सदस्य:डॉ नीरज भारद्वाज

विकिपुस्तक से
Jump to navigation Jump to search

हिन्दी साहित्य का इतिहास सन् रचना और रचनाकार महत्वपूर्ण बिन्दू 1839 पहला भाग 1847 दूसरा भाग रचना- 'इस्तवार द ला लितरेत्यूर ऐन्दुई ऐ ऐन्दुस्तानी'

दूसरा नाम- हिंदवी और हिन्दुस्तानी साहित्य का इतिहास

रचनाकार- गार्सा द तासी  इसमें वर्णानाक्रमानुसार हिन्दी-उर्दू के रचनाकारों का परिचय रहा।  इसमें 738 कवियों-रचनाकारों का परिचय था।  इसमें 72 हिन्दी के थे।  तासी उर्दू के प्रोफ़ेसर थे।  फ्रांस की राजधानी पेरिस में लिखा गया।  यह फ्रैंच भाषा लिखा गाया है। 1848 रचना- तबकातुशुआस या तजकिरा-ई-शुअरा-ई- हिन्दी

रचनाकार- मौलवी करीमुद्दीन  1004 रचाकारों का परिचय  62 हिन्दी रचाकारों को स्थान दिया।  रचाकारों के जन्म-मरण के साथ काव्य-संग्रहों के नाम देने का प्रयास किया गया।  मौलवी ने चंद, खुसरो, कबीर, जायसी, तुलसी के कालक्रम का चिंतन किया। 1878 रचना- शिव सिंह सरोज

रचनाकार- शिव सिंह सेंगर  इसमें 1003 कवियों का परिचय।  687 कवियों की तिथि दी गई है।  इसकी रचना कालिदास हजारा पर हुई है। (कालिदास त्रिवेदी) 1889 रचना- द मॉर्डन वर्नाक्युलर लिटरेचर ऑफ हिंदुस्तान

रचनाकार- सर जार्ज अब्राहम ग्रियर्सन  सरोज को आधार बनाया  काल विभाजन का प्रथम प्रयास हुआ।  952 कवियों का परिचय रहा।  इसे पहला सटीक हिन्दी साहित्य का इतिहास कहा जा सकता है। 1913 रचना- मिश्र बंधु विनोद

रचनाकार- श्याम बिहारी मिश्र, शुकदेव बिहारी मिश्र, गणेश बिहारी मिश्र (मिश्र बंधु)  इसमें 4591 कवियों का समावेश है।  काल विभाजन को नया रूप दिया गया।  तीन भागों में हिन्दी साहित्य का इतिहास प्रकाशित हुआ।  हिन्दी नवरत्न इन्हीं तीनों भागों का पूरक है। 1929 रचना- हिन्दी साहित्य का इतिहास

रचनाकार- आचार्य रामचन्द्र शुक्ल  यह मिश्र बंधु विनोद पर आधारित है।  साहित्य का कालक्रमानुसार विभाजन।  इसमें प्रत्येक कवि की रचना के उदाहरण प्रस्तुत किए गए।  प्रत्येक देश का साहित्य वहाँ की जनता की चित्तवृत्ति का संचित प्रतिबिंब होता है।

1930 रचना- हिन्दी भाषा और इतिहास

रचनाकार- डॉ. श्याम सुंदर दास  1930 रचना- हिन्दी साहित्य का विवेचनात्मक इतिहास

रचनाकार- डॉ. सूर्यकान्त शास्त्री  1930 रचना- हिन्दी भाषा और उसके साहित्य का विकास

रचनाकार- अयोध्यासिंह उपाध्याय हरिऔध  1931 रचना- हिन्दी साहित्य का इतिहास

रचनाकार- डॉ रमाशंकर शुक्ल रसाल  1938 रचना- हिन्दी साहित्य का आलोचनात्मक इतिहास

रचनाकार- डॉ. रामकुमार वर्मा  1973 रचना- हिन्दी साहित्य का इतिहास

संपादक- डॉ. नगेन्द्र  डॉ. नगेन्द्र दिल्ली विवि में हिन्दी विभागाध्यक्ष रहे।