हिंदी कविता (आधुनिक काल छायावाद तक)/पेशोला की प्रतिध्वनि

विकिपुस्तक से
Jump to navigation Jump to search
पेशोला की प्रतिध्ववनि
जयशंकर प्रसाद


१.
अरुण करुण बिम्ब!
वह निर्धूम भस्म रहित ज्वलन पिंड!
विकल विवर्तनों से
विरल प्रवर्तनों में ही
श्रमित नमित सा-
पश्चिम के व्योम में है आज निरवलम्ब सा .
आहुतियाँ विश्व की अजस्र से लुटाता रहा-
सतत सहस्त्र कर माला से-
तेज ओज बल जो व्दंयता कदम्ब-सा.

२.
पेशोला की उर्मियाँ हैं शांत,घनी छाया में-
तट तरु है चित्रित तरल चित्रसारी में.
झोपड़े खड़े हैं बने शिल्प से विषाद के-
दग्ध अवसाद से.
धूसर जलद खंड भटक पड़े हों-
जैसे विजन अनंत में.
कालिमा बिखरती है संध्या के कलंक सी,
दुन्दुभि-मृदंग-तूर्य शांत स्तब्ध,मौन हैं.
       
 ३.
फिर भी पुकार सी है गूँज रही व्योम में-
"कौन लेगा भार यह?
कौन विचलेगा नहीं?
दुर्बलता इस अस्थिमांस की-
ठोंक कर लोहे से,परख कर वज्र से,
प्रलयोल्का खंड के निकष पर कस कर 
चूर्ण अस्थि पुंज सा हँसेगा अट्टहास कौन?
साधना पिशाचों की बिखर चूर-चूर होके 
धूलि सी उड़ेगी किस दृप्त फूत्कार से?

  ४.
कौन लेगा भार यह?
जीवित है कौन?
साँस चलती है किसकी 
कहता है कौन ऊँची छाती कर,मैं हूँ-
मैं हूँ- मेवाड़ में,

अरावली श्रृंग-सा समुन्नत सिर किसका?
बोलो कोई बोलो-अरे क्या तुम सब मृत हों?

५.
आह,इस खेवा की!- 
कौन थमता है पतवार ऐसे अंधर में 
अंधकार-पारावार गहन नियति-सा- 
उमड़ रहा है ज्योति-रेखा-हीन क्षुब्ध हो!
खींच ले चला है-
काल-धीवर अनंत में,
साँस सिफरि सी अटकी है किसी आशा में.

६.
आज भी पेशोला के-
तरल जल मंडलों में,
वही शब्द घूमता सा-
गूँजता विकल है.
किन्तु वह ध्वनि कहाँ?
गौरव की काया पड़ी माया है प्रताप की 
वही मेवाड़!
किन्तु आज प्रतिध्वनि कहाँ है?"