व्याकरण भास्कर/ध्वनि

विकिपुस्तक से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ

परिभाषा-आमतौर पर उच्चारण से लेकर श्रवण तक के समय में मनुष्य द्वारा बागइंद्रियों के द्वारा जो अभिव्यक्ति करता है, उसे ही ध्वनि की संज्ञा दी दी गई है अ,आ,इ,ई आदि की अभिव्यक्ति जब होती है, तो यह ध्वनियां कहलाती है। ध्वनियां बोलने और सुनने में आती है, वर्ण लिखने, पढ़ने और देखने में आते हैं।