हिंदी भाषा का व्यावहारिक व्याकरण

विकिपुस्तक से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ

' हिंदी भाषा का व्यावहारिक व्याकरण पुस्तक हिंदी भाषा के व्याकरण का परिचय कराने का माध्यम है। यह प्राथमिक रूप से स्नातकों के लिए तैयार की गई है। यह मुख्य रूप से दिल्ली विश्वविद्यालय में पढ़ाए जाने वाले बी.ए. हिंदी प्रतिष्ठा तथा बी.ए. प्रोग्राम/विशेष (स्नातक (कार्यक्रम)) के पाठ्यक्रम पर आधारित है। अन्य विद्यार्थी, शोधार्थी एवं शिक्षक भी हिंदी व्याकरण से संबंधित ज्ञानवर्धन के लिए इसका प्रयोग कर सकते हैं।

विषय सूची[सम्पादन]

  1. इकाई १ भाषा और व्याकरण
    1. भाषा की परिभाषा एवं विशेषताएँ
    2. व्याकरण की परिभाषा, महत्व, भाषा और व्याकरण का अंतःसंबंध
    3. ध्वनि
    4. वर्ण
    5. मात्राएँ
  2. इकाई २ शब्द परिचय
    1. शब्दों के भेद – तत्सम, तद्भव, देशज, विदेशज (स्रोत के आधार पर)
    2. शब्दों की व्याकरणिक कोटियाँ
    3. संज्ञा
    4. सर्वनाम
    5. विशेषण
    6. क्रिया
    7. क्रिया विशेषण
    8. संबंधबोधक
    9. समुच्चयबोधक
    10. विस्मयादिबोधक
    11. शब्दगत अशुद्धियाँ
    12. उपसर्ग
    13. प्रत्यय
    14. शब्द और पद में अंतर
  3. इकाई ३ व्याकरण व्यवहार
    1. लिंग
    2. वचन
    3. कारक
    4. संधि
    5. समास
    6. मुहावरे
    7. लोकोक्तियाँ
    8. अपठित गद्य
  4. इकाई ४ वाक्य परिचय
    1. वाक्य के अंग-उद्देश्य और विधेय
    2. वाक्य के भेद (रचना के आधार पर)
    3. वाक्यगत अशुद्धियाँ
    4. विराम चिन्ह
  5. प्रश्नावली