सामग्री पर जाएँ

मध्यप्रदेश लोक सेवा सहायक पुस्तिका/मध्यप्रदेश भौगोलिक स्थिति एवं विस्तार

विकिपुस्तक से

6.सतपुड़ा मैकल श्रेणी[सम्पादन]

  • 21 डिग्री 30 मिनट से 23 डिग्री उत्तरी अक्षांश तथा 74 डिग्री 30 मिनट से 81 डिग्री पूर्वी देशांतर तक विस्तृत है।
  • यह दक्कन ट्रैप तथा गोंडवाना से निर्मित श्रेणी है।
  • शामिल जिलों में बालाघाट मंडला डिंडोरी शहडोल सीधी सिंगरौली बड़वानी सिवनी बालाघाट छिंदवाड़ा पूरे आते हैं।
  • यहां की जलवायु मानसून प्रकार की है।वर्षा 125 से 150 सेंटीमीटर तक होती है सर्वाधिक वर्षा का क्षेत्र (199 सेंटीमीटर) पंचमढ़ी यहीं पर है।
  • इसमें तीन श्रेणियां पाई जाती है-

1.राजपीपला-गुजरात तथा मध्य प्रदेश का पश्चिमी सीमा से बुरहानपुर दर्रे तक 2.सतपुडा श्रेणी-बैतूल,छिंदवाड़ा, महादेव पर्वत तथा धूपगढ़ चोटी इसमें में आते हैं।

बघेलखंड का पठार[सम्पादन]

  • गोंडवाना शैल समूह से निर्मित स्थिति 23 डिग्री 40 मिनट से 24 डिग्री 35 मिनट उत्तर तथा 80 डिग्री 5 मिनट 83 डिग्री पूर्वी देशांतर तक फैला हुआ है।
  • यह एक प्राचीनतम भूखंड का भाग है इसमें शहडोल अनूपपुर सीधी सिंगरौली का निचला हिस्सा तथा उमरिया डिंडोरी जिले आते हैं।
  • यहां की जलवायु मानसूनी प्रकार की तथा वर्षा का औसत 125 सेंटीमीटर है।
  • यहां पर मुख्यतः लाल पीली मिट्टी पाई जाती है।
  • इस पठार में खून नर्मदा व जोहिला नदियां प्रवाहित होती हैं।
  • यहां कृषि उपज में मुख्य फसल चावल है।अन्य फसलों में अलसी ज्वार व तिल है।
  • यहां के खनिजों में कोयला मुख्य है। बॉक्साइट,चूने का पत्थर तथा अग्निरोधी मिट्टी भी यहां पाई जाती है।
  • इस पठार का कुल क्षेत्रफल 21577 वर्ग किलोमीटर है जो प्रदेश के कुल क्षेत्रफल का 7% है।
  • यहां पर निजी क्षेत्र की कागज मिल अमलाई में स्थापित है।
  • सफेद शेरों के लिए प्रसिद्ध बांधवगढ़ राष्ट्रीय उद्यान यहीं पर है।
  • कर्क रेखा इस पठार के बीचों-बीच से गुजरती है।
  • मध्यप्रदेश की ऊर्जा राजधानी (बेढ़न)सिंगरौली यहीं पर है।