अक्षय ऊर्जा/प्रस्तावना

Wikibooks से
Jump to navigation Jump to search
अक्षय ऊर्जा
प्रस्तावना जैव ऊर्जा

प्रस्तावना[सम्पादन]

अक्षय ऊर्जा उस ऊर्जा को कहते हैं, जिसका एक बार उपयोग करने के बाद भी हम उसे दूसरे बार भी उपयोग कर सकते हैं। उदाहरण के लिए पवन ऊर्जा, यह ऊर्जा स्वतः ही पवन के चलने पर हमें मिलती है। जिसे हम पवन चक्की की सहायता से कभी भी उस ऊर्जा का उपयोग कर सकते हैं। यह पवन ऊर्जा धरती में अलग अलग स्थानों में हुए दाब के परिवर्तन के कारण बनते हैं। यह कभी क्षय नहीं हो सकते हैं। इस कारण इस ऊर्जा को अक्षय ऊर्जा कहते हैं।