हिन्दी में लिखना बहुत आसान है

Wikibooks से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

वर्तमान समय में हिन्दी में लिखना बहुत ही आसान हो गया है। बहुत लोगों को पता नहीं है कि कम्प्युटर में हिन्दी लिखना अब बहुत ही आसान है। खास बात यह है कि हिन्दी में ही नहीं, आप गुजराती, मराठी, तेलुगू आदि अन्य कई भारतीय भाषाओं में भी आराम से लिख सकते हैं।



For Most Users[सम्पादन]

Web-based easy copy-paste based solution: http://www.google.com/transliterate/indic/

Dedicated solution (installing a hindi keyboard so you can type just like English in any program)::

- XP or Vista

In XP: Go to control panel. Click on Regional and Language Options

Go to 'Languages' tab. Enable 'Install files for complex script and right-to-left languages (including Thai)'


Now click on Details. It will bring up a settings box. Click on Add Hindi in it. Click ok on everything.

You will see an icon on the toolbar which says EN. Anytime you want to write in hindi, just click on it and select HI. That's it, you should be able to write in Hindi in most applications (including mozilla firefox and Internet Explorer).

The problem is how do you know which key is what. For this, go to start menu, accessories, accessibility options and start on-screen keyboard. Now when you switch to HI, you will be able to see all the keys in HI. This can be your on-screen guide as to which key will be which Matra or Akshar of Hindi.

It is super simple. And the great advantage is that you can just switch the keyboard to Hindi anywhere at all and start typing hindi!

For Other Users[सम्पादन]

If you have OS older than XP, or for some reason you don't have permission or resources to make the changes above, you still have a lot of options.

There are lot of webpages that just let you type and they automatically convert it to unicode (side by side). You can just copy paste that unicode where ever you want.

Better still, there are software in which you can just pretend that you have a Hindi keyboard and just type. Each software might have its own particular keyboard mapping that it uses. The output (or display) of that software must be Unicode for you to be able to just copy it and paste it in most windows applications (and net).

I use this software called Takhti. In this application, you just download the files, run this software and it brings up a wordpad. You just type in it. The keyboard scheme that it uses is super natural. It is very easy to start because most keys are mapped according to how they sound in english. At the same time, it doesn't require repeated keystrokes like itrans. What you see on the screen, you can just copy it and paste it in firefox or internet exlorer. Here is the link to Takhti:

http://web.archive.org/20020813195109/www.geocities.com/hanu_man_ji/

Firefox Users[सम्पादन]

One thing about firefox users is that if you cannot enable complex scripts setting (see steps for XP users above), then it will display hindi incorrectly.

There is a nice plugin for firefox that will automatically use internet exlorer for display on particular websites (you can set filters for pages you want to be displayed in IE). For example, I have all wikisource and wikibooks displayed in IE.

फायर फाक्स प्रयोगकर्ता[सम्पादन]

फायर फाक्स की एक खामी है कि यदि आप उसकी जटिल सक्रिप्ट समायोजन (सैंटिंग्)सक्षम नही कर सकते तो हिन्दी सही ढंग से प्रद्र्शित नही होती । एक प्लग्-इन उप्लब्ध है जो (फायर फाक्स के लिये)जो अपने आप ही कुछ विशेष पन्नों को इन्टरनेट एक्सप्लोर्र मे दर्शाता है (आप फिल्टर के प्रयोग द्वारा यह चयन कर सकते हैं कि कौन से पृष्ठ इन्टरनेट एक्सप्लोर्र मे दिखाई दें) उदाहरण के लिए मैने सभी विकिसोर्स और विकिबुक के पन्ने इन्टरनेट एक्सप्लोर्र में दिखें ऐसा समायोजन (सैटिंग्)अपने फायर फाक्स मे कर रखी है। अंतकरन

हिन्दी क्यों लिखें[सम्पादन]

क्या आप जानते हैं कि हिन्दी नेट पर सबसे तेज रफतार से बढ रही भाषा है? बहुत सी कंपनीयां (जैसे गूगल, याहू, बी बी सी हिन्दी) हर रोज हिन्दी में खबरें छाप रहीं हैं । हिन्दी के बहुत से साईटस खुल चुके हैं । लोग हिन्दी में बलौगिंग कर रहे हैं ।

गूगल ने सैंकडों हजारों हिन्दी में छपी किताबों को डिजिटाईस करने की ठानी है ।

मज़े की बात यह है कि एक बार जब आप को आदत पड़ गयी हिन्दी कीबोर्ड इसतेमाल करने की, तो हिन्दी में लिखना अंग्रेजी में लिखने जैसा ही है । बहुत ज्यादा आसान और तेज है । आप को हैरानी होगी की कम्पयूटर पर भी इतने आसानी से हिन्दी लिखी जा सकती है ।

आप IM में और औरकूट जैसे साईटस पर हिन्दी लिख सकते हैं, लोगों से हिन्दी में बातें कर सकते हैं ।

हिन्दी के बहुत फायदे हैं । We speak Hindi, why don't we also write in Hindi? It is our pride. We will still learn English, speak in it, but at the least we should have a presence on the internet as citizens of Bharat! हम हिंदी बोलते हैं तो फिर हिन्दी लिखते क्यों नही ? हिन्दी हमारा स्वाभिमान है । हमे अंग्रेजी सीख्ननी और बोलनी भी चाहिए किन्तु शुद्ध हिन्दी में वर्तालाप करना आना चाहिए , खिचडी भाषा का प्रयोग ना तो हिन्दी के साथ न्याय करता है और ना ही अंग्रेजी के साथ न्याय करता है । आज के युवाओ को ना तो पूरी तरह अंग्रेजी बोलानी आती है और ना ही वो स्तत हिन्दी मे बात कर सकते हैं ।

Links[सम्पादन]