्ञान के प्रोफेसर थे बाद मे मनोविज्ञान के प्रोफेसर बने । --> जीनप्‍याजे
  • स्‍कीमा सिद्धान्‍त के जनक कौन है। --> जीनप्‍याजे
  • कोहलर किस समप्रदाय के समर्थक थे। --> संज्ञानवादी
  • कोहलबर्ग का विकास सिद्धांत किससे संबंधित है। --> नैतिक विकास
  • ……………. के अतिरिक्‍त बुद्धि के निम्‍नलिखित पक्षों को स्‍टर्नबर्ग के त्रितंत्र सिद्धांत में संबोधित किया गया है। --> सामाजिक
  • थ, फ, च ध्‍वनियॉं है। --> स्‍वनिम
  • बालकों की सोच अमूर्तता की अपेक्षा मूर्त अनुभवों एवं प्रत्‍ययों से होती है। यह अवस्‍था है- --> 7 से 12 वर्ष तक
  • मानव विकास किन दोनों योगदान का परिणाम है। --> वंशानुक्रम एवं वातावरण का
  • निम्‍न में से कौन पियाजे के अनुसार बौद्धिक विकास का निर्धारक तत्‍व नही है। --> सामाजिक संचरण
  • समस्‍या के अर्थ को जानने की योग्‍यता, वातावरण के दोषों, कमियों एवं रिक्तियों के प्रति सजगता वि‍शेषता है। --> सृजनशील बालकों की
  • एक क्रिकेट खिलाड़ी अपनी गेंदबाजी के कौशल को विकसित कर लेता है, पर यह उसके बल्‍लेबाली के कौशल को प्रभावित नही करता। इसे कहते है- --> शून्‍य प्रशिक्षण अंतरण
  • गिलफोर्ड ने ‘अभिसारी चिंतन’ पद का प्रयोग किसके समान अर्थ में किया जाता है। --> सृजनात्‍मकता
  • व्‍यक्ति एवं बुद्धि में वंशानुक्रम की --> नाममात्र की भूमिका है।
  • जिन इच्‍छाओं की पूर्ति नही होती, उनमें से भंडारगृह किसका है। --> इदम्
  • बालक के सामाजिक विकास में सबसे महत्‍वपूर्ण कारक कौन सा है। --> वातावरण
  • लड़कियों में बाह्य परिवर्तन किस अवस्‍था में होने लगता है। --> किशोरावस्‍था
  • भाषा विकास के क्रम में अंतिम क्रम है- --> भाषा विकास की पूर्णावस्‍था
  • विकासात्‍मक बालमनोविज्ञान का जनक किसे माना गया है। --> जीन पियाजे को
  • संवेगात्मक स्थिरता का लक्षण है- --> समायोजित
  • संवेग शब्‍द का शाब्दिक अर्थ है- --> उत्‍तेजना या भावों में उथल पुथल
  • लैमार्क ने अध्‍ययन किया था --> वंशानुक्रम का
  • बालक के सामाजिकरण का प्रथम घटक है। --> परिवार
  • प्राकृतिक चयन के सिद्धांत का संबंध है। --> डार्विन से
  • अब शिक्षा हो गई है। --> बाल केन्द्रित
  • पैतृक गुणों के हस्‍तांतरण के सिद्धांतों को स्‍पष्‍ट किया था। --> मैण्‍डल ने
  • ‘बालक की अभिबृद्धि जैवकीय नियमों के अनुसार होती है’ यह कथन है- --> क्रोगमैन का
  • बालविकास का अर्थ है। --> बालक का गुणात्‍मक परिमाणात्‍मक परिवर्तन
  • अधिगम का पुनरावृत्ति का सिद्धांत दिया है। --> पैट्रिक पावलाव ने
  • लक्ष्य प्राप्ति में सूझ का महत्व माना है --> ड्रेवर ने
  • " सीखने की प्रक्रिया की एक प्रमुख विशेषता पठार है। " यह कथन है --> रॉस का
  • अधिगम को प्रभावित करने वाले कारक है --> भूख एवं परिपक्वता , प्रशंसा एवं निन्दा , शिक्षण पद्धति एवं अभ्यास
  • सीखने में उन्नति पूर्ण सम्भव है --> सिद्धान्त रूप में
  • सीखने की आवश्यकता है --> बालक का पूर्ण व्यक्तित्व
  • सीखने की अन्तिम अवस्था में सीखने की गति होती है --> धीमी
  • सीखना प्रारम्भ होता है --> जिज्ञासा
  • सीखने की गति निर्भर करती है --> सीखने वाले की रूचि पर , जिज्ञासा पर , सीखने वाले की प्रेरणा।
  • सीखने की प्रक्रिया सम्पादित होती है --> शिक्षकों से
  • बन्दूरा के अनुसार , किन प्रतिरूपों का बालकों द्वारा अनुकरण किया जाता है --> जो पुरस्कृत साधनों पर नियन्त्रण रखते हैं। जो उच्च स्तर रखते हैं।
  • निम्नलिखित में कौन-सा तथ्य बन्दूरा के व्यक्तित्व के सिद्धान्त से सम्बन्धित है --> सामाजिक पुरस्कार का सिद्धान्त , दण्ड का सिद्धान्त , प्रतिरूपों के तादात्मीकरण का सिद्धान्त।
  • राम के पिता को परमवीर चक्र प्रदान किया गया क्योंकि उसके पिता सेना में कार्यरत हैं। उसके पिता को सभी समाज के सामने सम्मानित किया गया। इसके बाद बालकों में देश सेवा की क्रियाओं को भाग लेने की भावना का विकास हुआ। यह प्रक्रिया बन्दूराके किस सिद्धान्त पर आधारित है --> सामाजिक पुरस्कार का सिद्धान्त
  • अधिगम की प्रक्रिया में किन प्रतिरूपों का अनुकरण नहीं किया जाता है --> अयोग्य प्रतिरूपों का
  • एक बालक कक्षा से इसलिए नहीं भागता है कि शिक्षक द्वारा अन्य भागने वाले बच्चों को दण्डित किया जाता है। उसका यह अनुकरण किस सिद्धान्त पर आधारित है --> दण्ड का सिद्धान्त
  • बन्दूरा के प्रमुख रूप से व्यक्तित्व सिद्धान्तों की संख्या है --> दो
  • बन्दूरा के अधिगम सिद्धान्त का प्रमुख साधन था --> फिल्म
  • बन्दूरा के द्वारा प्रस्तुत अधिगम सिद्धान्त में फिल्म के भाग थे --> तीन
  • बन्दूरा ने प्रमुख रूप से अपनीप्रयोगसम्बन्धी क्रियाओं में किन तथ्यों को स्थान प्रदान किया --> पुरस्कार एवं दण्ड
  • बन्दूरा ने अपने सिद्धान्त का प्रयोग किया --> बालकों पर
  • बालकों द्वारा प्रतिरूप के किस व्यवहार का अनुकरण नहीं किया जाता है --> दण्डित व्यवहार का
  • तादात्मीकरण का आशय है --> प्रतिरूप की क्रियाओं को आत्मसात करना
  • छात्रों में अन्तर्निहित प्रतिभाओं का विकास सम्भव होता है --> तादात्मीकरण द्वारा
  • तादात्मीकरण की प्रक्रिया से सम्बन्धित तथ्य है --> प्रतिरूप के व्यवहार से प्रभावित होना , प्रतिरूप का चयन करना , प्रतिरूप के अनेक व्यवहारों का अनुकरण करना।
  • बालक द्वारा सर्वाधिक प्रतिरूप के किस व्यवहार का अनुकरण किया जाता है --> पुरस्कृत व्यवहार का
  • एक बालक द्वारा शिक्षक की शिक्षण कला को देखकर उसके व्यवहार का अनुकरण किया जाता है। बालक द्वारा बन्दूरा के किस सिद्धान्त का अनुकरण किया जाता है --> तादात्मीकरण के सिद्धान्त का
  • विद्धालय के नियमों का अनुकरण छात्रों द्वारा किया जाता है --> दण्ड के आधार पर
  • एक बालक अपने सहपाठी राम को दौड़ने में प्रथम स्थान प्राप्त करते हुए देखता है तो वह भी उसका अनुकरण करने लगता है। उसका यह अनुकरण माना जाएगा --> ईर्ष्या के आधार पर
  • अधिगमकर्ता किसी प्रतिरूप का चयन किस आधार पर करता है --> सहानुभूति एवं आत्मीय व्यवहार
  • एक बालक में खेल के प्रति रुचि अधिक है इसलिए वह अन्य शिक्षकों की तुलना में खेल शिक्षक को प्रतिरूप के रूप में स्वीकार करता है। उसका यह प्रतिरूप चयन आधारित होगा --> आदतों की समानता
  • सामाजिक अधिगम की प्रक्रिया में स्थायित्व की स्थिति उत्पन्न होती है जब --> कोई घटना बार-बार होती है।
  • सामाजिक रूप से उपयोगी तथा अधिगमकर्ता द्वारा उसकी स्वीकृत उपयोगिता किसी क्रिया में उत्पन्न करती है --> स्थायी अधिगम
  • मोहन अपने बड़े भाई को दूसरों की सहायता करते हुए देखता है , परिणामस्वरूप वह भी इस कार्य में लग जाता है। इस प्रक्रिया में प्रमुख भूमिका होता है --> प्रभावशीलता की
  • सामाजिक अधिगम की तीव्रता एवं स्थायी गति होती है --> शिक्षित समाज में
  • जिस समाज में सामाजिक नियम एवं परम्परा प्रगतिशील एवं आत्मानुशासन से सम्बन्धित होंगे। --> उत्तम एवं तीव्र
  • सामान्य परिस्थितियों में 5 वर्ष के बालक द्वारा सात वर्ष के बालक की तुलना में कम सामाजिक अधिगम किया जाता है। इसका प्रमुख कारण है --> आयु परिपक्वता
  • रूढिवादी समाज में सामाजिक अधिगम की मन्दता का कारण होता है --> अस्वस्थ परम्पराएं , अन्धविश्वास, अनुपयोगी परम्पराएं
  • किसी समाज में आन्तरिक कलह , संघर्ष एवं अशान्ति का वातावरण है। --> मन्द
  • लेह-लद्दाख की तुलना में दिल्ली में सहने वाले बालक का सामाजिक अधिगम अधिक होता है। इसका प्रमुख कारण है --> जलवायु
  • अन्य देशों की तुलना में भारतीय बालकों में सामाजिक अधिगम की गति तीव्र हेाती है क्योंकि भारतीय समाज सम्पन्न है --> शिक्षा से
  • सामाजिक अधिगम किन परिस्थितियों में उत्तम होता है --> अधिगमकर्ता के अनुरूप
  • सीखने के मुख्य नियमों के अतिरिक्त गौण नियम भी हैं जो मुख्य नियमों को विज्ञतार देते हैं। गौण नियम है --> बहुप्रतिक्रिया नियम
  • निम्न में से जो वंचित वर्ग से सम्बन्धित नहीं है , वह है --> अमीर वर्ग
  • मूल प्रवृत्तियां एक जाति के प्राणियों में एक-सी होती है , यह कथन है --> भाटिया का
  • निम्न में से जो अधिगम के स्थानान्तरण का सिद्धांत नहीं है , वह है --> असमान अंशों का सिद्धान्त
  • पावलॉव ने अधिगमका जो सिद्धान्त प्रतिपादित किया था , वह है --> अनुकूलित अनुक्रिया
  • मूल प्रवृत्तियोंमें आवश्यक होता है --> अनुभव
  • थार्नडाइक का सीखने का मुख्य नियम नहीं है --> सदृश्यीकरण का नियम
  • अन्तर्दृष्टि पर प्रभाव डालने वाले तत्व है --> बुद्धि , अनुभव , प्रयत्न एवं त्रुटि
  • " मापन किया जाने वाला व्यक्तित्व का प्रयोग पहलू वैयक्तिक भिन्नता का अंश है। " उपर्युक्त परिभाषा दी है --> स्किनर ने
  • क्रियात्मक अनुबन्धन का सिद्धान्त किसकी देन माना जाता है --> स्किनर की
  • जब पूर्व प्राप्त अनुभव नवीन समस्या को हल करने में सहायक होता है , वह है --> धनात्मक स्थानान्तरण
  • निम्नलिखित में से सीखने का मुख्य नियम है --> अभ्यास का नियम
  • थार्नडाइक का अधिगम सिद्धान्त निम्नलिखित नाम से जाना जाता है --> प्रयास व त्रुटि का सिद्धान्त
  • जिन आदतों का सम्बन्ध मस्तिष्क से होता है , वह हैं --> नाड़ीमण्डल सम्बन्धी आदतें
  • कक्षा वातावरण में सीखने का महत्वपूर्ण नियम है --> हस्तलेखन
  • सीखी गई क्रिया का अन्य समान परिस्थितियों में उपयोग किया जाना कहलाता है --> अधिगम , अधिगम स्थानान्तरण या परिपक्वता इनमें से कोई नहीं
  • सीखने के मुख्य नियमों के अतिरिक्त गौण नियम भी हैं जो मुख्य नियमों को विस्तार देते हैं। गौण नियम है --> बहुप्रतिक्रिया नियम
  • शिक्षा मनोविज्ञान जरूरी है --> शिक्षक , छात्र, अभिभावक सभी के लिए
  • सीखना प्रभावित होता है --> प्रेरणा
  • " सीखना सम्बन्ध स्थापित करता करता है। सम्बन्ध स्थापित करने का कार्य , मनुष्य का मस्तिष्क करता है। " यह कथन है --> थार्नडाइक का
  • अधिगम की निम्नान्कित परिभाषा किसने दी है ? ‘ सीखना विकास की प्रक्रिया है। ‘ --> बुडवर्थ
  • " सीखने की असफलताओं का कारण समझने की असफलताएं हैं। " यह कथन है --> मर्सेल का
  • सीखने के बिना सम्भव नहीं है --> वृद्धि व अभिवृद्धि
  • छात्रों द्वारा विचार-विनिमय किया जाता है --> सम्मेलन व विचार गोष्ठी से
  • प्रारम्भिक कक्षाओं में सीखने की जिन विधियों को महत्व दिया है , वह है --> करके सीखना
  • सीखने के लिए विष्य-सामग्री का स्वरूप होना चाहिए --> सरल से कठिन
  • सीखने के प्रकार है --> ज्ञानात्मक , गामक , संवेदनात्मक अधिगम
  • जब किसी वस्तु को देखकर या स्पर्श कर ज्ञान प्राप्त किया जाता है तो वह सीखना कहलाता है --> प्रत्यक्षात्मक सीखना
  • तत्परता के द्वारा हम कार्य सीख लेते हैं --> शीघ्र
  • सीखने को प्रभावित करता है , कक्षा का --> मनोविज्ञान वातावरण
  • हम जो भी नया काम करते हैं उसे आत्मसात कर लेते हैं। यह सम्बन्धित है --> आत्मीकरण के नियम से
  • संवेग में प्रवृत्ति होती हैं --> स्थिरता
  • थार्नडाइक मनोवैज्ञानिक थे --> अमेरिका के
  • स्किनर ने कितने प्रकार के उपपुनर्बलन का प्रयोग किया है ? --> चार प्रकार के
  • ‘कोहलर ‘ का अधिगम-सिद्धान्त निम्नलिखित नाम से जाना जाता है --> अन्तदृष्टि का सिद्धान्त
  • निम्नांकित में वंचित वर्ग में शामिल होते हैं --> अनुसूचित जाति , अनुसूचित जनजाति , विकलांग बालक सभी
  • अधिगम को प्रभावित करने वाले घटक हैं --> उचित वातावरण, प्रेरणा एवं परिपक्वता
  • " संवेगात्मक जीवन में स्थानान्तरण का नियम एक वास्तविक तथ्य है। " यह कथन है --> मैलोन का
  • निम्न में से कौन-सा कारक किशोरावस्था में बालक के विकास को प्रभावित करता है ? --> खान-पान , वंशानुक्रम एवं नियमित दिनचर्या
  • अधिगम तब तक सम्भव नहीं है जब तक कि व्यक्ति शारीरिक तथा मानसिक रूप से ……….. नहीं हो --> परिपक्व
  • जिस विधि के द्वारा बालक को आत्म-निर्देशन के माध्यम से बुरी आदतों को दुड़वाने का प्रयास किया जाता है , वह विधि है --> आत्मनिर्देशन विधि
  • बालक के सामाजिक विकास में सबसे महत्वपूर्ण कारक कौन-सा है ? --> वातावरण का
  • संवेगात्मक विकास की किस अवस्था में तीव्र परिवर्तन होता है ? --> किशोरावस्था
  • बुद्धि-लब्धि के लिए विशिष्ट श्रेय किस मनोवैज्ञानिक को जाता है ? --> स्टर्न को
  • चरित्र को निश्चित करने वाला महत्वपूर्ण कारक है --> मनोरंजन सम्बन्धी कारक
  • सामान्य बुद्धि बालक प्राय: किस अवस्था में बोलना सीख जाते हैं ? --> 11 माह
  • निम्नांकित पद्धति व्यक्तिगत भेद को ध्यान में नहीं रखकर शिक्षण में प्रयुक्त की जाती है --> व्याख्यान विधि
  • शारीरिक रूप से व्यक्ति-व्यक्ति के मध्य जो भिन्नता दिखाई देती है , वह कहलाती है --> बाहरी विभिन्नता
  • जिस आयु में बालक की मानसिक योग्यता का लगभग पूर्ण विकास होता है , वह है --> 14 वर्ष
  • बाह्य रूप से दो व्यक्ति एकसमान हैं , लेकिन वे अन्य आन्तरिक योग्यताओं की दृष्टि से समरूप नहीं हैं , ऐसी व्यक्गित विभिन्नता कहलाती है --> आन्तरिक विभिन्नता
  • मोटे रूप में व्यक्तिगत विभेद को कितने भागों में विभाजित किया गया है ? --> दो
  • एक छात्र द्वारा गणित के सूत्र x2+y2+2xy की गणितीय अवधारणा का प्रयोग भौतिक विज्ञान के प्रश्न का हल करने में किया जाता है। उसका यह कार्य माना जाएगा --> अधिगम स्थानान्तरण
  • व्यक्तिगत शिक्षण में निम्नलिखित विधि काम में नहीं आती है --> सामूहिक शिक्षण पद्धति
  • अधिगम स्थानान्तरण से बचत होती है --> समय एवं श्रम की
  • निम्नलिखित में से कौन-सा कारक अधिगम को प्रभावित करने वाले मनोवैज्ञानिक कारकों से सम्बन्धित है ? --> उचित प्रतिचारों का चुनाव , प्रक्रिया की प्रभावशीलता , रुचि सभी
  • एक बालक गणित सीखनेमें रुचि नहीं रखता है इसलिए वह गणित में कमजोर है। यह कारक अधिगम को प्रभावित करने वाले कारकों में से किस कारक से सम्बन्धित है ? --> मनोवैज्ञानिक कारक से
  • अधिगम स्थानान्तरा की आवश्यक शर्त है --> स्थायी अधिगम , स्थिति का चयन , प्रभाव , ये सभी
  • निम्नलिखित में कौन-सा कारक शारीरिक कारक से सम्बन्धित है जो कि अधिगम को प्रभावित करते हैं --> विकलांगता, दृष्टि दोष , एवं श्रवण दोष
  • निम्नलिखित में कौन-सा कारक अधिगम को प्रभावित करने वाले सामाजिक कारकों से सम्बन्धित है ? --> शिक्षित समाज , सामाजिक प्रशंसा , सामाजिक नियमों का प्रभाव
  • एक बालक कक्षा में इसलिए अनुपस्थित रहता है कि उसके माता-पिता उसे गृहकार्य नहीं करने देते हैं तथा उसे अपने निजी कार्यों में लगाते हैं। इसका प्रमुख कारण माना जायेगा --> अशिक्षित समाज का होना , शिक्षा के महत्व को न जानना , अभिभावक का अशिक्षित होना।
  • वैयक्तिक भिन्नता का प्रमुख आधार है --> वंशानुक्रम तथा पर्यावरण
  • निम्नलिखित कारण व्यक्तिगत भेद के हैं , सिवाय --> शिक्षा व्यवस्था
  • व्यक्तिगत भेद के कारण है --> वंशानुक्रम और वातावरण
  • वैयक्तिक विभिन्नता का कारण है --> वंशानुक्रम
  • व्यक्तिगत भेद का यह कारण नहीं है --> जनसंख्या वृद्धि
  • " व्यक्तिगत विभिन्नता में सम्पूर्ण व्यक्तित्व का कोई भी ऐसा पहलू सम्मिलित हो सकता है ,
  • " अन्य बालकों की विभिन्नताओं के मुख्य कारणों को प्रेरणा , बुद्धि , परपिक्वता, पर्यावरण सम्बन्धी उद्दीपन की विभिन्नताओं द्वारा व्यक्त किया जा सकता है। " यह कथन किसका है --> गैरिसन व अन्य का
  • जिसका माप किया जा सकता है। " यह कथन किसका है ? --> स्किनर का
  • " विद्यालय का यह कर्तव्य है कि वह प्रत्येक बालक के लिए उपयुक्त शिक्षा की व्यवस्था करे , भले ही वह अन्य सब बालकों से कितना ही भिन्न क्यों न हो। " किसने लिखा है ? --> क्रो एवं क्रो ने
  • " भय अनेक बालकों की झूठी बातों का मूल कारण होता है। " यह कथन किस मनोवैज्ञानिक का है --> स्ट्रैंग का
  • प्रतिभाशाली बालकों की बुद्धिलब्धि होती है --> 130 से अधिक
  • असामान्य व्यक्तित्व वाले बालक होते हैं --> प्रतिभाशाली
  • पिछड़े बालक वे हैं --> जो किसी बात को बार-बार समझाने पर भी नहीं समझते हैं।
  • " शैक्षिक पिछड़ापन अनेक कारणों का परिणाम है। अधिगम में मन्दता उत्पन्न करने के लिए अनेक कारण एक साथ मिल जाते हैं। यह कथन किसने दिया है --> कुप्पूस्वामी ने
  • " कोई भी बालक , जिसका व्यवहार सामान्य सामाजिक व्यवहार से इतना भिन्न हो जाए कि उसे समाज विरोधी कहा जा सके , बाल-अपराधी है। " यह कथन किसका है --> गुड का
  • प्रतिभाशाली बालक की विशेषता इनमें से कौन-सी है ? --> साहसी जीवन पसन्द करते हैं , खेल में अधिक रुचि लेते है , अमूर्त विषयों में रुचि लेते हैं,
  • बाल-अपराध के प्रमुख कारण है --> आनुवंशिक कारण , शारीरिक कारण , मनोवैज्ञानिक कारण
  • समस्यात्मक बालकोंके प्रमुख प्रकारों में किसको सम्मिलित नहीं करेंगे? --> अनुशासन में रहने वाले बालक को
  • मन्दबुद्धि बालक की स्किनर के अनुसार कौन-सी विशेषता है ? --> दूसरों को मित्र बनाने की अधिक इच्छा , आत्मविश्वास का अभाव , संवेगात्मक और सामाजिक असमायोजन
  • प्रतिशाली बालकों की समस्या है --> गिरोहों में शामिल होना , अध्यापन विधियां , स्कूल विषयों और व्यवसायों के चयन की समस्या
  • निम्नलिखित में समस्यात्मक बालक कौन है --> चोरी करने वाले बालक
  • बालकों के समस्यात्मक व्यवहार का कारण नहीं है --> मनोरंजन की सुविधा
  • वंचित वर्ग के बालकों के अन्तर्गत बालक आते हैं --> अन्ध व अपंग बालक , मन्द-बुद्धि व हकलाने वाले बालक , पूर्ण बधिर या आंशिक बधिर
  • प्रतिभावान बालकों की पहचान किस प्रकार की जा सकती है --> बुद्धि परीक्षा द्वारा, अभिरूचि परीक्षण द्वारा, उपलब्धि परीक्षण द्वारा
  • पिछड़ा बालक वह है जो "अपने अध्ययन के मध्यकाल में अपनी कक्षा कार्य , जो अपनी आयु के अनुसार एक कक्षा नीचे का है , करने में असमर्थ रहता है। " उक्त कथन है --> बर्ट का
  • " कुशाग्र अथवा प्रतिभावान बालक वे हैं जो लगातार किसी भी कार्य क्षेत्रमें अपनी कार्यकुशलता का परिचय देता है। " उक्त कथन है --> टरमन का
  • प्रतिभाशाली बालकों की समस्या निम्न में से नहीं है --> समाज में समायोजन
  • प्रतिभाशाली बालक होते हैं --> जन्मजात
  • विकलांग बालकों के अन्तर्गत आते हैं --> नेत्रहीन बालक , शारीरिक-विकलांग बालक , गूंगे तथा बहरे बालक
  • प्रतिभावान बालकों में किस अवस्था के लक्षण शीघ्र दिखाई देते हैं --> बाल्यावस्था के
  • विद्यालय में बालकों के मानसिक स्वास्थ्य को कौन-सा कारक प्रभावित करता है ? --> मित्रता
  • मानसिक रूप से पिछड़े बालकों की विशेषता होती है --> संवेगात्मक रूप से अस्थिर , रुचियां सीमित होती है , निरन्तर अवयवस्था का होना।
  • " वह बालक जो व्यवहार के सामाजिक मापदण्ड से विचलित हो जाता है या भटक जाता है बाल अपराधी कहलाता है। " उक्त कथन है --> हीली का
  • शारीरिक रूप से विकलांग बालक निम्न में से नहीं होते हैं --> स्वस्थ
  • सृजनशील बालकों का लक्षण है --> जिज्ञासा
  • मन्द-बुद्धि बालक की विशेषता नहीं होती है , जो कि --> बुद्धि-लब्धि 105 से 110 के बीच होना।
  • मानसिक रूप से पिछड़े बालकों की पहचान निम्न में से कर सकते हैं --> बुद्धि परीक्षण , उपलब्धि परीक्षण , मन्द बुद्धि बालकों की विशेषताओं को कसौटी मानकर
  • " परामर्श का उद्देश्य है छात्र को अपनी विशिष्ट योजनाओं और उचित दृष्टिकोण का विकास करने के समाधान में सहायता देना। " यह कथन है --> जे . सी. अग्रवाल का
  • समायोजन मुख्य रूप से --> व्यक्ति की आन्तरिक शकितयों पर निर्भर होता है , पर्यावरण की अनुकूलता पर निर्भर होता है।
  • " सृजनात्मक नई वस्तु का सृजन करने की योग्यता है। व्यापक अर्थ में , सृजनात्मक से तात्पर्य,नए विचारों एवं प्रतिभाओं के योग की कल्पना से है तथा (जब स्वयं प्रेरित हों, देसरे का अनुकरण न करें) विचारों का संश्लेषण हो और जहां मानसिक कार्य केवल दूसरों के विचार का योग न हो। " उपर्युक्त कथन है --> जेम्स ड्रेवर का
  • समस्यात्मक बालक के लक्षण है --> विशेष प्रकार की शारीरिक रचना
  • सृजनात्मक योग्यता वाले बालकों की बुद्धि --> प्रखर होती है
  • प्रतिभावान बालकों की पहचान किस प्रकार की जा सकती है --> बुद्धि परीक्षा द्वारा, अभिरूचि परीक्षण द्वारा, उपलब्धि परीक्षण द्वारा
  • निम्नलिखित में से विशिष्ट योग्यता की मुख्य विशेषता है --> विशिष्ट योग्यता व्यक्ति में भिन्न-भिन्न मात्रा पाई जाती है , इस योग्यता को प्रयास द्वारा अर्जित किया जा सकता है।
  • " किसी व्यक्ति को कौन-से विषय पढ़ने चाहिए, कौन-से व्यवसाय करने चाहिए, किस क्षेत्र में उसे अधिक सफलता मिल सकती है। अभिरुचि निर्देशन करने के लिए अभिरुचियों के मापन की आवश्यकता पड़ती है। अभिरुचि परीक्षण का मुख्य अभिप्राय मानवीय पदार्थ का उत्तम प्रयोग करना है और अतिशय को रोकनाहै। " उपर्युक्त कथन है --> एन. तिवारी का
  • प्रतिभाशाली बालकों की समस्या है --> गिरोहों में शामिल होना , अध्यापन विधियां , स्कूल विषयों और व्यवसायों के चयन की समस्या
  • अन्धे बालकों को शिक्षण दिया जाता है --> ब्रैल पद्धति द्वारा
  • निम्नलिखित में समस्यात्मक बालककौन है --> चोरी करने वाले बालक
  • ब्रोन फ्रेन बेनर ने समाजमिति विधि किस तथ्य का विवरण एवं मूल्यांकन माना है --> सामाजिक स्थिति , सामाजिक ढांचा, सामाजिक चेष्टा
  • जेविंग्स के अनुसार समाजमिति विधि है --> सामाजिक ढांचे की सरलतम प्रस्तुति, सामाजिक ढांचे की रेखीय प्रस्तुति
  • समाजमिति विधि में तथ्यों के प्रस्तुतीकरण एवं व्यवस्था के लिये प्रयोग की जाने वाली पद्धति है --> समाज चित्र , समाज सारणी
  • बालकों के समस्यात्मक व्यवहार का कारण नहीं है --> मनोरंजन की सुविधा
  • समाजमिति विधि के जन्मदाता है --> मौरेनो
  • Who Shall Sevive पुस्तक के लेखक हैं --> मौरेनो
  • वी.वी.अकोलकर के अनुसार सामाजिक प्रविधि है --> समूह की संरचना की अध्ययन प्रविधि , समूह का स्तर मापने की प्रविधि
  • रेटिंग एंगल एवं प्रश्नावली किस प्रविधि से सम्बन्धित है --> मूल्यांकन विधि से
  • व्यक्ति अध्ययन विधि में प्रमुख भूमिका होती है --> सूचना की
  • " व्यक्ति अध्ययन विधि का मुख्य उद्देश्य किसी कारण का निदान है। " यह कथन है --> क्रो एण्ड क्रो
  • ‘ एक बालक प्रतिदिन कक्षा से भाग जाता है। ‘ वह बालक है --> पिछड़ा बालक
  • व्यक्ति अध्ययन विधि में किस प्रकार की सूचनाओं की आवश्यकता होती है --> पारिवारिक, सामाजिक, सामान्य एवं शारीरिक
  • प्रतिभाशाली बालकों की शिक्षण विधि है --> गतिवर्द्धन , सम्पन्नीकरण , विशिष्ट कक्षाएं
  • निम्न में से पलायनशीलता के कारण हैं --> कल्पना की अधिकता , कुसमायोजन , दोषपूर्ण शिक्षण पद्धति
  • " बालकों में सृजनाशीलता के विकास हेतु सकारात्मक अभिवृत्ति के निर्माण में विद्यालय 765. की महत्वपूर्ण भूमिका है। " उक्त कथन है --> डॉ. एस. एस. चौहान का
  • विद्यालयों में तीव्र एवं मन्द-बुद्धि बालकों के लिए निम्न में से शैक्षणिक व्यवस्था होनी चाहिए --> अवसर की समानता , पाठ्यक्रम में समृद्धि , अहमन्यता को रोकना
  • " सृजनात्मक से आशय पूर्ण अथवा आंशिक रूप से तीन वस्तु के उत्पादन से है। " उक्त कथन है --> रूसो का
  • विशिष्ट बालक में प्रमुख विशेषता है --> साधारण बालकों से भिन्न गुण एवं व्यवहार वाला बालक
  • प्रतिभाशाली बालक की विशेषता है --> तर्क , स्मृति , कल्पना, आदि मानसिक तत्वों का विकास। उदार एवं हॅसमुख प्रवृत्ति के होते है , दूसरों का सम्मान करते हैं , चिढ़ाते नहीं हैं
  • विशिष्ट बालकों की श्रेणी में आते हैं केवल --> प्रतिभाशाली बालक , पिछड़े बालक , समस्यात्मक बालक
  • " एक व्यक्ति जिसमें कोई इस प्रकार का शारीरिक दोष होता है जो किसी भी रूप में उसे सामान्य क्रियाओं में भाग लेने से रोकता है या उसे सीमित रखता है , उसको हम विकलांग कह सकते हैं। " यह कथन है --> क्रो एवं क्रो का
  • " प्रतिभाशाली बालक 80 प्रतिशत धैर्य नहीं खोते , 96 प्रतिशत अनुशासित होते हैं तथा 58 प्रतिशत मित्र बनाने की इच्छा रखते हैं। " यह कथन है --> विटी का
  • समस्यात्मक बालकों की शिक्षा के समय निम्न बातें ध्यान में रखनी चाहिए --> बालकों को मनोरंजन के उचित अवसर दिये जाएं। शिक्षकों का मधुर व सहायोगात्मक व्यवहार
  • ‘Survey of the Education of Gifted Children’ नामक पुस्तक लिखी है --> हैविंगहर्स्ट ने
  • ‘The Causes and Treatment of Backwardness’ नामक पुस्तक लिखी है --> बर्ट ने
  • प्रतिभाशाली बच्चों की पहचान की जा सकती है --> विधिवत अवलोकन द्वारा , प्रमापीकृत परीक्षणों द्वारा
  • ‘Introduction of Psychology’ नामक पुस्तक लिखी है --> हिलगार्ड व अटकिंसन ने
  • प्रतिभाशाली बालकों को कहा जाता है --> श्रेष्ठ बालक , तीव्र सीखने वाले, निपुण बालक
  • जिस सहानुभूति में क्रियाशीलता होती है , वह है --> निष्क्रिय
  • बालक को सामाजिक व्यवहार की शिक्षा दी जा सकती है --> शारीरिक गतियों से
  • " निर्देशन वह सहायता है जो एक व्यक्ति द्वारा दूसरे व्यक्ति को विकल्प चुनने एवं समायोजन प्राप्त करने तथा समस्या हल करने के लिए दी जाती है। " उक्त कथन है --> जोन्स का
  • दूसरे व्यक्तियों में संवेग देखकर हम उसका करने लगते है --> घृणा
  • निष्क्रिय सहानुभूति होती है --> मौखिक व कृत्रिम
  • प्रतिभावान बालकों की पहचान करने के लिए हमें सबसे अधिक महत्व --> वस्तुनिष्ठ परीक्षणों को देना चाहिए।
  • " कक्षा में जो सम्बन्धों के प्रतिमान अथवा समूह परिस्थिति होती है वह सीखने पर प्रभाव डालती है। " उक्त कथन है --> बोवार्ड का
  • " कक्षा-शिक्षण में जो सबसे महत्वपूर्ण प्रभाव हैं ; वह दूसरों के साथ अन्त:क्रिया करना है। " उक्त कथन है --> रिट का
  • निम्न में से निर्देशन दिया जा सकता है --> अध्यापक को , डॉक्टरों को छात्रों को
  • " ऐसे व्यक्ति जिनमें ऐसा शारीरिक दोष होता है जो किसी भी रूप में उसे साधारण क्रियाओं में भाग लेने से रोकता है या उसे सीमित रखता है , ऐसे व्यक्ति को हम विकलांग व्यक्ति कह सकते हैं। " उक्त कथन है --> क्रो एवं क्रो का
  • जो निर्देशन एक व्यक्ति को उसकी व्यावसायिक तथा जीविका में उननति सम्बन्धी समस्याओं को हल करने के लिए उसकी व्यक्तिगत विशेषताओं को उसके जीविका सम्बन्धी अवसरों के सम्बन्ध में ध्यान रखते हुए दिया जाता है , वह कहलाता है --> व्यावसायिक निर्देशन
  • " प्रभावशाली बालक वे होते हैं जिनका नाड़ी संस्थान श्रेष्ठ होता है। " उक्त कथन है --> सिम्पसन का , तयूकिंग का
  • गम्भीर मन्दितमना वाले बालकों की शिक्षा-लब्धि होती है --> 19 से कम
  • सृजनात्मक बालक की प्रकृति होती है --> सृजनात्मक बालक सदैव सफलता की ओर उन्मुख रहते हैं।
  • मन्दगति से सीखने वाले बालकों की शिक्षा के लिए क्या कदम उठाना चाहिए --> आवासीय विद्यालय , विशेष विद्यालय , विशेष कक्षा
  • " विशिष्ट बालक वह है जो मानसिक , शारीरिक व सामाजिक विशेषताओं से युक्त होते हैं ", उक्त कथन है --> क्रिक का
  • बालापराध का कारण दूषित वातावरण भी होता है। दूषित वातावरण से आशय है --> वेश्यालय, शराबखाना , जुआघर
  • निम्न में से पिछड़े बालक की समस्या है --> स्कूल सम्बन्धी समस्याएं, संवेगात्मक समस्याएं, सामाजिक समस्याएं
  • शारीरिक रूप से अक्षम बालकों को किस श्रेणी में रखते हैं --> विकलांग
  • " प्रतिभाशाली बालक शारीरिक गठन , सामाजिक समायोजन , व्यक्तित्व के गुणों , विद्यालय उपलब्धि , खेल की सूचनाओं और रुचियों की विविधता में औसत बालकों से श्रेष्ठ होते हैं। " यह कथन है --> टरमन एवं ओडम का
  • निम्नलिखित में कौन-सा तथ्य सांख्यिाकीय विधि से सम्बन्धित है --> संकलन , वर्गीकरण , विश्लेषण
  • टरमन के अनुसार प्रतिभाशाली बालक की बुद्धि-लब्धि कितने से अधिक होती है --> 140
  • बालको का भाषायी विकास का क्रम क्‍या है। --> बालको के भाषायी विकास का क्रम : रोना ( रूदन , क्रदन ) , बबलाना , हावभाव
  • बालक सबसे पहले क्‍या बोलता है। --> व्‍यंजन वह सबसे पहले मॉं शब्‍द बोलता है।
  • बालक सबसे पहले किसकी भाषा को पहचानता है। --> बालक सबसे पहले अपनी मॉं की आवाज ( भाषा ) को पहचानता है। ( इसे ही मात्रभाषा कहते है। )
  • बालक किस उम्र में वाक्‍यो द्वारा अपनी बात को कह पाता है। --> 5 वर्ष की उम्र में ।
  • बच्‍चे को सबसे पहले भाषा का ज्ञान कहॉ से होता है। --> अपने परिवार से ।
  • 6वी कक्षा में पढ़ने वाले बालक का शब्‍द भंण्‍डार लगभग कितना होता है। --> 50 हजार शब्‍दों तक ।
  • 10 वी कक्षा में पढने वाले बालक का शब्‍दा भंण्‍डार लगभग कितना होता है। --> 80 हजार शब्‍दों तक ।
  • लडका एवं लडकियों में से किसका शब्‍दा भंण्‍डार अधिक होता है। --> लडकियों का शब्‍द भंण्‍डार अधिक होता है।
  • भाषा को सीखने के साधन कौन -कौन से है। --> भाषा को सीखने के साधन निम्‍न है : अनुकरण द्वारा ( दोहराकर ) , खेल-खेल विधि द्वारा , कहानी सुनकर , वार्तालाप द्वारा , प्रश्‍नोत्‍तर विधि से
  • लडकियॉ संकेतो द्वारा बात करना किस उम्र तक सीख जाती है। --> 6 वर्ष की उम्र तक ।
  • भाषा के विकास को प्रभावित करने वाले कारक कौन-कौन से है। --> भाषा के विकास को प्रभावित करने वाले कारक निम्‍न है ।
लिंग
बुद्धि
स्‍वास्‍थ्‍य
जनसंचार का माध्‍यम
सम समूह का प्रभाव
सामाजिक आर्थिक स्थिती
पारिवारिक सम्‍बन्‍ध
विद्यालय
आसपडोस के वातावरण का प्रभाव
  • मनुष्‍य और पशु में मुख्‍य अन्‍तर क्‍या है। --> बुद्धि का ।
  • बुद्धि को सबसे पहले परिभाषित किसने किया था। --> बुद्धि को सबसे पहले परिभाषित यूनान के दार्शनिकों ने किया ।
  • आधुनिक काल में बुद्धि को सबसे पहले किसने समझाया। --> अल्‍फ्रेड बिने ने 1904 में बताया ।
  • मानसिक आयु के माध्‍यम से बुद्धि को परिभाषित किसने किया। --> अल्‍फ्रेड बिने ने । इन्‍होनें बताया कि बुद्धि दो प्रकार की हाती है। मानसिक आयु बुद्धि , वास्‍तविक आयु बुद्धि
  • अल्‍फ्रेड बिने किस देश के निवासी थे । --> फ्रांस के
  • अल्‍फ्रेड बिने किस बिषय के प्रोफेसर थे। --> मनोविज्ञान के ।
  • बुद्धि का एक कारक सिद्धान्‍त किसने दिया । --> अल्‍फ्रेड बिने ने । सहयोगी : स्‍टर्न , टरमन , साइमन
  • बुद्धि के दो कारक सिद्धान्‍त किसने दिया। --> स्‍पीयर मैन ने ।
  • बुद्धि के दो कारक सिद्धान्‍त कौन -कौन से है। --> बुद्धि के दो कारक सिद्धान्‍त : (1) G कारक सिद्धान्‍त (2) S कारक सिद्धान्‍त
  • बुद्धि का समूह कारक सिद्धान्‍त किसने दिया। --> थस्‍टर्न ने इनके अनुसार बुद्धि के 7 कारक है।
  • बुद्धि का बहु कारक सिद्धान्‍त किसने दिया । --> थार्नडाइक ने
  • बुद्धि का बहु बुद्धि सिद्धान्‍त किसने दिया। --> गार्डनर ने ।
  • बुद्धि का तरल व ठोस सिद्धान्‍त किसने दिया । --> R.B. कैटल ने ।
  • बुद्धि का प्रतिदर्श नमूना (सैम्‍पल) सिद्धान्‍त किसने दिया । --> थामसन ने ।
  • सीमा हर पाठ को बहुत जल्‍दी सीख लेती है जबकि लीना उसे सीखने में ज्‍यादा समय लेती है। यह विकास के ………सिद्धांत को दर्शाता है। --> वैयक्तिक सिद्धांत
  • निम्‍नलिखित में से ………कें अतिरिक्‍त सभी वातावरणीय कारक विकास को आकार देते है। --> शारीरिक गठन
  • एक अच्‍छी पाठ्य पुस्‍तक बचाती है। --> लैंगिक पूर्वाग्रह
  • पियाजे के अनुसार संज्ञानात्‍मक विकास के किस चरण पर बच्‍चा ‘वस्‍तु स्‍थायित्‍व’ को प्रदर्शित करता है। --> पूर्व संक्रियात्‍मक चरण
  • वह विचारात्‍मक प्रक्रिया जिसमें नूतन, वास्‍तविक तथा उपयोगी अवधारणाओं का प्रस्‍तुतीकरण निहित हो, कही जाती है। --> रचनात्‍मकता
  • माता पिता से वंशजों में स्‍थान्‍तरित होने वाले लक्षणों को कहा जाता है। --> आनुवांशिकता
  • बुद्धि का कौन सा सिद्धांत सामान्‍य बुद्धि ‘g’ और विशिष्‍ट बुद्धि ‘s’ की उपस्थिति का समर्थन करता है। --> स्‍पीयरमैन का द्विखंड सिद्धांत
  • प्रतिबिंब, अवधारणा, प्रतीक एवं संकेत, भाषा, शारीरिक क्रिया और मानसिक क्रिया अंतर्निहित है- --> विचारात्‍मक प्रक्रिया
  • वह प्रक्रिया जिसके द्वारा माता-पिता यह अनुमान लगाते हैं कि उनके बच्‍चें में सभी सकारात्‍मक गुण हैं क्‍योंकि एक गुण सकारात्‍मक है, कहलाता है। --> परिवेश का प्रभाव
  • रमेश और अंकित की समान बुद्धिलब्धि 120 है। रमेश अंकित से दो वर्ष छोटा है। यदि अंकित की आयु 12 वर्ष हो, तो रमेश की मानसिक आयु होगी। --> 12 वर्ष
  • छात्र की प्रयोगात्‍मक दक्षता के आकलन का यथोचित रूप है। --> अवलोकन
  • कक्षा नायक द्वारा प्रयुक्त मूल्‍यांकन का प्रकार अनुदेशन के समय सीखने के विकास में किया जाता है, कहलाता है- --> फॉर्मेटिव मूल्‍यांकन
  • पियाजे के अनुसार मूर्त संक्रियाओं का स्‍तर किस अवधि में घटित होता है। --> 7 से 11 वर्ष
  • बालक में अपराधी प्रवृत्ति के विकसित होने का मुख्‍य कारण है। --> परिवार का वातावरण
  • किस मनोवैज्ञानिक के अनुसार, ‘विकास एक सतत और धीमी प्रक्रिया है।’ --> स्किनर
  • बाल्‍यावस्‍था होती है- --> 12 वर्ष तक
  • व्‍यक्तित्‍व विकास की अवस्‍था है- --> अधिगम एवं बृद्धि
  • विकास में बृद्धि से तात्‍पर्य है- --> आकार, सोच, समझ कौशलों में बृद्धि
  • परिपक्‍वता का संबंध है। --> विकास
  • तनाव और क्रोध की अवस्‍था है। --> किशोरावस्‍था
  • बालक का विकास परिणाम है। --> वंशानुक्रम व वातावरण की अंत:क्रिया का
  • एक बच्‍चे की मानसि‍क आयु 12 वर्ष एवं वास्‍तविक आयु 10 वर्ष है, तो उसकी बुद्धिलब्धि क्‍या होगी। --> 120
  • शारीरिक विकास का क्षेत्र है। --> स्‍नायुमंडल
  • श्‍यामपट्ट लिखते समय सबसे महत्‍वपूर्ण क्‍या है। --> अच्‍छी लि‍खावट
  • स्की्मा सिद्धान्त के जनक कौन है। --> जीनप्याजे
  • कोहलर किस समप्रदाय के समर्थक थे। --> संज्ञानवादी
  • वह कौन सी अवस्था है जब बच्चा तार्किक रूप से वस्तुओं व घटनाओं के विषय में चिंतन प्रारंभ करता है। --> मूर्त संक्रियात्माक अवस्था । यह ( 7 से 11 वर्ष ) के बालकों में होती है।
  • वह कौन सी जगह है जहॉ बच्चे के संज्ञानात्मक विकास को सबसे बेहतर तरीके से परिभाषित किया जा सकता है। --> विद्यालय एवं कक्षा में ।
  • बच्चे दुनिया के बारे में अपनी समझ का सृजन करते है। इसका श्रेय किस विद्वान को जाता है । --> जीन पियाजे को ।
  • आकलन को उपयोगी और रोचक प्रक्रिया बनाने के लिए किस के प्रति सचेत होना चाहिए। --> आकलन को उपयोगी और रोचक प्रक्रिया बनाने के लिए शैक्षिक और सह शैक्षिक क्षेत्रों में विद्यार्थी के सीखने के बारे में जानकारी प्राप्त करने के लिए विविध तरीकों का प्रयोग करना चाहिए।
  • शिशु अपने एवं अपने संसार के बारे में अधिकांश बाते खेल के माध्यम से सीखता है यह किस विद्वान ने कहा है। --> यह कथन स्ट्रेंग ने कहा है।
  • विकास कभी न समाप्तं होने वाली प्रक्रिया है। यह विचार किससे सम्बन्धित है। --> निरंतरता का सिद्धांत से सम्बन्धित है।
  • बच्चे के बौद्धिक विकास की चार विशिष्ट अवस्थाओं की पहचान किस विद्वान द्वारा की गई । --> जीन पियाजे के द्वारा ।
  • परिवार एक साधन है। --> परिवार एक अनौपचारिक शिक्षा का साधन है।
  • मनोसामाजिक विकास का सिद्धान्त ‍ किसने दिया। --> इरिक्सन ने दिया
  • समायोजन की अवस्था कौन सी अवस्था को कहते है। --> शैशव अवस्था को
  • वर्तमान मे विद्यालय जाने की उम्र कितनी है। --> 3 वर्ष
  • औपचारिक शिक्षा प्रारम्भ होने की उम्र कितनी है। --> 6 वर्ष
  • औपचारिक शिक्षा किसे कहते है। --> स्कूलों में दी जाने वाली शिक्षा, संस्था में दी जाने वाली शिक्षा
  • अनौपचारिक शिक्षा किसे कहते है। --> आगॅन बाडी मे दी जाने वाली शिक्षा घर मे दी जानो वाली शिक्षा
  • समाजीकरण कि क्रिया कब तक चलती है। --> जीवन भर चलती है
  • बालक कितने माह मे अपनी माता को पहचानने लगता है। --> 3 माह में
  • शर्म कि अवस्थां कौन सी अवस्था को कहते है। --> शैशव अवस्था् को
  • आपस झगडे की भावना कौन सी अवस्था है। --> बाल अवस्था
  • एक शिक्षक विद्यार्थियों में सामाजिक मूल्यों को विकसित किस तरह से कर सकता है। --> एक शिक्षक आदर्श रूप से बर्ताव कर विद्यार्थियों में सामाजिक मूल्यों को विकसित कर सकता है।
  • शिक्षा का बर्ताव किस तरह का होना चाहिए। --> शिक्षा का वर्ताव आदर्शवादी होना चाहिए।
  • किस अवस्था में बच्चे अपने समकक्षी वर्ग के सक्रिय सदस्य बनते है। --> किशोरावस्था में !
  • प्राथमिक शिक्षक के लिए बाल मनोविज्ञान का ज्ञान क्यों आवश्यक है । --> प्राथमिक शिक्षक के लिए बाल मानोविज्ञान का ज्ञान बच्चों के व्येवहार को समझने में शिक्षक की सहायता करता है।
  • बुनियादी स्तर पर मातृभाषा में शिक्षादेना क्यो बेहतर है। --> बुनियादी स्तर पर मातृभाषा में शिक्षा देने से प्राकृतिक वातावरण में बच्चों को सीखने मे सहायता करेगा ।
  • खिलौनों की आयु किस अवस्था को कहा जाता है। --> पूर्व बाल्यावस्था को ।
  • जिन इच्छाओं की पूर्ति नहीं होती उनका भंण्डार गृह कौन सा है। --> इदम् में ।
  • छात्र केन्द्रित शिक्षण का आश्‍य किस से है। --> छात्र केन्द्रित शिक्षण का आशय प्रत्येक छात्र की आवश्यकता को ध्यान रखना ।
  • शिक्षा की खेल विधि का अर्थ क्या् है। --> खेल क्रियाओं द्वारा शिक्षा ।
  • प्रयोजनवाद ने किसे जन्म दिया । --> प्रोजेक्ट विधि को ।
  • वह कौन सी विधि होती है जिसमें पहले उदहारण बताया जाता है बाद मे नियम बताया जाता है। --> आगमन विधि !
  • वह कौन सी विधि है जिसमें पहले नियम बताया जाता है बाद में उदहारण बताया जाता है। --> निगमन विधि ।
  • देखो सुनो और समझो किस विधि पर आधारित है। --> प्रदर्शन विधि ।
  • देखो , सुनो और बोलो किस विधि पर आधारित है। --> प्रयोगात्मिक विधि ।
  • किस विधि मे शिक्षण सूत्र का प्रयोग होता है। --> आगमन विधि में ।
  • करके सीखने पर कौन सी विधि काम करती है। --> प्रयोग शाला विधि ।
  • किण्डनगार्डन विधि ( L.K.G व U.K.G ) के जनक कौन है। --> फ्रोबेल ( यह विधि खेल एवं करके सीखने पर आधारित होती है। )
  • माण्टेशरी शिक्षा प्रणाली के जनक कौन है। --> डॉ मारिया माण्टेशवरी ( इटली ) यह विधि इन्द्रियों ( ज्ञानेन्द्रियों ) के प्रशिक्षण पर बल देती है।
  • खेल पद्धत्ति के जनक कौन है --> हेनरी क्राल्डवेल कुक ।
  • डाल्ट न पद्धत्ति के जनक कौन है। --> कुमारी हैलन पार्क हर्स्ट ।
  • बच्चों में आधारहीन आत्म चेतनावस्था का सम्बन्ध उसके विकास की किस अवस्था से सम्बन्धित है। --> किशोरवस्था ।
  • डिसलेक्सिया सम्बन्धित है। --> पढने सम्बन्धित विकार से ।
  • श्यामपट्ट को शिक्षण साधन सामग्री के किस समूह मे अन्तर्मुक्त किया जा सकता है। --> दृश्य साधन में ।
  • व्‍यक्तित्‍व एवं बुद्धि में वंशानुक्रम की …………होती है। --> नाममात्र की भूमिका ।
  • श्यामपट्ट पर लिखते समय सबसे महत्वंपूर्ण क्या है। --> अच्छी लिखावट ।
  • बुद्धि का तरल मोजेक मॉडल किसने दिया था । --> कैटल ने ।
  • बच्चों के बौद्धिक विकास की चार विशिष्ट। अवस्थाओं की पहचान किस विद्वान द्वारा की गई । --> जीन पियाजे द्वारा ।
  • डिस्कैलकुलि‍या का संबंध है। --> आंकिक अक्षमता से ।
  • शिक्षा मे समावेशन का क्या अ‍र्थ है। --> सभी विद्यार्थियों को शिक्षा की मुख्य‍ धारा प्रणाली में स्वीकारना ।
  • आर. वी. कैटल की तरल बुद्धि तुल्य है। --> वंशानुगत कारकों के
  • पियाजे ने बुद्धि को किसके प्रति समायोजन योग्यता के रूप में परिभाषित किया है। --> भौतिक एवं सामाजिक पर्यावरण ।
  • किस विद्वान ने नैतिक वृद्धि की अवस्थाओं की अवधारणा प्रस्तुत की है। --> कोहलबर्ग ने ।
  • जीनपियाजे के अनुसार कोई बच्चा किस अवस्था में अपने परिवेश की वस्तुकओं को पहचानने एवं उनमें विभेद करने लगता है। --> पूर्व संक्रियात्मक अवस्था ।
  • व्य्गोट्स्कीं के अनुसार बच्चे अपने साथी "समूह के सक्रिय सदस्य" कब होते है। --> किशोरावस्था ।
  • फ्रॉयड के अनुसार किसी बच्चे में समाजीकरण की प्रक्रिया हेतु सर्वोतम आयु होती है। --> पॉच वर्ष ।
  • बालको के नैतिक विकास को समझने के लिए जीन पियाजे ने कौन सी विधि को अपनाया। --> साक्षत्कार विधि ।
  • बच्चे दुनिया के बारे में अपनी समझ का सृजन करते है। यह किस विद्वान का कथन है। --> जीन पियाजे ।
  • यह कथन किसका है कि ज्ञानात्मक विकास नकल पर आधारित न होकर खोज पर आधारित होता है। --> जीनपियाजे ।
  • समाजिक अधिगम का सिद्धान्त किसने विकसित किया । --> बण्डूरा ने ।
  • व्यगोट्स्की के अनुसार किसी बालक के विकास में सबसे महत्वपूर्ण योगदान किसका होता है। --> समाज का ।
  • सीखने का सिद्धान्त किसने दिया। --> थार्नडाइक ने !
  • खेल पद्धत्ति के जनक कौन है। --> किल पैट्रिक !
  • ह्यूरिस्टिक पद्धत्ति के जनक कौन है। --> आर्म स्ट्रांग !
  • प्रोजेक्ट पद्धत्ति के जनक कौन है। --> जानडेवी ।
  • अस्थाई मानव दांत कितने होते है। --> 20 ।
  • शिशु के मस्तिष्क का वजन कितना होता है। --> लगभग 350 ग्राम ।
  • मनुष्य के मस्तिष्क का वजन कितना होता है। --> लगभग 1400 ग्राम ।
  • जीनप्याजे ने जिनेवा मे किसकी स्थापना की । --> लेवोरट्री स्कूल की स्थापना की जिसमें उन्होनें मनोविज्ञान के कई प्रयोग किये ।
  • जीनप्याजे के द्वारा रचित पुस्तक का नाम क्या है। --> द लैंगुवेज एण्ड थाट ऑफ द चाइल्ड, यह पुस्तक उन्होनें 1923 में लिखी थी।
  • जीनप्याजे ने संज्ञानात्मक विकास को ध्यान में रखते हुये बालक की कितनी अवस्था बतलाई । --> जीन प्याजे ने संज्ञानात्मक विकास को ध्यान में रखते हुये बालक की 4 अवस्था बतलाई । संवेदी गत्यात्मक अवस्था (जन्म से 2 वर्ष तक) ; पूर्व संक्रियात्मक अवस्था (2 से 7 वर्ष तक) ; ठोस/मूर्त संक्रियात्मतक अवस्था (7 से 11 वर्ष तक) ; औपचारिक संक्रियात्मंक अवस्था (11 से 18 वर्ष तक)
  • बच्‍चों में बौद्धिक विकास की चार विशिष्‍ट अवस्‍थाओं की पहचान की गई । --> पियाजे द्वारा ।
  • विकास कभी न समाप्‍त होने वाली प्रक्रिया है। यह विचार किससे संबंधित है। --> निरंतरता का सिद्धान्‍त ।
  • प्राथमिक स्‍तर पर एक शिक्षक में निम्‍न में से किसे सबसे महत्‍वपूर्ण विशेषता मानना चाहिए। --> धैर्य और दृढ़ता ।
  • उत्तरबाल्‍यवस्‍था में बालक भौतिक वस्‍तुओं के किस आवश्‍यक तत्‍व में परिवर्तन समझने लगते है। --> द्रव्‍यमान , संख्‍या और क्षेत्र ।
  • दूसरे वर्ष में अंत तक शिशु का शब्‍द भंडार हो जाता है। --> 100 शब्‍द ।
  • शर्म तथा गर्व जैसी भावना का विकास किस अवस्‍था में होता है। --> बालयवस्‍था ।
  • मैक्‍डूगल के अनुसार मूलप्रवृति जिज्ञासा का संबंध कौन संवेग से है। --> आश्‍चर्य ।
  • बाल्‍यावस्‍था अवस्‍था होती है। --> 12 वर्ष तक।
  • शारीरिक विकास का क्षेत्र है। --> स्‍नायुमंडल
  • विवेचना रहित विचार की अवस्‍था मानी गई है। --> 4 से 7 वर्ष ।
  • प्राय: बालक चलना किस वर्ष में सीख लेता है। --> लगभग डेढ़ वर्ष में ।
  • शैक्षिक दृष्टि से बाल विकास की अवस्‍थाएँ है। --> किशोरवस्‍था , बाल्‍यावस्‍था , शैशवास्‍था।
  • बालक में सर्वप्रथम भय, क्रोध तथा प्रेम के संवेग विकसित होते है। कथन है। --> वाट्सन ।
  • प्रथम बाल निर्देशन केन्‍द्र किसके द्वारा खोला गया। --> विलियम हिली।
  • किसकी क्रियाशीलता का संबंध मनुष्‍य की पाचन क्रिया से भी होता है। --> अभिवृक्‍क ग्र‍ंथि।
  • वातावरण वह बहारी शक्ति है, जो हमें प्रभावित करती है। किसने कहा है। --> रॉस ।
  • बुद्धि परीक्षण निर्माण के जन्‍मदाता है। --> अल्‍फ्रेड बिने ।
  • ब्रिजेस के अनुसार उत्‍तेजना भाग है। --> संवेगात्‍मक विकास का ।
  • तर्क , जिज्ञासा तथा निरीक्षण शक्ति का विकास होता है। ………. की आयु पर। --> 11 वर्ष।
  • निम्‍न में से कौन सा वंशानुक्रम का नियम नहीं है। --> अभिप्रेरणा।
  • एक कारक सिद्धान्‍त को और किस नाम से जाना जाता है। --> एक कारक सिद्धान्‍त को राजकीय सिद्धान्‍त के नाम से भी जाना जाता है।
  • बुद्धि का सबसे पुराना सिद्धान्‍त कौन सा है। --> बुद्धि का सबसे पुराना सिद्धान्‍त एक कारक सिद्धान्‍त है।
  • बुद्धि का द्विकारक सिद्धान्‍त किसने दिया । --> स्‍पीयर मैन ने दिया ।
  • स्‍पीयर मैन कहॉ के निवासी थे । --> स्‍पीयर मैन फ्रांस के निवासी थे ।
  • स्‍पीयर मैन पहले किस विषय के प्रोफेसर थे। --> स्‍पीयर मैन पहले संख्‍यकी विषय के प्रोफेसर थे बाद में मनोविज्ञान के प्रोफेसर बने ।
  • स्‍पीयर मैन ने बुद्धि का सम्‍बन्‍ध किस से बताया है। --> स्‍पीयर मैन ने बुद्धि का सम्‍बन्‍ध चिन्‍तन से बताया है।
  • बालको के भाषायी विकास का क्रम क्‍या है। --> बालको के भाषायी विकास का क्रम : रोना (रूदन , क्रदन) ; बबलाना ; हावभाव
  • बालक किस उम्र में वाक्‍यों द्वारा अपनी बात को कह पाता है। --> 5 वर्ष की उम्र में ।
  • बालक सबसे पहले क्‍या बोलता है। --> व्‍यंजन (वह सबसे पहले मॉ शब्‍द बोलता है।)
  • बालक सबसे पहले किसकी भाषा को पहचानता है। --> बालक सबसे पहले अपनी मॉ की आवाज (भाषा) को पहचानता है। (इसे ही मात्रभाषा कहते है।)
  • कहॉ पर बालक सामाजीकरण के नियम स्वयं सीखता है। --> खेल के मैदान में। जैसे : आपस मे सहयोग करना , अपने क्रोध पर सयंम करना , त्याग करना ।
  • बालक में नकारात्‍मक सोच कौन सी अवस्‍था मे उत्‍पन्‍न हो जाती है। --> किशोर अवस्था में !
  • दो बार आने वाले दॉंतों की संख्‍या है। --> 20
  • ‘मनुष्‍य एक सामाजिक प्राणी है।’ यह कथन किसका है- --> अरस्‍तू
  • बालक में सामाजीकरण का प्रारंभ किस अवस्‍था में होता है। --> शैशवावस्‍था में
  • बालक का सामाजीकरण किस अवस्‍था में पूर्ण हो जाता है। --> किशोरावस्‍था में
  • बालक की गिरोह की अवस्‍था किस अवस्‍था को कहा गया है। --> बाल्‍यावस्‍था को
  • बालक में नकारात्‍मक सोच किस अवस्‍था में उत्‍पन्‍न होती है। --> किशोरावस्‍था में
  • सामाजिक अधिगम का सिद्धांत किसने दिया। --> बंडूरा और बाल्‍टर ने
  • मनोसामाजिक विकास का सिद्धांत किसने दिया। --> इरिक्‍सन
  • क्षेत्र सिद्धान्त किस विद्वान ने दिया था । --> कर्टलेविन ने ।
  • कर्ट लेविन कहॉ के वैज्ञानिक थे। --> जर्मनी के ।
  • गेस्टाल्ट वादी क्या है। --> जर्मनी के विद्वानों का समूह जिसमे कोहलर, कोफा, वर्दिमर शामिल है
  • कर्ट लेविन किस समप्रदाय के समर्थक थे। --> संज्ञानवादी ।
  • क्षेत्र सिद्धान्त को किस-किस नाम से जाना जाता है। --> (1) संज्ञानात्मक क्षेत्र सिद्धान्त‍ (2) स्थान मनोविज्ञान सिद्धान्त (3) बाल दिशा मनोविज्ञान
  • कर्ट लेविन के क्षेत्र सिद्धान्त मे क्षेत्र का अर्थ क्या है। --> जीवन के विभिन्न क्षेत्रों से है। जैसे शिक्षा का क्षेत्र, स्वाषथ्य का क्षेत्र
  • अधिगम का श्रेणीक्रम सिद्धान्त किसने दिया। --> रार्बट गेने ने दिया ।
  • रार्बट गेने किस समप्रदाय के समर्थक थे। --> संज्ञानवादी ।
  • शिशु के मस्तिष्‍क का वजन होता है। --> 350ग्राम
  • वयस्‍क व्‍यक्ति के मस्तिष्‍क का वजन होता है। --> 1400 ग्राम