भाषा विज्ञान और हिन्दी भाषा/हिन्दी, हिन्दी प्रदेश और उसकी उपभाषाएँ

विकिपुस्तक से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ

हिन्दी[सम्पादन]

हिन्दी की भाषा का नाम हिन्दी है। इसी अर्थ में फिरदौसी और अलबरूनी (11वीं शती), अमीर खुसरो (14वीं शती) और अबुल फ़जल (17वीं शती), आदि ने हिन्दी शब्द को ग्रहण किया है। अमीर खुसरो ने स्पष्ट शब्दों में कहा कि 'मैं' हिन्दुस्तानी तुर्क हूँ और हिन्दवी में बात करता हूँ। इस बात के अनेक प्रमाण मिलते हैं कि मध्य काल में हिन्दी या हिन्दवी को पूरे भारत की भाषा समझा जाता था; इसीलिए हिन्दी की बोलियों में देहलवी, बंगाली, मुल्तानी, मारवाड़ी, सिन्धी, गुजराती, मरहट्टी, तिलंगी, कर्नाटकी, कशमीरी और विलोचिस्तानी गिनाई जाती रही है, बाद में जान पड़ा कि हिन्दी सार्वदेशिक भाषा नहीं है। तब हिन्दी शब्द का प्रयोग संकुचित अर्थ में अर्थात् मध्य भारत की भाषा के रूप में माना जाने लगा।

हिन्दी प्रदेश[सम्पादन]

हिन्दी ऐतिहासिक दृष्टि से युग-युग की मध्य प्रदेशीय भाषाओं—संस्कृत, पालि, प्राकृत, अपभ्रंश आदि की उत्तराधिकारिणी है। इन सब की संपत्ति—शब्दावली, मुहावरे, लोकोक्तियाँ, साहित्य और साहित्य की विविध विधाएँ इसी भाषा की विरासत में मिली हैं। ये भाषाएँ अपने-अपने यौवन-काल में मध्य देशीय होते हुए भी देश व्यापी रही हैं। वस्तुतः हिन्दी भी सारे देश में व्याप्त है। व्यवहार में यह राष्ट्रभाषा अवश्य है- हिन्दी पूरे हिन्द की भाषा है; परन्तु देश के मध्य से दूर के कुछ लोगों के राजनीतिक स्वार्थों के कारण राज्यों द्वारा इसे राष्ट्रभाषा की मान्यता प्राप्त नहीं हो पाई। इसलिए अभी यह नहीं कहा जा सकता कि हिन्दी का क्षेत्र सारा भारत है। वह मध्य प्रदेश की भाषा है, इससे कोई इनकार नहीं कर सकता। पश्चिम में हरियाणा और पंजाब की सीमा से लेकर पूर्व में बिहार और बंगाल के बीच की सीमा तथा उत्तर तिब्बत, चीन की दक्षिण सीमा से लेकर खंडवा, मध्य प्रदेश की दक्षिण सीमा तक हिन्दी बोली जाती है। इस लंबे-चौडे़ क्षेत्र के अंतर्गत हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, उत्तर प्रदेश, दिल्ली, राजस्थान, मध्य प्रदेश और बिहार सम्मिलित है। इस पूरे क्षेत्र को ही हिन्दी प्रदेश कहते हैं। हिन्दी प्रदेश के बाहर भी, किन्हीं दूर-दराज के पहाड़ी और जंगली इलाकों को छोड़कर सारे भारत में, हिन्दी बोली-समझी जाती है।

भारत की भाषाओं पर बहुत व्यापक और सर्वाधिक कार्य करने वाले विद्वान सर जॉर्ज ग्रियर्सन ने बिसवीं शताब्दी के शुरू में हिन्दी का क्षेत्र अम्बला, पंजाब से लेकर पूर्व में बनारस तक और उत्तर में नैनीताल की तलहटी से लेकर दक्षिण में बालाघाट (मध्य प्रदेश) तक निश्चित किया था। इधर पचास वर्षों में ये सम्बन्ध अधिक स्पष्ट और स्थायी हो गया कि बिहारी, राजस्थानी, और पहाड़ी बोलियाँ भी हिन्दी के अंतर्गत हैं। आज यदि वे जीवित होते तो उन्हें यह स्वीकार करना पड़ता। धार्मिक, सांस्कृतिक, साहित्यिक, राजनीतिक, आर्थिक परिस्थितियों ने हिन्दी को एक बहुत बड़े क्षेत्र में फैलने का अवसर दिया। इन क्षेत्रों में मारवाड़ी-जयपुरी आदि (राजस्थान) में, मगही-मैथिली (बिहार) मे और कुमाउनी-गढ़वाली (उत्तर प्रदेश) बोलियाँ तो है—मारवाड़ी और मैथिली अत्यंत समृद्ध भी हैं, किन्तु भाषाओं में इनका नाम नहीं गिना जाता—सब की भाषा हिन्दी ही है। इनकी अपनी कोई लिपि नहीं, साहित्य की कोई दीर्घ परम्परा नहीं, शासन द्वारा कोई मान्यता प्राप्त नहीं कोई मानक, स्वरूप नहीं, कोई सामान्य व्याकरण नहीं। अपनी पुस्तक 'राजस्थानी भाषा' में सुप्रसिद्ध भाषा विज्ञानी डॉ. सुनीतिकुमार चैटर्जी ने राजस्थानी को हिन्दी कहा है। किन्तु बिहारी के बारे में कारणवश मौन रहे। कलकत्ता के लोग, राजस्थानी को 'मारवाड़ी हिन्दी' कहते हैं और बम्बई तथा पंजाब में बिहारी का नाम 'पूर्बिया हिन्दी' प्रचलित है। पहाड़ी के बारे में ग्रियर्सन ने बहुत पहले कबूल किया था कि पहाड़ी नाम की कोई भाषा नहीं है, केवल वर्गीकरण की सुविधा के लिए यह नाम कल्पित किया गया है। लोकमत और व्यवहार की दृष्टि से मध्य पहाड़ी-गढ़वाली और कुमाउनी-हिन्दी की बोलियाँ हैं। संविधान में भी राजस्थानी, बिहारी या पहाड़ी नाम की कोई 'भाषा' नहीं गिनाई गई।

हिन्दी की उपभाषाएँ[सम्पादन]

ऐतिहासिक और भौगोलिक दृष्टि से इस भूखण्ड में पाँच प्राकृतें थीं—अपभ्रंश, सौरसेनी, अर्धमागधी, मागधी और खस। इन्हीं प्राकृतों से पाँच अपभ्रंशों और फिर उनसे हिन्दी की पाँच उपभाषाओं—राजस्थानी हिन्दी, पश्चिमी हिन्दी, पूर्वी हिन्दी, बिहारी हिन्दी और पहाड़ी हिन्दी का विकास हुआ।

राजस्थानी हिन्दी[सम्पादन]

यह उपभाषा सारे राजस्थान में, सिंध के कोने में और मलावा जनपद में बोली जाती है। वर्तमान समय में राजस्थानी बोलने वालों की संख्या चार करोड़ के लगभग है। एक युग में राजस्थानी साहित्य का बोलबाला था। चन्दबरदाई, दुरसाजी, बांकीदास, मुरारीदान, सूर्यमल्ल आदि बड़े-बड़े प्रतिभाशाली कवियों के नाम प्रसिद्ध हैं। बीसलदेव रासो के 'ढोला मारूरा दूहा और बेलि क्रिसन रूक्मिणी री' आदि गौरव ग्रंथ हैं। मीरा, दादू, चरण दास, हरिदास आदि संत कवियों की वाणियाँ भी भाषा की दृष्टि से महत्वपूर्ण हैं। गद्य साहित्य में बचनिकाओं, ख्यातों की अपनी विशाल परम्परा हैं। अधिकतर साहित्य मारवाड़ी में लिखा गया है।थौडा़-बहुत जयपुरी में भी प्राप्त है। हिन्दी की तुलना में राजस्थानी व्याकरण की निम्नलिखित विशेषताएँ हैं- पुल्लिंग एकवचन ओकारांत जैसे- तारो, हुक्को, धारो; बहुवचन और तिर्यक् एकवचन आकारांत होता है जैसे- तारा(कई तारे), हुक्का(अनेक हुक्के), पुल्लिंग और स्त्रीलिंग के बहुवचन के अंत में आँ होता है, जैसे- ताराँ, बादलाँ। हिन्दी 'को' के स्थान पर नै, से के स्थान पर सूँ और का, के, की के स्थान पर रो, रा, री होता है।

बिहारी[सम्पादन]

बिहारी की चार प्रमुख बोलियाँ हैं- भोजपुरी, मागधी, मैथिली और अंगिका। इनका एक वर्ग मानकर उन्हें बिहारी नाम दिया गया है। इन बोलियों में वैषम्य अधिक और समानता कम है। इनमें जो सामान्य तत्व हैं भी, वे प्रायः सब पूर्वी हिन्दी में भी पाये जाते हैं, और जो भिन्न हैं वे बिहारी को एक अलग भाषा और एक सुगठित इकाई बनाने में बाधक हैं। मैथिली को छोड़कर बिहारी बोलियों का साहित्य प्रमुखतः लोक से सम्बन्ध है। कुछ वर्षों से भोजपुरी और अंगिका में साहित्यिक गतिविधि बढ़ने लगी है और अपनी-अपनी बोली के प्रति आस्था पनप रही है। बिहारी पूर्वी हिन्दी की अपेक्षा कुछ अधिक व्यंजनांत भाषा है; जैसे: घोड़ा, भल, देखित। अक्षर के अंत में, कुछ विशिष्ट परिस्थितियों को छोड़कर संस्कृत की तरह अ उच्चारण होता है; जैसे: "कमला" → "कमअ्ल"।

पहाड़ी हिन्दी[सम्पादन]

इसके अंतर्गत गढ़वाली और कुमाउनी हैं। इन बोलियों पर मूलतः तिब्बत, चीनी और खस जाति की अनार्य भाषाओं का प्रभाव रहा है। धीरे-धीरे इन पर व्रजभाषा और अन्य भारतीय आर्य भाषाओं का प्रभाव बढ़ता गया है और अनार्य तत्व क्षीण होते गये हैं। इसके फलस्वरूप ये बोलियाँ हिन्दी के अधिक निकट हो गयी हैं। पहाड़ी हिन्दी की कोई साहित्यिक परम्परा नहीं हैं। अतः इसे उपभाषा कहने में भी संकोच होता है, किंतु यह हिन्दी का एक विशिष्ट उपवर्ग अवश्य है। कुल जनसंख्या पचास लाख से अधिक नहीं है। इस उपवर्ग की हिन्दी में सानुनासिक स्वरों की अधिकता है। सभी स्वर और व्यंजन ध्वनियाँ राजस्थानी से मिलती-जुलती हैं। व्याकरण की दृष्टि से ये ओकारबहुला बोलियाँ हैं, जैसे- संज्ञा शब्द 'घोड़ो', विशेषण 'कालो', क्रिया 'चल्यो'। पुल्लिंग एकवचन में ओ का बहुवचन आ अथवा कुमाउनी में न और गढ़वाली में 'ऊँ' होता है, जैसे- 'घोड़ा', 'घोड़न', 'घोड़ूँ'।

पश्चिमी हिन्दी[सम्पादन]

इस उपभाषा का क्षेत्र पश्चिम में अम्बला से लेकर पूर्व में कानपुर की पूर्वी सीमा तक, एवं उत्तर में जिला देहरादून से दक्षिण में मराठी की सीमा तक चला गया है। इस क्षेत्र के बाहर दक्षिण में महाराष्ट्र, तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश, कर्नाटक और केरल के प्रायः मुसलमानी घरों में पश्चिमी हिन्दी का ही एक रूप दक्खिनी हिन्दी व्याप्त है। इस उपभाषा के बोलने वालों की संख्या छह करोड़ से कुछ ऊपर है। साहित्यिक दृष्टि से यह उपभाषा बहुत संपन्न है। दक्खिनी हिन्दी व्रजभाषा और आधुनिक युग में खड़ी बोली हिन्दी का विशाल साहित्य मिलता है। सूरदास, नन्ददास, भूषण, देव, बिहारी, रसखान, भारतेंदु, और रत्नाकर आदि के नाम सर्वविदित हैं। खड़ी बोली की परम्परा भी लम्बी है। अमीर खुसरो से लेकर भारतेंदु हरिश्चन्द्र और उनके युग के साहित्यकारों, महावीर प्रसाद द्विवेदी, छायावादी और प्रगतिवादी तथा अद्यतन साहित्यकारों ने खड़ी बोली हिन्दी को विकसित करने में बहुमूल्य योगदान दिया। पश्चिमी हिन्दी में उच्चारणगत खड़ापन है, अर्थात् तान में थोड़ा आरोह होता है। अ विकृत है। ऐ, औ मूल स्वर है, जैसे- बैल,। 'ड़' की अपेक्षा 'ड' और 'न' की अपेक्षा 'ण' अधिक बोला जाता है।

पूर्वी हिन्दी[सम्पादन]

पूर्वी हिन्दी का वही क्षेत्र है जो प्राचीन काल में उत्तर कोसल और दक्षिण कोसल था। यह क्षेत्र उत्तर से दक्षिण तक दूर-दूर तक चला गया है। इसके अंतर्गत उत्तर प्रदेश में अवधी और मध्य प्रदेश में बघेली तथा छत्तीसगढ़ी का सारा क्षेत्र आता है; अर्थात् कानपुर से मिर्ज़ापुर तक और लखीमपुर की उत्तरी सीमा से दुर्ग, बस्तर की सीमा तक क्षेत्र में पूर्वी हिन्दी बोली जाती है। बोलने वालों की संख्या पाँच करोड़ के लगभग है। अवधी में भरपूर साहित्य मिलता है। मंझन, जायसी, उस्मान, नूरमुहम्मद आदि सूफी कवियों का काव्य ठेठ अवधी में और तुलसी, मानदास, बाबा रामचरण दास, महाराज रघुराज सिंह आदि का रामकाव्य साहित्यिक अवधी में लिखा गया है। इस वर्ग की तीन बोलियाँ है- अवधी, बघेली और छत्तीसगढ़ी। सामान्यता की दृष्टि से जितना घनिष्ठ संबंध इनमें है, उतना हिन्दी की अन्य उपभाषाओं में नहीं है। ण की जगह सदा न, और श, ष, की जगह सदा स बोला जाता है। और ल की स्थान पर र का प्रयोग होता है।

सन्दर्भ[सम्पादन]

  1. हिन्दी भाषा — डॉ. हरदेव बाहरी। अभिव्यक्ति प्रकाशन, 2017, पृष्ठ: 68-173