व्याकरण भास्कर/वर्तनी

विकिपुस्तक से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ

हिंदी में वर्तनी को एक समस्या के रूप में देखा जाता है। एक ही शब्द का लेखन अनेक प्रकार से किया जाता है जिसकी वजह से हिंदी सीखने वालों तथा दूसरों लोगों को दिक्कत का सामना करना पड़ता है। कुछ शब्दों का प्रयोग काफी मुश्किल हो जाता है जैसे जाय, जाये, जाए, गई, गया,गयी आदि में कौन सा रूप मान्य होगा, कहना मुश्किल होता है।वर्तनी से संबंध इन बिंदुओं पर उलझने पैदा होती है उन्हें निम्नलिखित रूपों में देख सकते हैं

१ तत्सम शब्द

२ सामासिक शब्द

३ विदेशी शब्द

४ अनुस्वार, चंद्रबिंदु