भाषा विज्ञान और हिंदी भाषा/पूर्वी हिन्दी की बोलियाँ और भाषागत विशेषताएँ

विकिपुस्तक से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ


पूर्वी हिन्दी की बोलियाँ और भाषागत विशेषताएँ[सम्पादन]

पूर्वी हिन्दी:- पूर्वी हिन्दी का वही क्षेत्र है जो प्राचीन काल में उत्तर कोसल और दक्षिण कोसल था। यह क्षेत्र उत्तर से दक्षिण तक दूर-दूर तक चला गया है। इसके अन्तर्गत उत्तर प्रदेश में अवधी और मध्य प्रदेश में बघेली तथा छत्तीसगढी़ का सारा क्षेत्र आता है; अर्थात् कानपुर से मिर्जापुर तक (लगभग 240 कि०मि०) और लखीमपुर की उत्तरी सीमा से दुर्ग, बस्तर की सीमा तक (लगभग 900 कि०मी०) के क्षेत्र में पूर्वी हिन्दी बोली जाती है। बोलने वालों की संख्या पाँच करोड़ के लगभग है। अवधी में भरपूर साहित्य मिलता है। मंझन, जायसी, उस्मान, नुरमुहम्मद आदि सूफी़ कवियों का काव्य ठेठ अवधी में और तुलसी, मानदास, बाबा रामचरण दास, महाराज रघुराज सिंह आदि का रामकाव्य साहित्यिक अवधी में लिखा गया है। इस वर्ग की तीन बोलियाँ हैं- अवधी, बघेली और छत्तीसगढी़। सामान्यता की दृष्टि से जितना घनिष्ठ संबंध इनमें है, उतना हिन्दी के अन्य उपभाषाओं में नहीं है।

अवधी[सम्पादन]

अयोध्या नाम का एक बहुत प्राचीन राज्य था। अयोध्या से औध और औध से अवध नाम पड़ा। अवध की बोली अवधी है। अवध प्रान्त के अन्तर्गत लखीमपुर खीरी, बहराइच, गोंडा, बाराबंकी, लखनऊ, सीतापुर, उन्नाव, फै़जाबाद, सुलतानपुर, रायबरेली और हरदोई के जिले हैं। इनमें हरदोई जिले में अवधी नहीं बोली जाती। अवध के बाहर इलाहाबाद, फतहपुर, और जौनपुर तथा मिर्जापुर (पश्चिमी भाग) की बोली भी अवधी है। अवधी बोलने वालों की संख्या दो करोड़ से कुछ अधिक है। इसमें जायसी, उसमान, आदि सूफी़ कवियों और तुलसी, बाबा रामचरण दास, महाराज रघुराज सिंह आदि रामकवियों का प्रचुर साहित्य मिलता है। वर्तमान काल में रेडियों के माध्यम से बहुत से साहित्यकार सामने आये हैं।

अवधी भाषा की विशेषताएँ:-

  1. अ, इ, उ के हस्व और अतिहस्व दो-दो रूप मिलते हैं।'अ' किसी शब्द के अन्त में नहीं आता। हस्व ए , ओ, पाये जाते हैं। ऐ, औ सामान्य हिन्दी के कारण आ रहे हैं सामान्य अवधी में नहीं हैं।
  2. इसमें ण ध्वनि के स्थान पर न का प्रयोग होता है।
  3. इसमें ड, ढ, शब्द शुरू में आते हैं, मध्य और अन्त में नहीं जबकि ड़ और ढ़ शब्द अन्त में आते है।
  4. इसमें 'ल' के स्थान पर ' र ' का प्रयोग मिलता है। जैसे- अंजुरी, मूसर, फर, हर आदि।
  5. इसमें महाप्राण ध्वनियाँ के रूप में ख, छ, ठ, थ, फ, के स्थान पर घ, झ, ढ, ध, भ का प्रयोग होता है।
  6. इसमें संज्ञा के तीन रूप होते है; जैसे- घोरा, घोरवा, घोरउवा ।
  7. इसमें सर्वनाम जे- के लिए जउन, जेकर, जिनकर , से के लिए तउन, तेकर, तिनकर तथा को के लिए कउन, केका, किनकर आदि का प्रयोग होता है।
  8. इसमें आकारान्त विशेषण बहुत कम है; जैसे- अच्छा, कुँआरा। ऐसे विशेषणों का रूप बहुवचन में एकारान्त और स्त्रीलिंग में ईकारान्त हो जाता है; जैसे- अच्छे, अच्छी, कुआँरे, कुआँरी।
  9. संख्यावाचक कुछ विशेषणों का उच्चारण इस तरह है- दुइ, तीनि, पान, छा, एगारा, सोरा, ओनइस, एकइस, पंचावन, साठि, सवाउ आदि।
  10. कुछ निराले शब्द भी है, जैसे- आँचर (स्तन), अकलंग (एक ओर), कांध (कंधा), खाँचि (टोकरी), गोड़ (पाँव), पातर (पतला), हाँड़ (हड्डी)।

बघेली[सम्पादन]

अवधी और छत्तीसगढी़ के मध्य में बघेली बोली जाती है। बघेलखंड में, बघेल राजाओं का राज्य था जिसकी राजधानी रीवा थी। रीवा के बाहर बघेली उत्तर प्रदेश की सीमा को छूती है और पश्चिम में दमोह और बाँदा की सीमा को। कुछ विद्वान इसे अवधी की उपबोली मानते हैं।

बघेली भाषा की विशेषताएँ:-

  1. अवधी की अपेक्षा इसमें छत्तीसगढी़ की तरह ' व ' के स्थान पर ' ब ' का प्रयोग होता है; जैसे- आबा (आवा) ।
  2. कारकचिहों में क , के बदले ( का के , कहा को) तथा ते, के लिए ( से के , तार) आदि का प्रयोग होता है।
  3. सर्वनामों के रूप में म्वा, मोहि (मुझे), त्वा, तोहि (तुझे), वाहि (उसको), याहि (इसको) के लिए प्रयोग होता है।
  4. इसमें विशेषणों का निर्माण प्राय:' हा ' प्रत्यय जोडंकर होता है; जैसै- अधिकहा, नीकहा।
  5. इसमें क्रियारूपों में भिन्नताएँ हैं, जैसे- चरामै का (चराने को), देखि कै (देखकर) आदि।

छत्तीसगढी़[सम्पादन]

जिसे इतिहास में दक्षिण कोसल कहा गया है वह वर्तमान समय में छत्तीसगढ़ भूखंड है। चेदि राजाओं के नाम पर इसका नाम चेदीशगढ़ पडा़। उसीसे छत्तीसगढ़ हो गया। इसके अन्तर्गत सरगुजा, कोरिया, बिलासपुर, रायपुर, रायगढ़, खैरागढ़, दुर्ग, नन्दगाँव और काँकर आते हैं। यह बोली अवधी से बहुत मिलती है। जनसंख्या एक करोड़ से ऊपर है।

छत्तीसगढी़ भाषा विशेषताएँ:-

  1. ध्वनिगत विशेषताओं में महाप्राणीकरण की प्रवृति पाई जाती है; जैसे- धौड़ (दौड़), कछेरी (कचहरी), झन (जन), जाथै (जात है।)
  2. इसमें ' स ' के स्थान पर कहीं-कहीं ' छ ' मिलता है; जैसे- छीता (सीता), छींचन (सींचना)।
  3. कर्म-सम्प्रदान का 'ला' परसर्ग और करण-अपादान का 'ले' का प्रयोग, जैसे-ओ ओला कहिस (उसने उसको कहा) ।
  4. इसमें बहुवचन प्राय: 'मन' शब्द लगाने से बनता है; जैसे- टूटा मन (लड़के), हम मन (हम लोग) आदि।
  5. इसमें शिष्ट और अशिष्ट प्रयोगों में भी अन्तर होता है; जैसे- हन (शिष्ट), हवन ( अशिष्ट) ।

संदर्भ[सम्पादन]

१. हिन्दी भाषा-डॉ. हरदेव बाहरी, अभिव्यक्ति प्रकाशन, २०१७, पृ. १७३-२०२