संयुक्त राष्ट्र संघ और वैश्विक संघर्ष/बाल्कन युद्ध

विकिपुस्तक से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ

बाल्कन युद्ध

बाल्कन युद्ध ( तुर्की: Balkan Savaşları , शाब्दिक रूप से "बाल्कन युद्ध" या बाल्कन फासिसी , जिसका अर्थ है "बाल्कन त्रासदी") ,सन् 1912 - 1913 में हुआ था। प्रथम विश्वयुद्ध होने के महत्वपूर्ण कारणों में से एक कारण यह भी माने जाते है।

चार बाल्कन राज्यों ने पहले युद्ध में तुर्क साम्राज्य को हरा दिया। जर्मनी, फ्रांस, रूस, ऑस्ट्रिया-हंगरी, और ब्रिटेन में हो रहे एक सामान्य यूरोपीय युद्ध को रोकने के लिए बाल्कन में साम्राज्यवादी और राष्ट्रवादी तनावों को दूर करने का प्रयास किया गया। वे 1912 और 1913 में सफल रहे , लेकिन 1914 में असफल हो गये। युद्ध ने 1914 के बाल्कन संकट के लिए मंच स्थापित किया और इस प्रकार "प्रथम विश्व युद्ध के प्रस्ताव" के रूप में कार्य किया।

सन् 1912 में रूस और फ्रांस में यह समझौता हो गया कि यदि बाल्कन प्रायद्वीप के प्रश्न पर जर्मनी अथवा ऑस्ट्रिया रूस से युद्ध करेंगे तो फ्रांस रूस के साथ रहेगा। यह समझौता हो जाने पर बाल्कन राज्यों ने एक बहाना लेकर टर्की के विरुद्ध 17 अक्टूबर 1912 को युद्ध की घोषणा कर दी।

20 वीं शताब्दी की शुरुआत तक, बुल्गारिया, ग्रीस, मोंटेनेग्रो और सर्बिया ने तुर्क साम्राज्य से आजादी हासिल की थी, लेकिन उनकी जातीय आबादी के बड़े तत्व तुर्क शासन के अधीन रहे। 1912 में इन देशों ने बाल्कन लीग का गठन किया। बाल्कन गठबंधन 4 देशों (ग्रीस, सर्बिया, बुल्गारिया, मोंटेनेग्रो)' को 1912 से 1913 तक इतालवी-तुर्की युद्ध में परेशानी का सामना करना पड़ा। तुर्की ने क्रिस्ट द्वीप खो दिया और अधिकांश यूरोपीय क्षेत्र (रुमेलीया) कोकॉन्स्टेंटिनोपल को भी खो दिया । बुल्गारिया हार गया था और अधिकांश मैसेडोनिया ने दक्षिण डोब्रोजा और पूर्वी थ्रेस को त्याग दिया था। और फिर बाल्कन गठबंधन ध्वस्त हो गया।