सिविल सेवा मुख्य परीक्षा विषयवार अध्ययन/जनवितरण प्रणाली

विकिपुस्तक से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ

केंद्रीय भंडार(Kendriya Bhandar) COVID-19 के कारण लागू किये गए राष्ट्रव्यापी लाकडाउन के मद्देनज़र केंद्रीय भंडार (Kendriya Bhandar) ने 8 अप्रैल 2020 को ज़रूरतमंद परिवारों की मदद करने के लिये ‘आवश्यक किट्स’ (Essentials Kits) पहुँचाने की अनूठी पहल शुरू की है। वर्तमान में केंद्रीय भंडार द्वारा दिल्ली के विभिन्न क्षेत्रों में ज़रूरतमंद परिवारों के लिये 2200 आवश्यक किट्स (Essentials Kits) सौंपी गई हैं। प्रत्येक किट में 9 वस्तुएँ (3 किलोग्राम चावल,3 किलोग्राम गेहूँ आटा, 2 किलोग्राम दाल, 1 लीटर खाद्य तेल, 500 ग्राम पोहा, 1 किलोग्राम नमक, साबुन, 3 पैकेट बिस्कुट) शामिल हैं।

केंद्रीय भंडार (KENDRIYA BHANDAR) के नाम से संचालित केंद्र सरकार के कर्मचारी उपभोक्ता सहकारी सोसाइटी लिमिटेड (Central Government Employees Consumer Cooperative Society Ltd.) को वर्ष 1963 में एक कल्याणकारी परियोजना के रूप में स्थापित किया गया था।
उद्देश्य:-केंद्रीय भंडार केंद्र सरकार के कर्मचारियों एवं आम जनता की सेवा करने के उद्देश्य से उचित मूल्यों पर दैनिक आवश्यकताओं की गुणवत्तापूर्ण वस्तुएँ उपलब्ध कराने तथा अपने खुदरा दुकानों के माध्यम से सार्वजनिक वितरण प्रणाली में प्रभावी भूमिका निभाने का कार्य कर रहा है।
केंद्रीय भंडार नेटवर्क:-केंद्रीय भंडार दिल्ली, महाराष्ट्र, तमिलनाडु, आंध्रप्रदेश, कर्नाटक, केरल, दमन, गोवा, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, राजस्थान, मध्य प्रदेश, हरियाणा, पंजाब एवं चंडीगढ़ में 114 स्टोर का नेटवर्क संचालित कर रहा है।

केंद्रीय भंडार (Kendriya Bhandar) भारत सरकार के कार्मिक, लोक शिकायत और पेंशन मंत्रालय (Union Ministry of Personnel, Public Grievances, Pensions) के तहत कार्मिक एवं प्रशिक्षण विभाग (Department of Personnel and Training- DoPT) के अंतर्गत आता है।

सिविल सेवा मुख्य परीक्षा प्रश्नोत्तर[सम्पादन]

अनाज वितरण प्रणाली को अधिक प्रभावी बनाने हेतु सरकार द्वारा कौन-कौन से सुधारात्मक कदम उठाए गए हैं ? 15m, 250/2019