प्रार्थना/जयति जय जय माँ सरस्वती

विकिपुस्तक से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ


जयति जय जय माँ सरस्वती जयति वीणा धारिणी ॥

जयति पद्मासीन माता जयति शुभ वरदायिनी ॥ जगत का कल्याण कर माँ तुम हो विद्या दायिनी ॥

कमल आसन छोड़ दे माँ देख जग की दुर्दशा ॥ शांति की सरिता बहा दे फिर से जग में भारती ॥

जयति जय जय -- भक्त के कल्याण कर माँ तुम हो मा शान्ति की सरिता बहा दे-2

तुम हो विद्या दायिनी मा जयति जय जय माँ सरस्वती....