कृष्ण काव्य में माधुर्य भक्ति के कवि/सेवक (दामोदरदास) की रचनाएँ

Wikibooks से
Jump to navigation Jump to search


  • सेवक वाणी (दोहे ,कवित्त पद आदि स्फुट रूप में )