हिंदी उपन्यास/यशपाल

विकिपुस्तक से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ

परिचय - यशपाल का जन्म 3 दिसम्बर 1909 ई . में फिरोजपुर छावनी में खत्री परिवार में हुआ । इनके पिताजी का नाम हीरालाल तथा माता जी का नाम श्रीमती प्रेमवती था । इनकी माता जी फिरोजपुर छावनी के एक अनाथालय में अध्यापिका थी । वहीं पर इनका लालन - पालन हुआ । इनके पिता कांगड़ा में नौकरी करते थे तथा माता जी फिरोजपुर में अध्यापिका थीं । घर की आर्थिक स्थिति अच्छी न होने के कारण माता जी को कांगड़ा से दूर फिरोजपुर में कार्य करना पड़ रहा था । इनके पिता का निधन इनके किशोरावस्था में हो गया था । इनके व्यक्तित्व निर्माण में इनकी माता जी का प्रभाव है ।

इनके पिता के निधन के बाद माता पंजाब में बस गई । इनकी माता जी आर्य समाजी विचारधारा की थी । इसलिए उन्होंन दोनों पुत्रों को भी आर्य समाज में दीक्षित किया । उनकी प्रारंभिक शिक्षा गुरुकुल में हुई । छठी कक्षा तक यहाँ शिक्षा ग्रहण करने के बाद सातवीं कक्षा में यह लाहौर आ गए ।

साहित्यिक परिचय[सम्पादन]

यशपाल का साहित्यिक जीवन वेदना व कष्ट की अग्नि से तप कर बना है। क्रांतिकारी जीवन से प्राप्त साहस और निर्भीकता की नींव पर उनके साहित्य की इमारत खड़ी हुई है।

1938 में उन्होंने ' विप्लव ' नामक पत्रिका का प्रकाशन प्रारंभ किया । इस काम में उनकी सहायता उनकी पत्नी प्रकाशवती करती थीं । आर्थिक परेशानियों के बावजूद उन्होंने सन् 1940 तक इस पत्रिका का प्रकाशन निरंतर किया । लेकिन सन् 1940 में वे अपने क्रांतिकारी विचारों के कारण गिरफ्तार कर लिए गये तो बाध्य होकर उन्हें ' विप्लव पत्रिका का संपादन बंद करना पड़ा । सन् 1941 में थे रिहा हो गए मगर उनके क्रांतिकारी विचार मंद न पड़े ।

सन् 1913 में इन्होंने ' देशद्रोही ' उपन्यास की रचना की । इसके बाद उनका रचना कर्म निरंतर चलता रहा । उनके क्रांतिकारी तेवर उनके व्यक्तित्व एवं कृतित्व का प्रतीक बन गया है ।

इसके विपरीत यशपाल ने अपने इस अभियान को संजोकर रखा है ।

यशपाल को विभिन्न मान - सम्मान , उपाधियों - पुरस्कारों से नवाजा गया[सम्पादन]

इनका साहित्य कर्म की सूची निम्न प्रकार से है - उपन्यास साहित्य दादा कामरेड ( 1941 ) , देशद्रोही ( 1943 ) , दिव्या ( 1945 ) , पार्टी कामरेड ( 1947 ) , मनुष्य के रूप ( 1949 ) , अमिता ( 1956 ) , झूठा - सच ( 1958 ) , झूठा सच ( भाग 2 , 1960 ) , बारह घण्टे ( 1963 ) , अप्सरा का शाप ( 1965 ) , क्यों फसें । ( 1968 ) , तेरी मेरी उसकी बात ( 1973 ) ।

अनूदित उपन्यास साहित्य पक्का कदम ( 1960 ) , जनानी ड्योढ़ी ( 1955 ) , फसल ( 1956 ) , जुलैखा 1960 , चलनी में अमृत।

कहानी साहित्य[सम्पादन]

कहानी साहित्य - पिंजरे की उड़ान ( 1939 ) , वो दुनिया ( 1942 ) , ज्ञान दान ( 1943 ) , अभिशप्त ( 1944 ) , तर्क का तूफान ( 1944 ) , भस्मावृत चिंगारी ( 1946 ) , फूलों का कुर्ता ( 1949 ) , धर्म युद्ध ( 1950 ) , उत्तराधिकारी ( 1951 ) , चित्र का शीर्षक ( 1951 ) , तुमने क्यों कहा था में सुन्दर हूँ ? ( 1954 ) , उत्तमी की माँ ( 1955 ) , ओ भैरवी ( 1958 ) , सच बोलने की भूल ( 1962 ) , खच्चर और आदमी ( 1965 ) , भूख के तीन दिन ( 1968 ) ।

निबंध साहित्य[सम्पादन]

न्याय का संघर्ष ( 1940 ) , मार्क्सवाद ( 1941 ) , गांधीवाद की शव परीक्षा ( 1942 ) , चक्कर क्लब ( 1943 ) , बात - बात में बात ( 1950 ) , राम राज्य की व्यथा ( 1950 ) , देखा , सोचा , समझा ( 1951 ) , बीबी जी कहती हैं मेरा चेहरा रोबिला है ( 1961 ) , जंग का मुजरा ( 1962 ) ।