आर्थिक भूगोल/लौह एवं इस्पात उद्योग

विकिपुस्तक से
Jump to navigation Jump to search
आर्थिक भूगोल
 ← औद्योगिक प्रदेश लौह एवं इस्पात उद्योग सूती वस्त्र उद्योग → 
दुर्गापुर इस्पात कारखाना

परिचय[सम्पादन]

इस अध्याय में हम लौह एवं इस्पात उद्योग के बारे में अध्ययन करेंगे।

बोकारो स्टील प्लांट का मुख्यद्वार

लौह इस्पात उद्योग को किसी देश के अर्थिक विकास की धुरी माना जाता है। यह एक आधारभूत उद्योग हैं क्योंकि इसके उत्पाद बहुत से उद्योगों के लिये आवश्यक कच्चे माल के रूप में प्रयुक्त होते हैं। भारत में इसका सबसे पहला बड़े पैमाने का कारख़ाना 1907 में झारखण्ड राज्य में सुवर्णरेखा नदी की घाटी में साकची नामक स्थान पर जमशेदजी टाटा द्वारा स्थापित किया गया गया था। स्वतंत्रता प्राप्ति के पश्चात् पंचवर्षीय योजनाओं के अन्तर्गत इस पर काफ़ी ध्यान दिया गया और वर्तमान में 7 कारखानों द्वारा लौह इस्पात का उत्पादन किया जा रहा है।[१] लोहा इस्पात अनेक छोटे-बड़े उद्योगों की आधारभूत सामग्री है। सूई से लेकर पोत निर्माण तक लोहा इस्पात उद्योग पर ही आश्रित है। किसी देश के औद्योगिक विकास का मापदंड वहां का लोहा इस्पात ही है। वास्तव में आज हम लोहा इस्पात युग में जी रहे हैं।लोहा एवं इस्पात आधुनिक सभ्यता के लिए वरदान ही नहीं बल्कि दैनिक जीवन की अनिवार्य वस्तु बन गया है। विश्व के कुल धातु उत्पादन का 90% से अधिक लोहा होता है और आर्थिक एवं तकनीकी विकास के साथ साथ इसका उत्पादन और इसकी मांग दिन प्रतिदिन बढ़ती ही जाती है। इसे आधुनिक अर्थव्यवस्था की रीढ़ की हड्डी कहा जाता है।
लोहा तथा इस्पात बनाने के लिए लौह अयस्क से लौहाशं को कोक, चारकोल, चूना पत्थर आदि मिलाकर भट्टी में प्रगलन के लिए झोंका जाता है। इसे अत्यधिक तापमान पर पिलाने के लिए गर्म हवा, ऑक्सीजन अथवा ट्रेन के तीव्र झोंको द्वारा भट्टियों में डाला जाता है। इन भट्टियों को झोंका भट्टी कहते हैं। [२]पिघला हुआ लोहा सांचे में डाल दिया जाता है यहां पर ठंडा होकर ठोस बन जाता है इसे कच्चा लोहा कहते हैं।

उद्योगों को प्रभावित करने वाले कारक[सम्पादन]

उद्योगों की अवस्थिति अनेक कारकों से प्रभावित होती है। इनमें कच्चे माल की उपलब्धि, ऊर्जा, बाज़ार, पूंजी, परिवहन, श्रमिक आदि प्रमुख हैं। इन कारकों का सापेक्षिक महत्त्व समय, स्थान, आवश्यकता, कच्चे माल और उद्योग के प्रकार के अनुसार बदलता है तथापि आर्थिक दृष्टि से विनिर्माण उद्योग वही स्थापित किये जाते हैं, जहाँ उत्पादन लागत तथा निर्मित वस्तुओं को उपभोक्ताओं तक पहुँचाने की लागत सबसे कम हो। परिवहन लागत, काफी हद तक कच्चे माल और निर्मित वस्तुओं के स्वरूप पर निर्भर करती है। भौगोलिक कारकों के अतिरिक्त ऐतिहासिक, राजनैतिक तथा आर्थिक तत्त्व भी उद्योगों के स्थानीयकरण को प्रभावित करते हैं। कई बार ये तत्त्व भौगोलिक कारकों से अधिक प्रभावशाली होते हैं। उद्योगों को प्रभावित करने वाले कारकों को दो भागों में बाँटा जा सकता है।
भौगोलिक कारक- इसके अंतर्गत निम्नलिखित तत्त्वों को शामिल किया जाता है-

कच्चा माल[सम्पादन]

उद्योग सामान्यतः वहीं स्थापित किये जाते हैं जहाँ कच्चे माल की उपलब्धता होती है। जिन उद्योगों में निर्मित वस्तुओं का भार, कच्चे माल की तुलना में कम होता है, उन उद्योगों को कच्चे माल के निकट ही स्थापित करना होता है। जैसे- चीनी उद्योग। गन्ना भारी कच्चा माल है जिसे अधिक दूरी तक ले जाने से परिवहन की लागत बहुत बढ़ जाती है और चीनी के उत्पादन मूल्य में वृद्धि हो जाती है।
लोहा और इस्पात उद्योग में उपयोग में आने वाले लौह-अयस्क और कोयला दोनों ही वज़न ह्यस और लगभग समान भार के होते हैं। अतः अनुकूलनतम स्थिति कच्चा माल व स्रोतों के मध्य होगी जैसे जमशेदपुर।

शक्ति (ऊर्जा)[सम्पादन]

उद्योगों में मशीन चलाने के लिये शक्ति की आवश्यकता होती है। शक्ति के प्रमुख स्रोत- कोयला, पेट्रोलियम, जल-विद्युत, प्राकृतिक गैस तथा परमाणु ऊर्जा है। लौह-इस्पात उद्योग कोयले पर निर्भर करता है, इसलिये यह उद्योग खानों के आस-पास स्थापित किया जाता है। छत्तीसगढ़ का कोरबा तथा उत्तर प्रदेश का रेनूकूट एल्युमीनियम उद्योग विद्युत शक्ति की उपलब्धता के कारण ही स्थापित हुए हैं।

श्रम[सम्पादन]

स्वचालित मशीनों तथा कंप्यूटर युग में भी मानव श्रम के महत्त्व को प्रतिस्थापित नहीं किया जा सकता। अतः सस्ते व कुशल श्रम की उपलब्धता औद्योगिक विकास का मुख्य कारक है।
जैसे- फिरोजाबाद में शीशा उद्योग, लुधियाना में होजरी तथा जालंधर व मेरठ में खेलों का सामान बनाने का उद्योग मुख्यतः सस्ते कुशल श्रम पर ही निर्भर है।

परिवहन एवं संचार[सम्पादन]

कच्चे माल को उद्योग केंद्र तक लाने तथा निर्मित माल की खपत के क्षेत्रों तक ले जाने के लिये सस्ते एवं कुशल यातायात की प्रचुर मात्रा में होना अनिवार्य है। मुम्बई, चेन्नई, दिल्ली जैसे महानगरों में औद्योगिक विकास मुख्यतः यातायात के साधनों के कारण ही हुआ है।

बाज़ार[सम्पादन]

औद्योगिक विकास में सबसे महत्त्वपूर्ण भूमिका तैयार माल की खपत के लिये बाज़ार की है।

सस्ती भूमि और जलापूर्ति[सम्पादन]

उद्योगों की स्थापना के लिये सस्ती भूमि का होना भी आवश्यक है। दिल्ली में भूमि का अधिक मूल्य होने के कारण ही इसके उपनगरों में सस्ती भूमि पर उद्योगों ने द्रुत गति से विकास किया है।

उपर्युक्त भौगोलिक कारकों के अतिरिक्त पूंजी, सरकार की औद्योगिक नीति, औद्योगिक जड़त्व, बैंकिग तथा बीमा आदि की सुविधा ऐसे गैर-भौगोलिक कारक हैं जो किसी स्थान विशेष में उद्योगों की स्थापना को प्रभावित करते हैं।

वितरण एवं व्यापार[सम्पादन]

लौह और इस्पात उद्योग की वृद्धि और विकास वैश्विक अर्थव्यवस्था का प्रतिबिंब है। लोहा और इस्पात उद्योग अपने विकास और उत्पादन पैटर्न में एक बदलती प्रकृति को दर्शाता है।

Bethlehem Steel.jpg

के मध्य में अमेरिका, पश्चिमी यूरोप और जापान के अपेक्षाकृत विकसित देशों ने दुनिया के इस्पात उत्पादन का लगभग दो-तिहाई हिस्सा उत्पादन किया। लेकिन धीरे-धीरे स्थानिक पैटर्न बदल गया और अब यह उत्पादन का हिस्सा विकासशील क्षेत्रों में स्थानांतरित हो गया है। [३]पिछली सदी के अंत तक, चीन, दक्षिण कोरिया, ब्राजील और भारत जैसे देशों में इस्पात उत्पादन में वृद्धि ने दुनिया में इस्पात उत्पादन के पूरे ढांचे को बदल दिया है।

अब दुनिया में लोहे और स्टील के मुख्य उत्पादक चीन, जापान, अमेरिका, रूस, जर्मनी, दक्षिण कोरिया, ब्राजील, यूक्रेन, भारत, फ्रांस, इटली और ग्रेट ब्रिटेन हैं। अन्य इस्पात उत्पादक देश दक्षिण अफ्रीका, ऑस्ट्रेलिया, ऑस्ट्रिया, नीदरलैंड, चेक गणराज्य, रोमानिया, स्पेन, बेल्जियम, स्वीडन, आदि हैं।दुनिया के प्रमुख देशों में लोहा और इस्पात उद्योग का स्थानिक वितरण पैटर्न इस प्रकार है:-

देशों के नाम कच्चा लोहा कच्चा इस्पात
चीन 131.23 128.5
जापान 80.5 105.4
संयुक्त राष्ट्र अमेरिका 47.9 102.0
रूस 43.3 55.6
जर्मनी 27.3 41.7
दक्षिण कोरिया 24.8 43.4
ब्राजील 27.7 27.8
यूक्रेन 25.7 31.7
भारत 21.3 26.9

यह इस तालिका से स्पष्ट हो जाता है कि चीन दुनिया में लोहे और इस्पात का प्रमुख उत्पादक है, जिसका उत्पादन कच्चा लोहा का लगभग 23.9% और दुनिया के उत्पादन का 17% कच्चा इस्पात का है।जापान 14.7% कच्चा लोहा और 13.9% कच्चा इस्पात उत्पादन के साथ दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा उत्पादक है।

संयुक्त राज्य अमेरिका उत्पादन में पहले प्रथम स्थान पर था परन्तु अब अमेरिका रूस के बाद दुनिया में तीसरे स्थान पर है। भारत की स्थिति लौह और इस्पात उत्पादन में 9 वें स्थान पर है।क्रमशः 3.9 और 3.6% कच्चा लोहा और कच्चे इस्पात का उत्पादन होता है।

सन २००७ में इस्पात का वैश्विक उत्पादन

[४]

इस्पात निर्यातक देश (2018)
# देश निर्यात (दस लाख मिट्रिक टन में)
1 Flag of the People's Republic of China.svg चीन 68,8
2 Flag of Japan.svg जापान 35,8
3 Flag of Russia.svg रूस 33,3
4 Flag of South Korea (bordered).svg दक्षिण कोरिया 30,0
5 Flag of Germany.svg जर्मनी 26,0
6 Flag of Italy.svg इटली 20,6
7 Flag of Turkey.svg तुर्की 19,2
8 Flag of Belgium.svg बेल्जियम 18,0
9 Flag of Ukraine.svg युक्रेन 15,1
10 Flag of France.svg फ़्रांस 14,4

चीन[सम्पादन]

चीन में लोहे के फैब्रिकेटर की सबसे पुरानी प्रणाली है, जैसा कि इसके ऐतिहासिक रिकॉर्ड से स्पष्ट होता है।1953 में उनकी पंचवर्षीय योजना को अपनाने से पहले तक, चीन के पास आधुनिक प्रकार का लोहा और इस्पात निर्माण नहीं था। चीन ने लोहे और इस्पात उद्योग का विकास किया है और अब यह दुनिया में लोहे और इस्पात का सबसे अधिक उत्पादन करने वाला देश है।1973 के बाद से, चीन में इस्पात उत्पादन में वृद्धि हुई है और 15 वर्षों के भीतर चीन कच्चे इस्पात के उत्पादन को 217 % तक बढ़ाने में सक्षम रहा था।उस अवधि के खपत में 300 % की वृद्धि हुई हैं। यह वृद्धि दर स्पष्ट रूप से औद्योगीकरण की तेज गति को प्रकट करती है जो अभी चीन में चल रही है।लोहा और इस्पात उद्योग अनशन, वुहान और पाओटो त्रिकोण में केंद्रित है। जापानी द्वारा मैनचुरिया के अनशन में चीनी मुख्य भूमि में सबसे बड़ी लोहे और इस्पात की फैक्ट्री स्थापित की गई थी, लेकिन रूसी मदद से चीनियों द्वारा बहुत विस्तार किया गया। मंचूरिया में अन्य लौह और इस्पात उत्पादन केंद्र फ़ुषुन, पेनकी, शेनयांग, हार्फिन और किरिन हैं।वुहान स्टील प्लांट अभी विस्तार की प्रक्रिया में है। अन्य कम व्यापक एवं नए स्टील प्लांट टायर्सिन, तांगशान, नानकिंग, शंघाई, आदि में बनाए जा रहे हैं। चीन के महत्वपूर्ण लौह एवं इस्पात उद्योग के क्षेत्र निम्नलिखित हैं ‌:-

  1. दक्षिणी मंचूरिया,अनशन में चीन का सबसे बड़ा स्टील प्लांट है एवं पेंसिहु,मुक्डन में अन्य संयंत्र हैं।
  2. शांसी लोहे और इस्पात उत्पादन का पुराना क्षेत्र है। इस क्षेत्र में ताइयुआन को एक प्रमुख इस्पात केंद्र के रूप में विकसित किया गया है।
  3. निचली यांग्त्ज़ी घाटी:- इस क्षेत्र में हैंकोव, शंघाई, हयांग और चुंगकिंग लोहा एवं इस्पात उद्योग के मुख्य केंद्र हैं।
  4. अन्य केंद्र पाओटो, चिनलिंग चेन, कैंटन, सिंगताओ और हुआंगसिह में स्थित हैं।

चीन में लोहे और इस्पात उद्योग का विकास शानदार रहा है। 1973 के बाद से, चीन ने स्टील के उत्पादन में 220 प्रतिशत की वृद्धि की है, हालाँकि स्टील की खपत में भी 300 प्रतिशत से अधिक की वृद्धि हुई है।

जापान[सम्पादन]

कच्चे माल (लोहा और कोयला) की कमी के बावजूद, जापान दुनिया के प्रमुख इस्पात उत्पादकों में से एक बन गया है। चीन के बाद जापान दुनिया में कच्चा लोहा और कच्चा इस्पात का दूसरा सबसे बड़ा उत्पादक है।पहला स्टील प्लांट यावता जो कि 1901 में सरकार द्वारा बनाया गया था। जापान की लगभग पाँचवीं इस्पात क्षमता का एक बड़ा केंद्र यवता भारी उद्योग है। होन्शू में कामिशी एवं होक्काइडो में मुरोरन छोटे टीडवाटर सम्बंधित उद्योग हैं। यह क्षेत्रीय खनिज संसाधनों और उन कारखाने से सीधे जुड़े हुए, जिसमें बड़े पैमाने के कारखाने की संख्या केवल कामिशी, कोसाका, ओसारिजावा, हस्सी, होसोकुरा (मियागी) और फुजाइन (इवाते) में है। जापान की आधी से अधिक इस्पात क्षमता दक्षिण मध्य होन्शू के प्रमुख बंदरगाह शहरों के आसपास हीमीजी, कोबे-ओसाका और टोक्यो-याकोहामा क्षेत्रों के पास केंद्रित है। जापान के प्रमुख लौह एवं इस्पात उद्योग के क्षेत्र निम्नलिखित हैं:-

टोक्यो-याकोहामा क्षेत्र[सम्पादन]

इसमें लौह-इस्पात उद्योग के विकास के लिए आवश्यक सभी सुविधाएं उपलब्ध हैं। टोक्यो खाड़ी के पुनर्ग्रहण ने इस्पात निर्माण इकाइयों के लिए बड़ी, व्यापक भूमि प्रदान की है। टोक्यो-चीन क्षेत्र इस क्षेत्र का सबसे मुख्य क्षेत्र है जिसमें हिटाची और उत्तरी टोक्यो में इस्पात औद्योगिक इकाइयाँ विकसित की गई हैं।

नागोया क्षेत्र[सम्पादन]

यह जापानी इस्पात उत्पादन में लगभग 20 प्रतिशत का योगदान देता है। इस क्षेत्र ने 1950-60 की अवधि के दौरान उद्योगों का भारी विकास देखा था।

ओसाका-कोबे क्षेत्र[सम्पादन]

ओसाका खाड़ी के सिर पर, एक अत्यधिक महत्वपूर्ण औद्योगिक क्षेत्र विकसित हुआ है जिसे किंकी के नाम से जानते हैं। ओसाका बंदरगाह इसका मुख्य केंद्र है।इस क्षेत्र के अन्य केंद्र अमागास्की, कोबे, हेमेगी, सकाई और वाकायमा हैं।

फुकुओका-यामागुची क्षेत्र[सम्पादन]

यह क्यूशू के भीतर जापान के चरम दक्षिण में और होन्शू के पश्चिमी छोर पर स्थित है। पहला सरकारी स्टील प्लांट 1901 में यवाता में स्थापित किया गया था। किता-क्यूशू इस क्षेत्र का एक और उल्लेखनीय लोहा और इस्पात केंद्र है।

होक्काइडो क्षेत्र[सम्पादन]

इस क्षेत्र का मुख्य केंद्र मुर्रन है।स्थानीय कोयले और लौह अयस्क के आधार पर यहां एक बड़े आकार के लोहे और इस्पात उद्योग का विकास हुआ है।जापान के इस्पात संयंत्रों के स्थानीयता में सबसे खास बात यह है कि वे या तो खाड़ी तट पर स्थित हैं या कुछ नहर या नदी पर। यह इस तथ्य के कारण है कि अधिकांश जापानी इस्पात संयंत्र कच्चे माल के लिए बाहर के देशों पर निर्भर रहते हैं। एक और विशेषता यह है कि वे महान औद्योगिक जिलों के बीच में स्थित हैं जो तैयार स्टील के लिए बाजार प्रदान करते हैं। वास्तव में, जापान में लोहे और इस्पात उद्योग का स्थानीयकरण बाजार उन्मुख है।

संयुक्त राज्य अमेरिका क्षेत्र[सम्पादन]

एक समय संयुक्त राज्य अमेरिका लोहे और इस्पात का सबसे अधिक उत्पादन करने वाला देश था, लेकिन अब चीन और जापान के बाद इसकी स्थान दुनिया में तीसरे स्थान पर है। 1629 में अमेरिका में मैसाचुसेट्स में पहले लोहे एवं इस्पात संयंत्र को स्थापित किया गया था। पिछले 380 वर्षों के दौरान यह अमेरिकी इस्पात उद्योग कई परिवर्तनों से गुजरा है। यह परिवर्तन केवल विकास और उत्पादन संरचना में ही नहीं बल्कि स्थानीयकरण संरचना में भी हुआ है। संयुक्त राज्य अमेरिका में प्रमुख लोहा और इस्पात क्षेत्र इस प्रकार हैं:-

अपलाशियन या पिट्सबर्ग क्षेत्र[सम्पादन]

सभी क्षेत्रों में सबसे महत्वपूर्ण पश्चिमी पेंसिल्वेनिया और पूर्वी ओहियो का उत्तरी अपलाचियन क्षेत्र है।इस जिले में देश की ब्लास्ट फर्नेस क्षमता का लगभग 42.5 प्रतिशत है और इसका केंद्र पिट्सबर्ग दुनिया में इस्पात उद्योग का दूसरा सबसे बड़ा केंद्र है। इस क्षेत्र की मिलें ओहायो नदी की मुख्य जलधाराओं की संकीर्ण घाटियों में लगभग विशेष रूप से स्थित हैं। यह क्षेत्र जिसे अक्सर पिट्सबर्ग-यंगस्टाउन क्षेत्र के रूप में जाना जाता है, इसमें कई जिले शामिल हैं। पिट्सबर्ग जिले में 60 किलोमीटर के पिट्सबर्ग के भीतर ओहियो, मोनोंघेला और एलेघेनी की घाटियों में स्थित कई उद्योग हैं।यंगस्टाउन या लेइ घाटी ’जिले में शेनयांगो और महोनिंग नदियों की घाटियों में उद्योग शामिल हैं। व्हीलिंग, जॉन्सटाउन, स्टेनहिलविले और बेवर फॉल्स अन्य महत्वपूर्ण इस्पात उत्पादक केंद्र हैं।

झील क्षेत्र[सम्पादन]

झील क्षेत्र में क्षेत्र आता है:-

  1. झील एरी बंदरगाहों, डेट्रोइट, क्लीवलैंड और भैंस, आदि।
  2. झील मिशिगन, शिकागो-गैरी या कैलुमेंट जिले के प्रमुख के पास के केंद्र,
  3. झील सुपीरियर क्षेत्र, दुलुथ।

ये जिले उद्योग, कोयला, लोहा और बाजार के स्थानीयकरण में तीन कारकों के लिए कुछ अलग समायोजन का प्रतिनिधित्व करते हैं। एरी झील के तट एपलाचियन कोयले के करीब है, लेकिन दुलुथ क्षेत्र की तुलना में लौह अयस्क से बहुत दूर है। मिशिगन क्षेत्र दोनों के बीच में है। एक महत्वपूर्ण लाभ जो इन सभी जिलों को पिट्सबर्ग क्षेत्र में मिलता है।दूसरी ओर, ये केंद्र बाजार से थोड़ी दूर पर स्थित हैं। उदाहरण के लिए, डुलुथ के पास अपने तत्काल वनभूमि, जंगल, खेत हैं, जिसमें लोहे और स्टील के सामान की बहुत कम मांग है।डेट्रायट संयुक्त राज्य अमेरिका में सबसे बड़ा इस्पात खपत केंद्र है, खासकर अपने ऑटोमोबाइल उद्योग के कारण।

अटलांटिक सीबोर्ड क्षेत्र[सम्पादन]

अटलांटिक सीबोर्ड पर, यह केवल मध्य अटलांटिक क्षेत्र (न्यूयॉर्क, फिलाडेल्फिया और बाल्टीमोर, आदि) है जो महत्वपूर्ण है। इस क्षेत्र का मुख्य लाभ यह है कि दोनों को टिडवाटर के नजदीक होने से संबंधित कुछ फायदा होता है, और पूर्व के बड़े औद्योगिक केंद्रों से निकटता होने से इन्हें और भी अधिक फायदा होता है।
अटलांटिक सीबोर्ड के महान विनिर्माण क्षेत्र, घनी आबादी के क्षेत्र और उत्तरी अमेरिका में सबसे गहन औद्योगिक विकास के केंद्र के पास इसका स्थान सबसे उल्लेखनीय है।
मध्य अटलांटिक क्षेत्र एकमात्र प्रमुख क्षेत्र है जिसमें इस अत्यधिक औद्योगिक क्षेत्र में उपलब्ध स्क्रैप की अपेक्षाकृत बड़ी मात्रा के कारण कच्चा लोहा और स्टील का उत्पादन उल्लेखनीय रूप से अनुपात में अधिक होता है।इस क्षेत्र में कई स्टील मिलें हैं जो ब्लास्ट फर्नेस के बिना काम करती हैं, जो अन्य क्षेत्रों, विशेष रूप से उत्तरी अपलाचियन क्षेत्र से आयातित स्क्रैप और कच्चा लोहा दोनों पर निर्भर करती है।

दक्षिण अप्पलाचियन[सम्पादन]

दक्षिणी अपलाचियन के अलबामा में,उत्तरी अमेरिका में कहीं और की तुलना में कच्चे माल बड़ी मात्रा में पाए जाते हैं जबकि अयस्क निम्न श्रेणी का होता है और उसे शाफ्ट खनन की आवश्यकता होती है। चट्टान का अधिकांश भाग चूना है और अयस्क स्व-प्रवाहित होता है। इस क्षेत्र में बड़े औद्योगिक केंद्रों की कमी है। पड़ोस में काफी मात्रा में अधिशेष कच्चा लोहा है जो उत्तर में जाता है।

पश्चिमी क्षेत्र[सम्पादन]

यह क्षेत्र आंतरिक रूप से कोलोराडो से लेकर पश्चिम में कैलिफोर्निया तक फैला हुआ है। संयुक्त राज्य अमेरिका में इस्पात क्षेत्रों के बीच,यह एक नया क्षेत्र है। पहला स्टील मिल,1882 में प्यूब्लो में स्थापित किया गया था।बाद में कैलिफोर्निया के फोंटाना और यूटा और प्रोवो में स्टील उद्योग विकसित किए गए। इन कारखानों के लिए, लौह अयस्क को वायोमिंग और कोलोराडो से कोयला प्राप्त किया जाता है।

रूस-यूक्रेन[सम्पादन]

1991 में विघटन से पहले, USSR दुनिया का प्रमुख इस्पात उत्पादक देश था। अब रूस और यूक्रेन भी दुनिया के महत्वपूर्ण लोहा और इस्पात उत्पादक हैं।रूस कच्चा लोहा एवं कच्चा इस्पात के उत्पादन में 4 वें स्थान पर है, जबकि यूक्रेन विश्व में 8 वें स्थान पर है।क्रांति के बाद की अवधि में, सोवियत इस्पात उद्योग ने विस्तार हासिल किया था। द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान, सोवियत लोहा और इस्पात उद्योग बुरी तरह प्रभावित हुआ था। अधिकांश बड़े उत्पादन केंद्र या तो नष्ट हो गए या क्षतिग्रस्त हो गए। परन्तु सोवियत देश बहुत जल्द ही ठीक हो गया और 1975 तक दुनिया में लोहे और इस्पात का सबसे बड़ा उत्पादक बन गया। इस क्षेत्र के चार महत्वपूर्ण लोहा एवं इस्पात उत्पादक के क्षेत्र निम्नलिखित है।

यूराल क्षेत्र[सम्पादन]

यह यूराल के दोनों किनारों पर स्थित है। इस क्षेत्र के प्रमुख इस्पात केंद्र हैं - मैग्नीटोगोर्स्क, चेल्याबिंक, निज़नीटागिल, सेवरडलोव्स्क, सेरोव, पेर्म, ओर्स्क, आदि हैं। मैगनिटोगोरस रूस का सबसे बड़ा इस्पात-उत्पादक केंद्र है।

कुज़नेत्स्क या कुज़बास क्षेत्र[सम्पादन]

यह अलाई पर्वत के उत्तर में और टॉम्स्क के दक्षिण में स्थित है। यह इस्पात क्षेत्र कोयला पर आधारित है। लौह अयस्क की आपूर्ति यूराल क्षेत्र से होती है। नोवोकुज़नेट्स इस क्षेत्र का प्रमुख इस्पात उत्पादक केंद्र है।

मॉस्को क्षेत्र[सम्पादन]

इस क्षेत्र में लोहे एवं इस्पात के महत्वपूर्ण केंद्र तुला, लिपेत्स्क, चेरेपोवेट्सक और गोर्की हैं।

अन्य क्षेत्र[सम्पादन]

अन्य क्षेत्रों में विभिन्न भागों को अलग-थलग और विकसित किया जाता है। ये बाइकाल, सेंट पीटर्सबर्ग, लोअर आमेर घाटी और प्रशांत तटीय क्षेत्र हैं।

यूक्रेन[सम्पादन]

यूक्रेन एक स्वतंत्र देश है और विश्व में लौह एवं इस्पात के उत्पादन में 8 वां स्थान है। इस क्षेत्र में सभी कच्चे माल जैसे- लौह अयस्क, कोयला, चूना पत्थर, मैंगनीज आदि इस्पात उत्पादन के लिए उपलब्ध हैं।रेलवे और सस्ते जल परिवहन का एक सघन नेटवर्क लौह एवं इस्पात उद्योग के विकास को सुविधाजनक बनाता है। लोहा एंव इस्पात उद्योग के मुख्य केंद्र क्रिवोएरोग, केर्च, ज़्डानोव, टैगररोग, ज़ापोरोज़े, पिट्सबर्ग, डेन्प्रोपेत्रोव्स्क आदि क्षेत्र हैं। स्वतंत्र देशों के अन्य उल्लेखनीय इस्पात उत्पादक केंद्र हैं, जैसे- उजबेकिस्तान में तबीसी, ताशकंद और बोगोवत और कजाकिस्तान में तामीर तान आदि।

जर्मनी[सम्पादन]

प्रथम विश्व युद्ध से पहले,जर्मनी दुनिया में दूसरा सबसे बड़ा लोहा एवं इस्पात उत्पादक था। यह दुनिया में स्टील के सामान का सबसे बड़ा निर्यातक था।जर्मन लोहे और इस्पात उद्योग को 1914 के युद्ध के बाद से अयस्क, कोयला और उत्पादक क्षमता में नुकसान हो गया। उसके बाद से यह उद्योग धीमी हो गई। हालाँकि, जर्मनी ने कुछ ही वर्षों में अपने उद्योग में सुधार किया, और अपने घटते संसाधनों के बावजूद भी उसने 1939 में इस्पात के 1913 से अधिक उत्पादन किया।जर्मनी के विभाजन का मुख्य कारण लोहे एवं इस्पात उत्पादन के मामले में कम उत्पादन की स्थिति थी।लेकिन 1990 में पूर्वी और पश्चिमी जर्मनी के फिर से एकीकरण के बाद, जर्मनी देश अब दुनिया में अग्रणी इस्पात उत्पादक देशों में से एक है और 27.3 करोड़ टन कच्चा लोहा एवं 41.7 करोड़ टन कच्चा इस्पात के वार्षिक उत्पादन के साथ दुनिया में 5 वें स्थान पर है।जर्मनी में लौह एवं इस्पात उद्योग का सबसे महत्वपूर्ण केंद्र रनीश-वेस्टफेलिया है, जो जर्मनी में उत्पादित स्टील का 80 प्रतिशत से अधिक और 85 प्रतिशत कच्चा लोहा के उत्पादन में योगदान करता है।अन्य महत्त्वपूर्ण क्षेत्रों में सिगेरलैंड, हेसन-नासाउ, उत्तरी और मध्य जर्मनी, सैक्सोनी तथा दक्षिण जर्मनी हैं। इस क्षेत्र का सबसे बड़ा केंद्र एसेन है जो कि रूहर घाटी में स्थित है और यहां विश्व प्रसिद्ध कृतियाँ कुरूप्प भी स्थित हैं।

दक्षिणी कोरिया[सम्पादन]

दक्षिण कोरिया लौह एवं इस्पात उत्पादन में दुनिया का 6 वां अग्रणी देश है। यह चीन और जापान के बाद तीसरा एशियाई देश है जो इस्पात का उच्च-श्रेणी का उत्पादन करता है। इसका वार्षिक उत्पादन 24.8 करोड़ टन कच्चा लोहा और 43.4 करोड़ टन कच्चा इस्पात है।

ब्राजील[सम्पादन]

विश्व में लौह एवं इस्पात उत्पादन में ब्राज़ील 7 वाँ स्थान वाला देश है। इसका वार्षिक उत्पादन 27.7 करोड़ टन कच्चा लोहा और 27.8 करोड़ टन स्टील है। ब्राजील में स्टील के उत्पादन का विकास अच्छा रहा है। 1973 के बाद से स्टील के उत्पादन में 300 प्रतिशत से अधिक की वृद्धि हुई है। [५] इस देश के भीतर स्टील की खपत बहुत कम है।इसलिए, ब्राजील अपने इस्पात उत्पादन के थोक को निर्यात करने में सक्षम है।स्टील उद्योग के अधिकांश भाग साओ-पाउलो और कुरूम्बा के आसपास स्थित हैं।ब्राजील में लौह अयस्क भारी मात्रा में उपलब्ध है। इन लौह अयस्कों का सबसे बड़ा क्षेत्र मिनस-गर्रेस के पास स्थित है। एक अन्य बड़ी इस्पात उद्योग सांता कैटरीना में स्थित है। यहां अधिकांश कारखाने जल विद्युत संयंत्रों से ऊर्जा प्राप्त करती हैं।

भारत[सम्पादन]

भारत के पास लौह और इस्पात के उपयोग का एक लंबा इतिहास है।

State wise Steel Production India, 2019.jpg

हालाँकि, यह 20 वीं शताब्दी पहले दशक के बाद ही शुरू हुआ था जब एक आधुनिक उद्योग के रूप में लोहे और इस्पात का निर्माण इस देश में शुरू हुआ था।1911 में भारत का पहला लौह और इस्पात संयंत्र की स्थापना की गई। जिसका नाम टाटा आयरन एंड स्टील कंपनी लिमिटेड (TISCO) रखा गया जो बिहार के जमशेदपुर में एक निजी फर्म के निजी सहयोग से स्थापना की गई थी।लगभग साढ़े तीन दशक बाद ब्रिटिश भागीदारी के साथ पश्चिमबंगाल के बर्नपुर में एक और उद्योग स्थापित किया गया था, जिसका नाम इंडियन आयरन एंड स्टील कंपनी लिमिटेड (IISCO) था। पंचवर्षीय योजनाओं (1951) के प्रारंभ में जमशेदपुर, आसनसोल और भद्रावती में तीन इस्पात संयंत्र थे।

संयंत्रों की क्षमता भी बढ़ाई गई थी और दुर्गापुर, राउरकेला, भिलाई, बोकारो, विशाखापत्तनम, सलेम के सार्वजनिक क्षेत्र में छह एकीकृत संयंत्र स्थापित किए गए थे। इनके अलावा बढ़ती आंतरिक मांग को पूरा करने के लिए 140 से अधिक मिनी इस्पात उद्योग भी स्थापित किए गए हैं। भारत में दुनिया का सबसे बड़ा लौह अयस्क भंडार है और कोयला भी है, इसलिए, लौह और इस्पात उद्योग के आगे बढ़ने की बहुत अच्छी संभावनाएं हैं।

फ्रासं[सम्पादन]

1973 तक, फ्रांस दुनिया में स्टील का 6 वां सबसे बड़ा उत्पादक था लेकिन अब इसकी स्थिति 10 वीं है। फ्रांस पश्चिम यूरोप का सबसे बड़ा लौह अयस्क उत्पादक देश है, लेकिन यहां कोयले की कमी है। फ्रांस में, लोहा और इस्पात उत्पादन के लिए दो क्षेत्र उल्लेखनीय हैं।

  1. लोरेन,
  2. समब्र-म्युज़

सार बेसिन में स्टील उद्योग को स्थानीय कोयला भंडार और लोरेन से लौह अयस्क मिलती है।

संबंधित प्रश्न[सम्पादन]

  1. छोटा नागपुर पठार में और उसके आस-पास के क्षेत्र में इस्पात उद्योग के संकेन्द्रित होने के किन्हीं चार कारकों का वर्णन कीजिए।
  2. अफ्रीका में अपरिमित प्राकृतिक संसाधन है फिर भी औद्योगिक दृष्टि से यह बहुत पिछड़ा महाद्वीप है। समीक्षा कीजिए।
  3. भारत में किसी उद्योग की अवस्थिति को प्रभावित करने वाले प्रमुख औद्योगिक कारकों के बारे में बताएं।
  4. लौह एवं इस्पात उद्योग के उत्पादन में किस देश का योगदान सबसे अधिक है।
  5. उद्योग को प्रभावित करने वाले कारकों के नाम बताएं।

सन्दर्भ[सम्पादन]

  1. Cheng Leong Goh; Gillian Clare Morgan (1982). Human and Economic Geography. Oxford University Press. आइएसबीएन 978-0-19-582816-0.
  2. K. Bugayev; E. Tretyakov (2001). Iron and Steel Production. The Minerva Group, Inc. आइएसबीएन 978-0-89499-109-7.
  3. H. M. Saxena (2013). Economic Geography. Rawat Publications. आइएसबीएन 978-81-316-0556-1.
  4. D R Khullar. Geography Textbook-Hindi. New Saraswati House India Pvt Ltd. आइएसबीएन 978-93-5041-244-2.
  5. AHINDRA GHOSH; AMIT CHATTERJEE (29 February 2008). IRON MAKING AND STEELMAKING: THEORY AND PRACTICE. PHI Learning Pvt. Ltd. आइएसबीएन 978-81-203-3289-8.