चीनी भाषा/परिचय

विकिपुस्तक से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ

इस भाषा को सीखने से पहले इस बात का ध्यान रखें कि ये भाषा दुनिया के आधे से अधिक भाषाओं से पूरी तरह अलग है। इसमें एक अक्षर को लिखने के लिए कई रेखाओं का उपयोग किया जाता है। चीनी अक्षरों को कई बार चित्रों के रूप में भी दर्शाया जाता है, क्योंकि सभी अक्षरों का अपना एक अलग रूप होता है और अपना ही अलग उच्चारण, अर्थ और अपनी ही अलग कहानी होती है।

हर अक्षरों में भिन्नता होने पर भी उनमें कई चीजें सामान्य हैं। उदाहरण के लिए 口 (मुँह) और 馬 (घोड़ा) शब्द को लेते हैं, इसे सीखने के बाद आप यदि 嗎 (प्रश्न चिह्न) को देखेंगे तो आपको लगेगा कि इसमें केवल पहले दो अक्षरों को मिलाना ही रहता है। इस तरह का तरीका बहुत ही महत्वपूर्ण है और आपको चीनी अक्षरों को याद रखने के लिए इसी तरीके को अपनाना चाहिए। एक एक रेखा को याद रखने की तुलना में इस तरीके से आप आसानी से इसे पढ़ना और लिखना सीख सकते हैं।

चीनी भाषा को लिखने के लिए बाद में उसका सरल रूप तैयार किया गया और अभी जिस सरल रूप में इसे लिखा जा रहा है, उसे 1956 में लाया गया था। इसे सिंगापूर, मलेशिया आदि में उपयोग किया जाता है, जबकि पारंपरिक चीनी अक्षरों को होंग कोंग, मकाओ और ताइवान में काफी अधिक उपयोग किया जाता है। चीनी भाषा के अक्षरों को सरल करने में उसके वास्तविक रूप और कई तरह हिस्सों को हटा दिया गया था।

इस पुस्तक में पारंपरिक रूप से लिखने वाले और उसका सरल रूप में लिखने वाले दोनों अक्षरों के बारे में लिखा गया है।