हिंदी कविता (आधुनिक काल छायावाद तक)/वर दे

विकिपुस्तक से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ
वर दे
सूर्यकांत त्रिपाठी निराला

वर दे, वीणावादिनी वर दे!
प्रिय स्वतन्त्र-रव अमृत-मन्त्र नव

भारत में भर दे!

काट अन्ध-उर के बन्धन-स्तर
बहा जननि, ज्योतिर्मम निर्झर;
कलुष-भेद-तम हर प्रकाश भर

जगमग जग कर दे!

नव गति, नव लय, ताल-छन्द नव
नवल कण्ठ, नव जलद-मन्द्र रव;
नव नभ के नव बिहग-वृन्द को

नव पर, नव स्वर दे!