हिंदी साहित्य का इतिहास (रीतिकाल तक)/हिंदी साहित्य : काल विभाजन और नामकरण

विकिपुस्तक से
Jump to navigation Jump to search

प्रत्येक इतिहास में अतीतकाल का अध्ययन किया जाता है और अध्ययन की सुविधा के लिए अतीत काल को कई कालखंडों या युगों में बांट दिया जाता है। प्रत्येक काल को किसी - न - किसी नाम से पुकारा जाता है। इसी प्रक्रिया को काल - विभाजन और नामकरण कहां जाता है।

काल विभाजन का एक सुसंगत आधार समाज में उत्पादन संबंधों का बदलना भी है। साहित्य के इतिहास का काल विभाजन जिस समाज के साहित्य का वह इतिहास है उस समाज के उत्पादन संबंधों के परिवर्तन के अनुसार ही होना चाहिए।