संयुक्त राष्ट्र संघ और वैश्विक संघर्ष/सिद्धांत और उद्देश्य

विकिपुस्तक से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ

सिद्धांत (Principle)[सम्पादन]

चार्टर की धारा 2 में संयुक्त राष्ट्र संघ के मार्गदर्शन के लिए सात सिद्धांत उल्लेखनीय है :–

  1. संयुक्त राष्ट्र संघ के सभी सदस्यों के बीच समानताएं।
  2. संयुक्त राष्ट्र संघ द्वारा स्वीकृत किये गये चार्टर के सभी उत्तरदायित्वों का स्वेच्छा अनुसार पालन करना।
  3. अंतर्राष्ट्रीय विवादों का शांतिपूर्ण समाधान। जिससे अंतर्राष्ट्रीय शांति, सुरक्षा और न्याय खतरे में ना पड़े।
  4. सभी सदस्य ऐसा कोई काम नहीं करेंगे जिससे अन्य देशों की प्रादेशिक अखंडता पर आँच आये।
  5. सभी सदस्य संयुक्त राष्ट्र संगठन को हर संभव सहायता उपलब्ध कराएँगे । एवं ऐसे देश को किसी प्रकार की सहायता प्रदान नहीं करेंगे जिसके विरुद्ध संयुक्त राष्ट्र संगठन कोई कार्यवाही कर रहा हों।
  6. संयुक्त राष्ट्र संघ का प्रयास रहेगा कि जो देश संगठन के सदस्य नहीं है वे भी संगठन के सिद्धांतों के अनुकूल कार्य करे।
  7. जो मामले मूल रूप से किसी भी देश के आंतरिक क्षेत्राधिकार (घरेलू अधिकारिता) में आते हैं, उनमें संयुक्त राष्ट्र हस्तक्षेप नहीं करेगा।

उद्देश्य(Aims)[सम्पादन]

संयुक्त राष्ट्र घोषणा पत्र की धारा एक के अनुसार संयुक्त राष्ट्र संघ के निम्नलिखित उद्देश्य हैं :-

  1. विश्व में शांति की स्थापना करना।
  2. मानव अधिकारों की रक्षा करना।
  3. सामाजिक एवं आर्थिक विकास ।
  4. अंतरराष्ट्रीय शान्ति और सुरक्षा बनाए रखना।
  5. राष्ट्रों के बीच उनके सम्मान, अधिकार और आत्म निर्णय के आधार पर मैत्रीपूर्ण संबंधों का विकास करना।
  6. आर्थिक, सामाजिक, सांस्कृतिक और मानव हितवादी, अंतर्राष्ट्रीय समस्याओं को सुलझाने और मानवीय अधिकारों तथा सबके मौलिक स्वाधीनता के प्रति सम्मान भावना बढ़ाने मे अंतर्राष्ट्रीय सहयोग करना।
  7. इन सामूहिक लक्षणों की प्राप्ति में राष्ट्रों के क्रियाकलाप में सहमति बनाने वाले केंद्र के रूप में अपनी पहचान बनाना।