भारतीय अर्थव्यवस्था/मुद्रास्फीति

विकिपुस्तक से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ

जब किसी अर्थव्यवस्था मे वस्तुओ और सेवाओ की पूर्ति की सपेछ मांग तीव्र गति से बड़े, परिणाम स्वरूप वस्तुओ और सेवाओ के मुल्यूयो मे सतत् वृधि बनी रहे, जिससे मुद्रा की क्रय शक्ति मे कमी आ जाती है यह स्थिति मुद्रा सफिती कह लाती है