संयुक्त राष्ट्र संघ और वैश्विक संघर्ष/अफगानिस्तान युद्ध

विकिपुस्तक से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ
  • अफ़ग़ानिस्तान युद्ध

अफ़ग़ानिस्तानी चरमपंथी गुट, तालिबान, अल कायदा और इनके सहायक संगठन एवं नाटो की सेना के बीच सन 2001 से अफ़ग़ानिस्तान युद्ध चला आ रहा है। इस युद्ध का मकसद अफ़ग़ानिस्तान में तालिबान सरकार को खत्म कर वहाँ के इस्लामी चरमपंथियों को ख़त्म करना है। युद्ध कि शुरुआत 2001 में अमेरिका के वर्ल्ड ट्रेड सेंटर पर हुए आतंकी हमले के बाद हुयी।

हमले के बाद अमेरिकी राष्ट्रपति जॉर्ज विलियम बुश ने तालिबान से अल कायदा प्रमुख ओसामा बिन लादेन कि मांग की, जिसे तालिबान ने यह कहकर मना कर दिया कि पहले अमेरिका, लादेन के इस हमले में शामिल होने के सबूत पेश करे जिसे बुश ने ठुकरा दिया और अफ़ग़ानिस्तान में ऐसे कट्टरपंथी गुटों के विरुद्ध युद्ध का ऐलान कर दिया।

अफ़ग़ानिस्तान युद्ध की शुरुआत सन 1978 में सोवियत संघ द्वारा अफ़ग़ानिस्तान में किये हमले के बाद हुई।

युद्ध के कारण[सम्पादन]

  • अफ़ग़ानिस्तान पर अमरीकी हमले के कारण।
  • अफ़ग़ानिस्तान में तालिबान शासन को खत्म करना ।
  • अफ़ग़ानिस्तान और पाकिस्तान में फैले चरमपंथ को समाप्त करना ।
  • इसका मुख्य उद्देश्य 2001 में अमेरिका के वर्ल्ड ट्रेड सेंटर में हुए हमले के मुख्य आरोपी ओसामा बिन लादेन और उसके संगठन अल कायदा को समाप्त करना था।