प्रार्थना/मानवता के मनन मन्दिर में

विकिपुस्तक से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ

मानवता के मनन मन्दिर में
ज्ञान का दीप जला दो
करुना निधान भगवान् मेरे
भारत को स्वर्ग बना दो

करुना निधान भगवान् मेरे
भारत को स्वर्ग बना दो

दुःख दरिद्द्रता का नाश करो
मानव के कष्ट मिटा दो
अमृत की वर्षा बरसाकर
भूख की आग मिटा दो
खेतों में हरियाली भर दो
धान के ढेर लगा दो

करुना निधान भगवान् मेरे
भारत को स्वर्ग बना दो

मानवता के मनन मन्दिर में
ज्ञान का दीप जला दो
करुना निधान भगवान् मेरे
भारत को स्वर्ग बना दो

नव प्रभात फिर महक उठे
मेरे भारत की फुलवारी
सब हो एक समान जगत में
कोई न रहे भिखारी
एक बार माँ वसुंधरा को
नव श्रृंगार करा दो

करुना निधान भगवान् मेरे
भारत को स्वर्ग बना दो