भारत का भूगोल/भारत का भौतिक स्वरूप

विकिपुस्तक से
Jump to navigation Jump to search

सेलखड़ी एक मुलायम शैल है जिसका प्रयोग टेल्कम पाउडर बनाने में होता है।प्लेट विवर्तनिक के सिद्धांत के अनुसार पृथ्वी की ऊपरी पर्पटी सात बड़ी तथा कुछ छोटी प्लेटों से बनी है।

सबसे प्राचीन भूभाग (अर्थात् प्रायद्वीपीय भाग) गोंडवाना भूमि का एक हिस्सा था।गोंडवाना भूभाग के विशाल क्षेत्र में भारत,आस्ट्रेलिया,दक्षिण अफ्रीका,दक्षिण अमेरिका तथा अंटार्कटिक क्षेत्र शामिल थे।संवहनीय धाराओं के कारण भू-पर्पटी अनेक टुकड़ों में विभाजित हो गया।भारत-आस्ट्रेलिया की प्लेट गोंडवाना भूमि से अलग होने के बाद उत्तर दिशा की ओर प्रवाहित होने लगी।इसी दौरान यूरेशियन प्लेट से टकराने के कारण दोनों प्लेटों के मध्य स्धित 'टेथिस' भू-अभिनति के अवसादी चट्टान,वलित होकर हिमालय तधा पश्चिम एशिया की पर्वतीय श्रृंखला के रूप में विकसित हो गये। गोंडवाना भूमि :-यह प्राचीन विशाल महाद्वीप पैंजिया का दक्षिणतम भाग है,जिसके उत्तर में अंगारा भूमि है।

भारत के 6 भूआकृतिक खंड

भारत का मानचित्र

उत्तर तथा उत्तर-पूर्वीं पर्वतमाला:[सम्पादन]

हिमालय में मौजूद समानांतर पर्वत श्रृंखलाओं में वृहत हिमालय महान या आंतरिक हिमालय सबसे अधिक शतक श्रृंखला है जिसमें 6000 मीटर की औसत ऊंचाई वाले सर्वाधिक ऊंचे शिखर हैं। या हिमाद्रि,पार हिमालय,मध्य हिमालय और शिवालिक प्रमुख है।इनका विस्तार है।

  • भारत के N-W में ये श्रेणियाँ N-W to S-E
  • दार्जिलिंग और सिक्किम क्षेत्र में E-W
  • अरूणाचल प्रदेश में यह S-W to N-W
  • मिजोरम,नागालैंड और मणिपुर में ये पहाड़ियाँ N-S

वृहत हिमालय श्रृंखला,जिसे केंद्रीय अक्षीय श्रेणी भी कहा जाता है,पूर्व-पश्चिम लंबाई लगभग 2500किमी तथा उत्तर-दक्षिण 160-400 किमी है।पश्चिम भाग की अपेक्षा पूर्वी भाग की ऊंचाई में अधिक विविधता पाई जाती है।

कश्मीर या उत्तरी-पश्चिमी हिमालय[सम्पादन]

  • हिमालय का उत्तर-पूर्वी,जो वृहत हिमालय और कराकोरम श्रेणियों के बीच स्थित एक ठंडा मरुस्थल है।
  • वृहत हिमालय और पीरपंजाल के बीच विश्व प्रसिद्ध कश्मीर घाटी और डल झील है।
  • बलटोरो और सियाचिन जैसी दक्षिण एशिया की प्रमुख हिमानी नदियाँ
  • करेवा के लिए प्रसिद्ध है जहाँ जाफरान की खेती होती है।
  • डल और वुलर प्रमुख अलवणजल झील,तथा पाँगाँग सो (pangongtso)और सोमुरीरी(Tsomuriri) लवणजल झील
  • सिंधु,झेलम तथा चेनाब इस क्षेत्र की प्रमुख नदी।
  • वैष्णों देवी,अमरनाध गुफा और चरार-ए-शरीफ यहीं स्थित है।
  • कश्मीर घाटी में झेलम नदी के युवा अवस्था में बहने के बावजूद नदी की प्रौढावस्था में निर्मित होने वाली विशिष्ट आकृति-विसर्पों का निर्माण करती है।
  • प्रदेश के दक्षिण भाग की अनुदैर्ध्य घाटियों को दून कहते हैं।इनमें जम्मू-दून और पठानकोट-दून।

ट्रिक-कालजाप-जोखफोब

पर्वत श्रेणियाँ दर्रे
काराकोरम जोजीला
लद्दाख खर्दुगला
जास्कर फोटुला
पीरपंजाल बनिहाल

हिमाचल और उत्तरांचल हिमालय[सम्पादन]

पश्चिम में रावी और पूर्व में काली या शारदा नदी (घाघरा की सहायक) के मध्य स्धित। रावी व्यास और सतलुज तथा यमुना और घाघरा इस प्रदेश की प्रमुख नदियां है।इसका सुदूर उत्तरी भाग लद्दाख के ठंडे मरुस्थल का विस्तार है और लाहौल एवं स्पीति जिले के स्थिति उपमंडल में है।हिमालय की तीनों पर्वत श्रृंखलाएं बृहत हिमालय लघु हिमालय और शिवालिक स्थित है लघु हिमालय को हिमाचल में धौलाधार और उत्तरांचल में नागतीभा कहा जाता है।लघु हिमालय में 1000 से 2000 मीटर ऊंचाई वाले पर्वत ब्रिटिश प्रशासन के लिए मुख्य आकर्षण केंद्र रहे हैं कुछ महत्वपूर्ण नगर है धर्मशाला मसूरी कसौली अल्मोड़ा लैंसडौन और रानीखेत।

प्रश्न खंड[सम्पादन]

  1. हिमालय की रचना समांतर वलय श्रेणियों से हुई है जिसमें से प्राचीनतम श्रेणी है- बृहत हिमालय श्रेणी[I.A.S-94]
  • उत्तराखंड के तराई भाग में पाताल तोड़ कुआं में पाए जाते हैं।
  • भारत में भू-आकारों की रचना के संबंध में निम्नलिखित कथनों पर मनन कीजिए।[B.P.S.C-05]
  1. संरचनात्मक दृष्टि से मेघालय पठार दक्कन पठार का ही विस्तारित भाग है।
  2. कश्मीर घाटी की रचना एक समभिनति में हुई।
  3. गंगा मैदान की रचना एक अग्रगर्त(foredeep)में हुई।
  4. हिमालय की उत्पत्ति भारतीय प्लेट,यूरोपीय प्लेट तथा चीनी प्लेट के त्रिकोणीय अभिसरण के फलस्वरूप हुई है।

इन कथनों में से कौन सा कथन सही हैं। (a)1,2तथा 3

  1. केरल का कुट्टानाड(या कुट्टानाडु)प्रसिद्ध है:-भारत की न्यूनतम ऊंचाई वाला क्षेत्र[U.P.P.C.S(M)-2015]

समुद्र तल से नीचे अपने खेती के तरीकों के लिए प्रसिद्ध,यह क्षेत्र धान केरल का 'धान का कटोरा'है।सतत कृषि और मत्स्य पालन के लिए भी जाना जाने वाला इस क्षेत्र को खाद्य एवं कृषि संगठन द्वारा खेती के तरीकों को'वैश्विक महत्वपूर्ण कृषि विरासत प्रणाली'(GIAHS)जी आई ए एस घोषित किया गया है।

  • सूची एक को सूची दो से सुमेलित कीजिए।[I.A.S-1997]
  1. दक्कन ट्रैप-क्रिटेशियस-आदि नूतन
  2. पश्चिमी घाट -उत्तर नूतन
  3. अरावली-प्रीकैंब्रियन काल
  4. नर्मदा-ताप्ती जलोढ़ निक्षेप-अत्यंत नूतन