व्याकरण भास्कर/विशेषण

विकिपुस्तक से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ

परिभाषा-संज्ञा अथवा सर्वनाम की विशेषता प्रकट करने वाले शब्द विशेषण कहलाते हैं।

जैसे -सुंदर, मोटा, काला, आदि।

विशेषण शब्द की विशेषता बताते हैं वह विशेष्य कहलाता है।

विशेषण के भेद-विशेषण के चार भेद हैं-

  1. गुणवाचक विशेषण
  2. संख्यावाचक विशेषण
  3. परिणामवाचक विशेषण
  4. सर्वनामिक/संकेतवाचक विशेषण

गुणवाचक विशेषण[सम्पादन]

जो संज्ञा अथवा सर्वनाम के गुण, दोष, रंग, आकार, स्थान, दृश्य, काल आदि का बोध कराते हैं, वे गुणवाचक विशेषण कहलाते हैं।

जैसे- यह पपीता मीठा है।

शुभांगी मोटी है।

संख्यावाचक विशेषण[सम्पादन]

जो संज्ञा अथवा सर्वनाम की संख्या का बोध कराते हैं संख्यावाचक विशेषण कहलाते हैं। इसके दो भेद हैं-

निश्चित संख्यावाचक[सम्पादन]

अनिश्चित संख्यावाचक[सम्पादन]

परिणाम वाचक विशेषण[सम्पादन]

सर्वनामिक विशेषण=[सम्पादन]